Live News »

थानागाजी गैंगरेप के विरोध में BJP का प्रदर्शन, राज्यपाल को दिया ज्ञापन

थानागाजी गैंगरेप के विरोध में BJP का  प्रदर्शन, राज्यपाल को दिया ज्ञापन

जयपुर। अलवर के थानागाजी में हुई दलित महिला के साथ दुष्कर्म की घटना के विरोध में आज बीजेपी ने प्रदेश मुख्यालय से सिविल लाइंस फाटक तक विरोध प्रदर्शन कर अपना विरोध जताया। इस मौके पर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष समेत तमाम बीजेपी पदाधिकारी और कार्यकर्ता इस प्रदर्शन में शामिल हुए और सिविल लाइंस फाटक पर पहुंचकर सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन दर्ज कराया। 

अलवर के थानागाजी में हुई दुष्कर्म की घटना अब सियासत का हथियार बन गया है। राजस्थान में महिलाओं से दुष्कर्म की घटनाओं के विरोध में आज बीजेपी ने प्रदेश मुख्यालय से सीविल लाइंस फाटक तक विरोध प्रदर्शन किया और राज्यपाल को इस घटना के संबंध में ज्ञापन भी दिया हैं। बीजेपी ने इस मामले में राजस्थान सरकार को फेल करार दिया है। 

कांग्रेस को घटना की जिम्मेदारी लेनी चाहिए
बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष मदनलाल सैनी ने कहा कि भाजपा सरकार में इस तरह की घटनाएं होने पर भाजपा सरकार ने त्वरित कार्रवाई करते हुए आरोपियों को फांसी की सजा तक सुनाई है। कांग्रेस सरकार को राजस्थान में इस घटना की जिम्मेदारी लेनी चाहिए ओर दोषियों के खिलाफ कार्यवाही करनी चाहिए। 

थानागाजी दुष्कर्म मामले ने राजस्थान को किया झकझोर
मालवीय नगर विधायक कालीचरण सराफ ने कहा प्रदेश में नारी उत्पीड़न और दुष्कर्म की घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही है। सरकार को कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए और प्रदेश में शांतिपूर्ण वातावरण बनी रहे इसके लिए विपक्षी दल भाजपा जनता पार्टी ने आज यह प्रदर्शन किया। थानागाजी दुष्कर्म मामले में राजस्थान को झकझोर दिया है हालांकि यह कहते हुए विधायक कालीचरण सराफ की जबान भी फिसल गई जब उन्होंने वीडियो को रील बता दिया उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेताओं की इशारे पर इस घटना को लंबे समय तक दबाए रखा जबकि यह घटना 26 अप्रैल की यह घटना है, क्योंकि 6 मई को राजस्थान में कई जगह चुनाव थे इसलिए इस घटना को कांग्रेस ने जानबूझकर दबाए रखा। 

वहीं विधायक कालीचरण सराफ ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि अलवर में जिस मौजूदा एसपी को लगाया गया है उसकी छवि भी दागदार है। प्रशासन ने जानबूझकर ऐसे एसपी को वहां लगाया है ताकि सरकार की पूरी मदद की जा सके। 

और पढ़ें

Most Related Stories

Rajasthan Corona Update: एक दिन में 47 नए मामले सामने आए, 254 हुई पॉजिटिव मरीजों की संख्या

जयपुर: राजस्थान में कोरोना पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा लगातार बढ़ता ही जा रहा है. प्रदेश में आज 47 नए केस सामने आए है. जिसमें 39 केस जयपुर में सामने आए हैं. वहीं इससे पहले आज अलसुबह कोरोना पॉजिटिव रामगंज निवासी 82 वर्षीय बुजुर्ग ने SMS अस्पताल में दम तोड़ दिया है. हालांकि बुजुर्ग की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट उसकी मौत के बाद सामने आई है. वहीं प्रदेश में अब तक कोरोना वायरस की वजह से 5 लोगों की मौत हो चुकी है.

