ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री की दो टूक, कहा- आईपीएल में भाग ले रहे खिलाड़ियों को स्वदेश लौटने का खुद इंतजाम करना होगा

ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री की दो टूक, कहा- आईपीएल में भाग ले रहे खिलाड़ियों को स्वदेश लौटने का खुद इंतजाम करना होगा

ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री की दो टूक, कहा- आईपीएल में भाग ले रहे खिलाड़ियों को स्वदेश लौटने का खुद इंतजाम करना होगा

मेलबर्न: ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने मंगलवार को कहा कि आईपीएल में भाग ले रहे उनके देश के क्रिकेटरों को स्वदेश लौटने के लिए अपना इंतजाम खुद करना होगा. ऑस्ट्रेलिया ने इससे पहले भारत में कोरोना वायरस महामारी की घातक दूसरी लहर के मद्देनजर भारत से आने वाली सभी उड़ानों पर 15 मई तक प्रतिबंध लगा दिया था.

पीएम ने कहा- वे अपनी व्यवस्था के अनुसार ऑस्ट्रेलिया लौटेंगेः
मौरिशन ने ‘द गार्जियन’ अखबार से कहा कि वे वहां निजी यात्रा पर गए हैं. यह किसी ऑस्ट्रेलियाई दौरे का हिस्सा नहीं है. वे अपने स्वयं के संसाधनों से वहां पहुंचे है, वे उन संसाधनों का भी उपयोग कर रहे हैं. मुझे यकीन है, वे अपनी व्यवस्था के अनुसार ऑस्ट्रेलिया लौटेंगे.

ऑस्ट्रेलिया के कई खिलाड़ियों ने आईपीएल छोड़ने का लिया फैसलाः
ऑस्ट्रेलिया के तीन खिलाड़ी एंड्रयू टाइ, केन रिचर्डसन और एडम जम्पा भारत में स्वास्थ्य संकट के बढ़ने के करण आईपीएल को छोड़ने का फैसला किया. भारत में प्रतिदिन तीन लाख से अधिक नये मामले दर्ज हो रहे हैं और 2,000 से अधिक मौतें हो रही हैं. ऑस्ट्रेलिया के 14 खिलाड़ी अभी लीग में हैं. उनके अलावा कोच रिकी पोंटिंग और साइमन कैटिच, कमेंटेटर मैथ्यू हेडन, ब्रेट ली, माइकल स्लेटर और लीजा स्टालेकर भी यहां हैं.

क्रिस लिन ने सीए से किया विशेष विमान से वतन वापसी की व्यवस्था करने का आग्रहः
मुंबई इंडियन्स के बल्लेबाज क्रिस लिन ने क्रिकेट आस्ट्रेलिया (सीए) से आईपीएल समाप्त होने के बाद खिलाड़ियों के स्वदेश लौटने के लिए विशेष विमान की व्यवस्था करने का आग्रह किया है. आईपीएल के लीग मैच 23 मई को समाप्त होंगे जबकि फाइनल 30 मई को अहमदाबाद में खेला जाएगा. क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने हालांकि इस मामले में अभी और इंतजार करने का फैसला किया है.

आईपीएल  में शामिल सभी लोगों से संपर्क में सीएः
क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया और ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर संघ ने संयुक्त बयान में कहा कि वे आईपीएल में शामिल अपने क्रिकेटरों, कोचों और कमेंटेटरों के संपर्क में हैं और हालात पर नजर रखे हुए हैं. उन्होंने कहा कि हम भारत में मौजूद लोगों से फीडबैक लेते रहेंगे और ऑस्ट्रेलिया सरकार को सलाह देंगे. इस कठिन समय में हमारी संवेदनायें भारत के लोगों के साथ हैं.
सोर्स भाषा

और पढ़ें