राजस्थान चुनावों पर भाजपा के चाणक्य की पैनी नज़र...

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/12/06 07:44

जयपुर। राजस्थान में चुनाव प्रचार का शोर थमने के बाद भाजपा के चाणक्य ने स्टार प्रचारक होने के नाते राजस्थान की धरती को अलविदा कह दिया। लेकिन मतदान दिवस के आखिरी मौके तक उनकी परदे के पीछे से राजनीति जारी है। भाजपा के चाणक्य अमित शाह भले ही राजस्थान और तेलंगाना की सीमा में ना हों लेकिन यहां की प्रत्येक राजनीतिक गतिविधि पर उनकी नजर है। वे अपने सिपहसालारों के संपर्क में हैं और लगातार उन्हें दिशा निर्देश दे रहे हैं।

चुनाव प्रचार का शोर थमने के ठीक पहले तक उन्होंने दोनों राज्यों में जीत के लिए पूरी तरह का जोर लगाया। बुधवार को जयपुर में प्रेस कांफ्रेंस और अजमेर में रोड शो करने के बाद वे राजस्थान में जीत के लिए पूरी तरह आश्वस्त नजर आए। दरअसल उन्हें राजस्थान से इस बार बहुत आशा है। उनका मानना है कि उनकी रणनीति और कार्यकर्ताओं की मेहनत प्रदेशवासियों के मन में बसी इस छवि को निकालने में कामयाब रहे हैं कि राजस्थान में एक बार कांग्रेस और एक बार भाजपा का राज आता है। शाह का दावा है कि इस बार लगातार दूसरी बार भाजपा सीएम वसुंधरा के नेतृत्व में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाएगी।

अमित शाह भाजपा के चाणक्य माने जाते हैं। लेकिन भाजपा के चाणक्य शाह अपनी कामयाबी की असल वजह मानते हैं देवाधिदेव परमपिता परमात्मा को, और यही कारण है कि चुनाव संचालन की भागमभाग से फुरसत मिलते ही गुरूवार को वे अपने परम आराध्य गुजरात में सोमनाथ बाबा की शरण में पहुंचे। शाह ने सोमनाथ मंदिर में सपरिवार विधिविधान से पूजा अर्चना की और सोमनाथ बाबा से चुनावों में जीत का क्रम बरकरार रखने का आशीर्वाद मांगा। यहां उन्होंने एक रोप-वो का भी शिलान्यास किया। दरअसल शाह सोमनाथ मंदिर ट्रस्ट में पदाधिकारी हैं और सोमनाथ बाबा में उनकी गहरी आस्था है। अक्सर वे यहां आते हैं और पूजा-अर्चना कर बाबा सोमनाथ का आशीर्वाद लेते हैं। 

भाजपा के चाणक्य अमित शाह अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए आखिरी घड़ी तक अपनी ताकत लगाने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ते, चाहे वो चुनाव जीतने के व्यूह रचना करने की बात हो या फिर मतदाता से झोली फैलाकर वोट मांगने की। इन सबके बाद परमपिता की शरण में झोली फैलाकर जीत का आशीर्वाद मांगना भी उनका चिर-परिचित अंदाज है। देखना दिलचस्प होगा कि बाबा सोमनाथ पांच राज्यों के चुनाव में कितने राज्य उनकी झोली में डालेगा।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

Big Fight Live | \'सम्राट\' अशोक, \'पायलट\' सचिन\' | 14 DEC, 2018

राफेल डील: रणदीप सुरजेवाला ने की JPC जांच की मांग
राफेल पर मोदी सरकार को बड़ी राहत, राफेल सौदे पर कोई संदेह नहीं : CJI
संसद हमले की 17वीं बरसी पर शहीदों को देश कर रहा है याद
गजेंद्र सिंह शेखावत पहुंचे जयपुर, मीडिया से की खास बातचीत
मध्यप्रदेश में ही रहेंगे \'मामा\'
मणिपुर के जज के हिन्दू राष्ट्र वाले बयान पर सियासी घमासान
मध्यप्रदेश में कांग्रेस जीत गई लेकिन दिग्गज हार गए
loading...
">
loading...