Coronavirus Updates: देशभर में 3300 से अधिक लोग हुए संक्रमित, देशभर में 274 जिले प्रभावित- स्वास्थ्य मंत्रालय

राजस्थान में कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या 254:
आज दौसा में 2 संक्रमित पाए गए है. इसके अलावा झुंझुनूं, नागौर और टोंक में भी एक-एक केस पॉजिटिव मिला है. इसके अलावा जोधपुर में ईरान से आए तीन लोग संक्रमित मिले हैं. जिसके बाद राजस्थान में कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या 254 पहुंच गई.

प्रदेश के 20 जिलों में कोरोना वायरस अपने पैर पसार चुका:
प्रदेश के 20 जिलों में कोरोना वायरस अपने पैर पसार चुका है. सबसे ज्यादा मामले राजधानी जयपुर में मिले हैं. यहां अब तक 94 (2 इटली के नागरिक) पॉजिटिव सामने आए हैं. वहीं इसके बाद जोधपुर में 48 (इसमें 31 ईरान से आए) दूसरे नंबर पर है.  भीलवाड़ा में सरकार के प्रयासों के चलते स्थिती नियंत्रण में आ गई है, वहां पर 27 पॉजिटिव के साथ मरीजों की संख्या स्थिर बनी हुई है. 

खुशखबरी: शोधकर्ताओं का दावा, 48 घंटे के भीतर कोरोना वायरस को मार सकती है ये दवा

देशभर में कोरोना से मरने वालों की संख्या 79:
देश में कोरोना वायरस के हालात को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने नियमित प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि देश में कल से लेकर आज तक कोरोना वायरस के 472 नए मामले सामने आए हैं. वहीं देशभर में कोरोना से मरने वालों की संख्या 79 हो गई है, जबकि 3300 से अधिक लोग संक्रमित हैं. उन्होंने बताया कि कल से लेकर आज तक में कोरोना से 11 लोगों की मौत हुई है. 267 लोग इस वायरस से ठीक हुए है, जिन्हें इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है.

VIDEO: कोरोना संकट के चलते मुस्लिम धर्मगुरु से लेकर शिक्षाविद आए आगे, आम जनता से घरों में रहने की कर रहे अपील

जयपुर: कोरोना महामारी से बचाव के लिए आम जनता को संदेश देने में कई मुस्लिम उलेमा, मुफ्ती, विशेषज्ञ, इस्लामी शिक्षाविद और धर्मगुरु भी आगे आए है. सोशल मीडिया से लेकर अलग अलग प्लेटफार्म पर ये सभी मिलकर आम जनता को घरों में रहने के साथ ही जांच के लिए आने वाले चिकित्साकर्मियों के सहयोग की अपील कर रहे हैं. 

खुशखबरी: शोधकर्ताओं का दावा, 48 घंटे के भीतर कोरोना वायरस को मार सकती है ये दवा 

दर्जनों उलेमा, मुफ्ती, विशेषज्ञ, इस्लामी शिक्षाविद आगे आकर कर रहे अपील: 
आल इंडिया दारूल कजात के राष्ट्रीय अध्यक्ष चीफ काजी खालिद उस्मानी, मौलाना आजाद विश्वविद्यालय के कोफांउडर मोहम्मद अतीक, जामा मस्जिद जयपुर के ताहिर आजाद, राजस्थान बार कॉउसिल के चैयरमेन शाहीद हसन, राज्य वक्फ बोर्ड चैयरमेन खानूखां बुधवाली, अमीन पठान, राजस्थान अल्पसंख्यक कर्मचारी अधिकारी संघ के हारून खान, राजस्थान मुस्लिम परिषद अध्यक्ष युनुस चौपदार के साथ दर्जनों उलेमा, मुफ्ती, विशेषज्ञ, इस्लामी शिक्षाविद आगे आकर अपील कर रहे हैं. 

