भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा का आरोप, कहा-ममता संविधान की रक्षा करने में विफल रहीं

भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा का आरोप, कहा-ममता संविधान की रक्षा करने में विफल रहीं

भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा का आरोप, कहा-ममता संविधान की रक्षा करने में विफल रहीं

केतुग्राम (पश्चिम बंगाल): केंद्रीय बलों का घेराव करने संबंधी बयान के लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की आलोचना करते हुए भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने शुक्रवार को आश्चर्य व्यक्त किया कि वह कैसे इतने वर्षों से प्रशासन चला रही हैं. पूर्वी वर्द्धमान जिले में यहां एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए भाजपा अध्यक्ष ने ममता बनर्जी पर आरोप लगाया कि वह संविधान की रक्षा करने में विफल रही हैं.

नड्डा ने सीएम पर महिलाओं की सुरक्षा के लिए कोई कदम न उठाने का लगाया आरोपः
मुख्यमंत्री पर महिलाओं की सुरक्षा के लिए कोई भी कदम नहीं उठाने का आरोप लगाते हुए नड्डा ने कहा कि राज्य में बलात्कार की घटनाओं, तेजाब हमले और घरेलू हिंसा के ‘‘सर्वाधिक’’ मामले हैं. उन्होंने कहा कि सत्ता में आने के बाद से ही वह मां, माटी और मानुष की बात करती रही हैं. क्या हुआ मां का? पश्चिम बंगाल में बलात्कार, तेजाब हमले और घरेलू हिंसा के सबसे अधिक मामले हैं. उनकी सरकार केंद्र सरकार को अपराध के आंकड़े नहीं भेजती है. अब स्पष्ट हो गया है कि वह आंकड़े क्यों नहीं भेजतीं.’’ 
 
बिचौलिए पर किसानों का शोषण करने का लगाया आरोपः
राज्य में कृषि संबंधित ढांचा विकसित नहीं करने का मुख्यमंत्री पर आरोप लगाते हुए नड्डा ने कहा कि यह क्षेत्र धान और आलू की उपज के लिए जाना जाता है लेकिन यहां के किसानों को उनकी उपज का पारिश्रमिक भी नहीं मिल पाता है. तृणमूल कांग्रेस पर हमला करते हुए उन्होंने पूछा कि राज्य में कितने कोल्ड स्टोरेज और वेयरहाउस हैं. बिचौलिए किसानों का शोषण कर रहे हैं. राज्य में सिंचाई की भी कोई व्यवस्था नहीं है. नड्डा ने आयुष्मान भारत योजना जैसी केंद्रीय योजनाओं से राज्य के लोगों को वंचित रखने का आरोप लगाते हुए कहा कि सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के नेताओं ने तो अम्फान तूफान की मुआवजा राशि में भी घोटाला कर डाला.

नड्डा  का वादा, भाजपा के आने के बाद वसूली, तुष्टिकरण की राजनीति और कटमनी की संस्कृति से निजात दिलाएगीः
केंद्रीय सुरक्षा बलों का ‘‘घेराव करने’’ संबंधी ममता बनर्जी के बयान का जिक्र करते हुए नड्डा ने कहा कि यदि यह उनका बयान है तो मुझे आश्चर्य होता है कि उन्होंने इतने वर्षों तक प्रशासन कैसे चलाया. संविधान की रक्षा करना कर्तव्य है लेकिन वह ऐसा नहीं कर सकीं. उन्होंने कहा कि यदि भाजपा सत्ता में आती है तो वह राज्य के लोगों को वसूली, तुष्टिकरण की राजनीति, तानाशाही और कटमनी की संस्कृति से निजात दिलाएगी. उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि राज्य में इस बार भाजपा की ही सरकार बनेगी. उन्होंने कहा कि नव वर्ष में राज्य के लोग असली परिवर्तन का एहसास करेंगे.
सोर्स भाषा
 

और पढ़ें