जयपुर VIDEO: राजस्थान में हर रोज हो रहे औसतन 67 सड़क हादसे, बड़ी संख्या में जा रही लोगों की जान, देखिए ये खास रिपोर्ट

VIDEO: राजस्थान में हर रोज हो रहे औसतन 67 सड़क हादसे, बड़ी संख्या में जा रही लोगों की जान, देखिए ये खास रिपोर्ट

जयपुर: प्रदेश में हर रोज औसतन 32 लोगों की जान सड़क दुर्घटना में जा रही है, साथ ही 66 लोग हर रोज सड़क हादसों में घायल भी हो रहे हैं. बीते वर्ष के मुकाबले इस वर्ष 30 जून तक प्रदेश में 1955 सड़क दुर्घटनाएं अधिक हुई हैं जिनमें करीब 1000 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है.

देशभर में सड़क दुर्घटनाओं में जान गंवाने वाले लोगों का आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है राजस्थान भी इससे अछूता नहीं है राजस्थान में भी हर रोज बड़ी संख्या में सड़क दुर्घटनाओं में लोग अपनी जान गवा रहे हैं. प्रदेश में रोज किसी न किसी इलाके से रोज भीषण और सामान्य सड़क दुर्घटनाओं की खबरें आती रहती हैं. चिंता की बात यह है कि इस वर्ष राजस्थान में पिछले वर्ष के मुकाबले सड़क दुर्घटनाओं में इजाफा हुआ है. सरकार और परिवहन एवं सड़क सुरक्षा विभाग के तमाम प्रयासों के बावजूद सड़क दुर्घटनाओं में इजाफा होना प्रदेश के लिए चिंता की बात है. प्रदेश में सड़क दुर्घटनाओं का ग्राफ कितनी तेजी से बढ़ रहा है इसका अंदाजा इसी आंकड़े से लगाया जा सकता है कि राज्य में हर दिन औसतन 67 सड़क दुर्घटनाएं हो रही हैं जिनमें हर रोज 32 व्यक्तियों की मृत्यु और 66 लोग घायल हो रहे हैं. सड़क हादसों के कारण प्रदेश में हर रोज 30 से अधिक लोग अकाल मृत्यु का शिकार हो रहे हैं. बीते वर्ष 30 जून तक प्रदेश में जितनी सड़क दुर्घटना हुई थी उससे 1955 अधिक सड़क दुर्घटनाएं इस वर्ष के 30 जून तक प्रदेश में हुई हैं, परिवहन विभाग से मिली एक्सक्लूसिव आंकड़ों में यह भी पता चला है कि अधिकतर सड़क हादसे जब हो रहे हैं जब व्यक्ति अपने घर से 5 या 25 मिनट की दूरी पर है इसका मतलब यह है कि लोग घर पहुंचने की जल्दबाजी में सड़क हादसों का शिकार हो रहे हैं, इसके साथ ही नशे में गाड़ी चलाना और ओवरस्पीडिंग सड़क हादसों का सबसे बड़ा कारण है.

सड़क दुर्घटनाओं के बढ़ते आंकड़ों ने सरकार और परिवहन विभाग की नींद उड़ा दी है. क्योंकि पूरे देश में राजस्थान उन राज्यों में शामिल हो गया है जहां अधिक सड़क दुर्घटनाएं हो रही हैं और बड़ी संख्या में लोगों की जान भी जा रही है, परिवहन एवं सड़क सुरक्षा विभाग ने बीते दिनों सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए कई अभियान भी चलाए हैं लेकिन सच्चाई यह है कि यह अभियान सिर्फ खानापूर्ति बनकर ही रह गए हैं धरातल पर इन अभियानों का कोई असर नजर नहीं आ रहा है.

अब आपको ग्राफिक्स से दिखाते हैं सड़क दुर्घटनाओं से जुड़े कुछ खास आंकड़े

1 - 30 जून 2021 तक प्रदेश में 10111 सड़क दुर्घटनाएं हुई थी.

2- 30 जून 2022 तक प्रदेश में 12066 सड़क दुर्घटनाएं हो चुकी हैं.

3- 30 जून 2021 तक सड़क दुर्घटनाओं से घायल होने वाले लोगों की संख्या प्रदेश में 9388 थी.

4- 30 जून 2022 तक सड़क हादसों में घायलों की संख्या का आंकड़ा बढ़कर 11885 तक पहुंच गया है

5- 30 जून 2021 तक 4755 लोगों सड़क हादसों में जान गवाई थी.

6- 30 जून 2022 तक 5727 लोगों की जान1 सड़क दुर्घटना में गयी है.

अब आपको दिखाते हैं उन 10 दिनों के नाम जहां इस साल 30 जून तक सबसे अधिक दुर्घटनाएं हुई हैं और लोगों की जान गई है.

1- जयपुर जिले में 1930 तक दुर्घटना हुई है जिनमें 638 लोगों की जान गई है.

2- उदयपुर जिले में 677 दुर्घटनाएं हुई हैं जिनमें 340 लोगों की मौत हुई है.

3- अलवर जिले में 711 सड़क हादसे हुए हैं जिनमें 289 लोग काल का शिकार बने हैं.

4- अजमेर में 631 सड़क हादसों में 283 लोगों की मौत हुई है.

5- जोधपुर में 589 सड़क हादसे हुए हैं 289 लोगों की मौत हुई है.

6- सीकर जिले में 504 सड़क हादसों में 231 लोगों की मौत हुई है.

7- भीलवाड़ा में 489 सड़क हादसे हुए हैं जिनमें 229 लोगों ने अपनी जान गवाई है.

8- बाड़मेर जिले में 337 सड़क हादसों में 224 लोगों की मौत हुई है.

9- नागौर में 366 सड़क हादसे हुए हैं 221 लोगों की जान गई है.

10- भरतपुर जिले में 375 सड़क हादसों में 209 लोगों की मौत हुई है.

और पढ़ें