15 अप्रैल से चलेंगी ट्रेनें! रेलवे प्रशासन ने शुरू की संचालन की तैयारी 

VIDEO: कोरोना संकट के चलते राजस्थान में टूरिज्म इंडस्ट्री को 500 करोड़ रुपए से अधिक का नुकसान

जयपुर: प्रदेश में कोरोना संकट के दौरान किए गए लॉक डाउन से अभी तक टूरिज्म इंडस्ट्री को 500 करोड़ रुपए से अधिक का नुकसान हो चुका है. पर्यटन और उससे जुड़े तमाम उद्योग ठप हैं ऐसे में रोजाना ट्रैवल ट्रेड को 50 करोड़ से अधिक का नुकसान हो रहा है. आशंका इस बात की है कि हालात जल्द नहीं सुधरे तो कम से कम इस वर्ष प्रदेश में पर्यटन व्यवसाय हाशिए पर ही रहेगा जिसके बुरे प्रभाव आने वाले 2 वर्षों तक दिखाई दे सकते हैं. प्रदेश में 18 मार्च से ही सभी किले, महल, स्मारक, नेशनल पार्क, सफारी, मेले और उत्सव बंद हैं. अब 14 अप्रैल तक कम से कम इनमें कोई भी पर्यटक गतिविधि नहीं होगी. 

15 अप्रैल से चलेंगी ट्रेनें! रेलवे प्रशासन ने शुरू की संचालन की तैयारी 

- ट्रैवल ट्रेड को लॉक डाउन से अभी तक 500 करोड़ का नुकसान
- रोजाना करीब 50 करोड रुपए का हो रहा नुकसान
- पर्यटन स्थल बंद होने से चरमराया ट्रैवल ट्रेड का ढांचा
- प्रदेश के 700 से अधिक सितारा, बजट व छोटे होटल बंद
- प्रदेश के 2000 से अधिक अधीकृतरेस्टोरेंट व क्लब भी बंद
- होटल, फॉरेन एक्सचेंज, गाइड, टैक्सी ऑपरेटर 
- जिप्सी ऑपरेटर, हैंडीक्राफ्ट, वेंडर, हॉकर सभी को भारी नुकसान
- प्रदेश में 18 मार्च से बंद हैं पर्यटन स्थल व नेशनल पार्क
- पुरातत्व विभाग को अभी तक 2 करोड़ से अधिक का नुकसान

कोरोना के कहर से प्रदेश का पर्यटन व्यवसाय वेंटिलेटर पर चला गया है. टूरिज्म इंडस्ट्री से जुड़े तमाम लोगों की रोजी-रोटी पर खतरा मंडरा रहा है. अकेले राजस्थान की बात करें तो करीब 10 लाख से ज्यादा लोग अचानक बेरोजगार हो गए हैं. रोजाना 50 करोड़ रुपए का नुकसान हो रहा है और अभी तक की बात करें तो पर्यटन उद्योग को 500 से 700 करोड़ रुपए का नुकसान हो चुका है. कोरोना की बढ़ती दहशत के बीच राज्य सरकार ने 18 मार्च को लॉक डाउन अवधि तक के लिए प्रदेश के सभी किले, महल, स्मारक, नेशनल पार्क, सफारी, मेले, उत्सव और तमाम इवेंट बंद कर दिए थे. इस फैसले के बाद प्रदेश में पर्यटकों की गतिविधि पूरी तरह से ठप हो गई है और जो देशी और विदेशी सैलानी राजस्थान में थे उनमें से 90 फ़ीसदी से अधिक  अपने वतन लौट चुके हैं. जो आमेर, जंतर मंतर और हवा महल पर्यटकों की चहल-पहल से रोशन रहते थे  आज उनमें सन्नाटे का चीत्कार उठ रहा है. 

