आयुष सारण बने बाड़मेर के पहले पैरा कमीशंड ऑफिसर

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/06/10 01:59

बाड़मेर। बाड़मेर की मरुस्थली धरती जवानों की बहादूरी और साहस के लिए हमेशा से ही प्रसिद्ध रही है। अब इस धरती से सेना में अधिकारी के रूप में भी दस्तख दे दी है। यह कारनामा कर दिखाया है बाड़मेर जिले के नेहरों की ढाणी सिणधरी के राजूराम सारण और हीरों देवी के बेटे लेफ्टिनेंट आयुष सारण ने। 

आयुष जिले के वो प्रथम व्यक्ति है जो पैरा में कमीशंड ऑफिसर बने है। दरअसल इंडियन मिलिट्री एकेडमी देहरादून में आयोजित पासिंग आउट परेड में चार वर्ष की कड़ी ट्रेनिंग के बाद आयुष को लेफ्टिनेंट की रैंक प्रदान की गई। दीक्षांत समारोह के मुख्य अतिथि नेपाल के सेनाध्यक्ष जनरल राजेन्द्र चेती थे। पाइपिंग सेरेमनी के दौरान आयुष सारण की माता हीरों देवी और पिताजी राजूराम सारण बाड़मेर की पारंपरिक वेशभूषा में थे। 

पाकिस्तान से लगी सीमा के जिले और निरक्षर किसान के बेटे द्वारा ऑफिसर बनने की खुशी में आईएमए तमाम अधिकारी उत्साहित होकर बधाईयाँ दे रहे थे। इतना ही नहीं आयुष सारण बाड़मेर में पढ़ाई के दौरान स्वयं मजदूरी करके खर्च वहन करता था। कभी कभार ट्रक खाली करता तो कभी कमठे पर जाया करता था। गौरतलब है कि पैरा स्पेशल फोर्स भारतीय सेना की सर्वोच्च लड़ाकू और खतरनाक टास्क को अंजाम देने वाली मानी जाती है। मुम्बई आतंकी हमले, सर्जिकल स्ट्राइक और उड़ी हमले में पैरा ने अद्भुत पराक्रम का परिचय भी दिया था।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

थम गई सरिस्का के बाघ ST-4 की साँसे

रूस के पायलेट उड़ाएँगे भारत के विमान, जोधपुर मेँ अवींद्र ड्रिल आज से
श्री गंगानगर के करणपुर के बूथ नंबर 163 पर आज पुनर्मतदान
थम गई सरिस्का के बाघ ST-4 की साँसे
रूस के पायलेट उड़ाएँगे भारत के विमान, जोधपुर मेँ अवींद्र ड्रिल आज से
छ बार वर्ल्ड चैम्पियन रही मेरीकॉम की नजर अब अगले ओलंपिक पर
छ बार वर्ल्ड चैम्पियन रही मेरीकॉम की नजर अब अगले ओलंपिक पर
में एग्जिट पोल्स पर भरोसा नहीं करता-दिग्विजय सिंह
loading...
">
loading...