प्रदेश में छोटे-बड़े 700 से अधिक होटल वीरान:
पुरातत्व विभाग को भी अभी तक राजधानी जयपुर सहित प्रदेश के तमाम स्मारक और संग्रहालय बंद होने से 10 करोड़ से अधिक का नुकसान हो चुका है. टूर ऑपरेटर, ट्रैवल एजेंट्स ने इस वर्ष 31 दिसंबर तक जो इवेंट तैयार किए थे उन सब को रद्द करना पड़ा है.  मैरिज टूरिज्म, रिलिजियस टूरिज्म, रूरल टूरिज्म, मेडिकल टूरिज्म सहित करीब डेढ़ हजार से दो हजार इवेंट रद्द करने पड़े हैं. प्रदेश में छोटे-बड़े 700 से अधिक होटल और दो हजार से अधिक अधिकृत क्लब व रेस्टोरेंट वीरान पड़े हैं. रणथंभौर, सरिस्का, मुकंदरा, भरतपुर में घना, कुंभलगढ़, चित्तौड़, झालाना लेपर्ड सफारी को भी बंद है. 

VIDEO: कोरोना को लेकर SMS मेडिकल कॉलेज में बड़ी खलबली! कैंटीन में कार्यरत मिला कोरोना पॉजिटिव 

लाखों लोग बेरोजगार:
प्रदेश में पर्यटक गतिविधि बंद किए जाने से ट्रैवल ट्रेड को भारी नुकसान हुआ है पर्यटकों के परिवहन से जुड़े टैक्सी ड्राइवर, जिप्सी संचालक और हाथी गांव में पल रहे हाथी और महावतों के सामने भी रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है. जो वेंडर और होकर छोटे-छोटे सामान बेचकर अपने घर पर 2 जून की रोटी का इंतजाम करते थे उनके चेहरे पर निराशा के भाव साफ देखे जा सकते हैं. दरअसल पर्यटन पर कोरोना का कहर इस कदर टूटा है कि लाखों लोग बेरोजगार हुए हैं, अरबों रुपए का व्यवसाय चौपट हुआ है और ऐसी कोई उम्मीद नहीं कि अगले 1 साल में भी पर्यटन उद्योग वापस अपने पैरों पर खड़ा हो पाएगा. 

कोरोना के खिलाफ जंग में देश की न्यायपालिका का मजबूत संदेश, निभा रहे भूमिका

कोरोना के खिलाफ जंग में देश की न्यायपालिका का मजबूत संदेश, निभा रहे भूमिका

जयपुर: देश और प्रदेश में कोरोना के खिलाफ जंग में सभी अपने स्तर पर जुटे है ऐसे में देश की न्यायपालिका भी लगातार अपने सकारात्मक संदेश आम जनता तक पहुंचा रही है. इलाहाबाद हाईकोर्ट के वरिष्ठ न्यायाधीश जस्टिस एम एन भण्डारी 19 मार्च से ही जयपुर में है. जस्टिस भण्डारी को लॉकडाउन के दौरान ही दादा बनने की खुशी हासिल हुई है. फिलहाल वे अपने घर में रहकर सरकारी निर्देशो का पालन कर रहे हैं. 

15 अप्रैल से चलेंगी ट्रेनें! रेलवे प्रशासन ने शुरू की संचालन की तैयारी 

देश व प्रदेश की आम जनता से घरों में रहने की अपील:
फर्स्ट इंडिया से खास बात करते हुए जस्टिस एम एन भण्डारी ने देश व प्रदेश की आम जनता से घरों में रहकर खुद को और परिवार को सुरक्षित रखने की अपील की है. जस्टिस भण्डारी ने कहा कि वे लगातार अपने से जुड़े लोगों से घर में रहने की ही अपील करते रहे है और आज आपके जरिए सभी लोगों से आहवान करता हूं कि वे सरकारी निर्देशों का पालन करें. लोग अपने घरों में रहकर आईसोलेशन का पालन करें. साथ ही आपकी जांच के लिए आने वाले चिकित्साकर्मियों से लेकर सुरक्षाकर्मियों का सहयोग करें.

जस्टिस जे के रांका निभा रहे है दोहरी भूमिका:
कोरोना से जंग में कई सामाजिक संस्थाए भी आगे आ रही है तो वहीं कई लोग इन संस्थाओं को आगे लाने में जुटे हैं. जस्टिस जे के रांका भी लगातार भामाशाहों को आगे आने के लिए प्रेरित कर रहे हैं. जस्टिस रांका की प्रेरणा से पहले सुबोध शिक्षा समिति ने एक करोड़ तो अब माहेश्वरी समाज ने 51 लाख रूपये की मदद मुख्यमंत्री सहायता कोष में की है. 

 VIDEO: कोरोना को लेकर SMS मेडिकल कॉलेज में बड़ी खलबली! कैंटीन में कार्यरत मिला कोरोना पॉजिटिव 

वर्तमान हालात में राजस्थान सरकार बेहद अच्छा काम कर रही: 
जस्टिस जे के राकां कहते है कि वर्तमान हालात में राजस्थान सरकार बेहद अच्छा काम कर रही है. सरकार अपने स्तर पर प्रयास कर रही है लेकिन हमे भी सरकार को मजबूत करने के लिए आगे आना चाहिए. सुबोध शिक्षा समिमि और माहेश्वरी समाज ने पहल की जिससे हम सभी को गौरव है कि शहर के कई संस्थान आम जनता और सरकार की मदद को आगे आ रही है. ऐसे वक्त में हमे मिलजुलकर कोरोना के खिलाफ जंग को जीतना होगा. इन संस्थानों के साथ मैंने अपने तीन माह की पेंशन को मुख्यमंत्री सहायता कोष में देने का निर्णय लिया है.  
 

15 अप्रैल से चलेंगी ट्रेनें! रेलवे प्रशासन ने शुरू की संचालन की तैयारी

15 अप्रैल से चलेंगी ट्रेनें! रेलवे प्रशासन ने शुरू की संचालन की तैयारी

जयपुर: यदि लॉकडाउन के दौरान कोरोना वायरस पर स्थिति नियंत्रण में रही तो 15 अप्रैल से ट्रेनों का संचालन सुचारू किया जा सकता है. रेलवे बोर्ड ने ट्रेनों का संचालन शुरू करने के लिए सभी 16 जोन और मंडल प्रबंधकों को निर्देश दिए हैं. 

VIDEO: कोरोना को लेकर SMS मेडिकल कॉलेज में बड़ी खलबली! कैंटीन में कार्यरत मिला कोरोना पॉजिटिव 

वीसी में अधिकारियों को  इंजनों का परीक्षण करने के निर्देश: 
कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण देशभर में ट्रेनों का संचालन बंद है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 22 मार्च को जनता कर्फ्यू लगाए जाने के दिन से ही ट्रेनों का संचालन नहीं हो रहा है. 14 अप्रैल तक लॉकडाउन होने के कारण ट्रेनें बंद हैं, केवल मालगाड़ियां ही संचालित हो रही हैं. 14 अप्रैल को लॉकडाउन समाप्त होने के बाद ट्रेनों का संचालन शुरू कर दिया जाएगा. इसके लिए रेलवे प्रशासन ने तैयारियां शुरू कर दी हैं. रेलवे बोर्ड चेयरमैन ने हाल ही इसे लेकर सभी 16 जोनल रेलवे के महाप्रबंधकों और मंडलों के डीआरएम के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की थी. वीसी में अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि सभी जोनल रेलवे और मंडल अपने-अपने कोच और इंजनों का परीक्षण कर लें, जिससे कि 15 अप्रैल से ट्रेनों का संचालन शुरू किया जा सके.

ट्रेनों के संचालन को लेकर बनाई जा रही योजना:
उत्तर-पश्चिम रेलवे के ऑपरेशन सेक्शन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि 15 से एक साथ सभी ट्रेनें नहीं चलेंगी. पहले ऐसे क्षेत्रों को चिन्हित किया जाएगा, जहां पर कोरोना का प्रकोप ज्यादा है. यानी कोरोना के हॉट स्पॉट वाले क्षेत्रों के लिए ट्रेनों का संचालन शुरुआती दिनों में नहीं होगा या ऐसे क्षेत्रों से होकर गुजरने वाली ट्रेनों का स्टॉपेज इन शहरों में नहीं दिया जाएगा. सूची तैयार कर यह योजना बनाई जा रही है कि किन ट्रेनों का संचालन शुरू करना है और किन ट्रेनों का संचालन थोड़े दिनों बाद किया जाएगा. लंबे रूट की ऐसे ट्रेनें, जिनमें यात्रीभार ज्यादा रहता है, उन्हें शुरुआती दिनों में शुरू कर दिया जाएगा, जिससे यात्रियों को सुविधा मिल सके. जिन रूटों पर नियमित ट्रेनों का संचालन नहीं किया जाएगा, उनके लिए साप्ताहिक स्पेशल ट्रेनें चलाई जाएंगी.

Rajasthan Corona Update: प्रदेश में कोरोना की चपेट में आने से 5वीं मौत, पॉजिटिव केस का आंकड़ा हुआ 210 

सभी जोनल रेलवे से उनके कोचों की जानकारी मांगी:
इस बीच रेलवे बोर्ड के कोचिंग सेक्शन के कार्यकारी निदेशक ने अब सभी जोनल रेलवे से उनके कोचों की जानकारी मांगी है. संचालन से पहले सभी कोचों को बेहतर तरीके से डिसइन्फैक्टेंट से सैनिटाइज करने के निर्देश दिए हैं. यह भी कहा गया है कि 15 अप्रैल से ट्रेन चलाने के लिए अपनी तरफ से तैयारी पूरी कर लें. जिन कोच की मेंटिनेंस का कार्य नहीं हो सका है, उन्हें शेड या साइडिंग से मेंटिनेंस डिपो और पिट लाइन पर भेजा जाए, ताकि 15 अप्रैल से पहले सभी कोच तैयार किए जा सकें. कुलमिलाकर रेलवे प्रशासन की इन तैयारियों को देखकर लगता है कि 15 अप्रैल से जीवन एक बार फिर पटरी पर लौट सकेगा.

....काशीराम चौधरी, फर्स्ट इंडिया न्यूज, जयपुर

VIDEO: कोरोना को लेकर SMS मेडिकल कॉलेज में बड़ी खलबली! कैंटीन में कार्यरत मिला कोरोना पॉजिटिव

जयपुर: कोरोना वायरस को लेकर आज SMS मेडिकल कॉलेज में बड़ी खलबली मच गई. कॉलेज की कैंटीन में कार्यरत समुदाय विशेष का व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिला है. इसकी सूचना मेडिकल कॉलेज में मिलते ही पूरी फैकल्टी में चिंता का माहौल है. आनन-फानन में कैंटीन और स्टोर रूम को सीज किया गया है. इसके साथ ही कैंटीन से पिछले कुछ दिनों से खाद्य सामग्री मंगाने वाले सभी चिकित्सक भी अलर्ट हो गए हैं. इस पूरे मामले में सबसे बड़ी चिंता की बात यह है कि पूरे कॉलेज में इसी कैंटीन से खाद्य सामग्री की सप्लाई होती थी. 

Rajasthan Corona Update: प्रदेश में कोरोना की चपेट में आने से 5वीं मौत, पॉजिटिव केस का आंकड़ा हुआ 210 

प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव 5वें मरीज की मौत:
वहीं इससे पहले प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव 5वें मरीज की मौत हो गई है. आज अलसुबह कोरोना पॉजिटिव रामगंज निवासी 82 वर्षीय बुजुर्ग ने SMS अस्पताल में दम तोड़ दिया है. हालांकि बुजुर्ग की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट उसकी मौत के बाद सामने आई है. वहीं प्रदेश में अब तक कोरोना वायरस की वजह से 5 लोगों की मौत हो चुकी है.

राजस्थान में मरीजों का आंकड़ा 210 पहुंच गया: 
 इसके साथ ही पॉजिटिव मरीजों का ग्राफ भी बढ़ता जा रहा है. राजस्थान में  6 नए पॉजिटिव केस सामने आये हैं. जयपुर में एक, झुंझुनूं के नवलगढ़ में 2, बीकानेर में 1, दौसा में 2 मरीज पॉजिटिव मरीज सामने आए हैं. इसके साथ ही प्रदेश में पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 210 पहुंच गया है. इनमें तबलीगी जमात से जुड़े 46 मामले पॉजिटिव सामने आए हैं. 

जयपुर में सबसे ज्यादा पॉजिटिव:
प्रदेश की राजधानी जयपुर में कोरोना पॉजिटिव मामले सबसे ज्यादा है, यहां पर कोरोना पॉजिटिव संक्रमित लोगों की संख्या 56 हो गई है. यहां पर कोरोना से बचाव के लिए पहले ही कर्फ्यू लगा दिया गया है. वहीं अब प्रशासन ओर सतर्क हो गया है. वहीं बात करें भीलवाडा की तो यहां पर सबसे ज्यादा पॉजिटिव मरीज थे. अब यहां पर मरीजों की संख्या स्थिर हो गई है. यहां पर 27 कोरोना पॉजिटिव मरीज है. वहीं 9 लोगों की जांच पहले कोरोना पॉजिटिव आई थी. अब उनकी शुक्रवार को जांच नेगेटिव आई है. 

जोधपुर में 45 मामले:
वहीं बात करें जोधपुर जिले की तो यहां पर कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 45 हो गई है. इसमें 28 लोग ईरान से आये है. वहीं झुंझुनूं में कोरोना पॉजिटिव लोगों की संख्या 16 है. चूरू में 10 तो टोंक में 17 कोरोना पॉजिटिव मरीज है. 

विवाहिता के साथ सामूहिक दुष्कर्म के बाद लगाई फांसी, अधमरा छोड़ भागे आरोपी 

देशभर में भी संक्रमितों की कुल संख्या तीन हजार से ज्यादा:
वहीं देशभर में भी संक्रमितों की कुल संख्या तीन हजार से ज्यादा हो गई. वहीं, मृतकों की संख्या भी 75 से ज्यादा हो गई है. केंद्रीय केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार कोरोना वायरस से अब भी 2,784 लोग संक्रमित हैं जबकि 212 लोग सही हो गए. इसके साथ ही कुल मामलों की संख्या बढ़कर 3,072 हो गई जिनमें 57 विदेशी नागरिक भी शामिल हैं. 

VIDEO: तीसरे टाइगर रिजर्व मुकंदरा में दो साल बाद भी बाघ-बाघिन की मेटिंग कराने में सफल नहीं हुआ विभाग

जयपुर: प्रदेश के तीसरे टाइगर रिजर्व मुकंदरा में आज बाघ बसाए हुए ठीक 2 वर्ष हो गए हैं. 4 अप्रैल 2018 को यहां पहला बाघ टी 91 लाया गया था. उसके बाद यहां एक बाघ और 2 बाघिन लाए गए लेकिन वन विभाग अभी तक इन बाघ बाघिन की मेटिंग कराने में सफल नहीं हो पाया है. 

विवाहिता के साथ सामूहिक दुष्कर्म के बाद लगाई फांसी, अधमरा छोड़ भागे आरोपी 

टी 91 को ट्रेंकुलाइज कर लाया गया था मुकुन्दरा:
ठीक दो वर्ष पूर्व 4 अप्रैल 2018 रणथंभौर टाइगर रिज़र्व से बाहर निकल कर बूंदी के रामगढ़ विषधारी में अपनी टेरिटरी बनाने के लिए भटक रहे टी-30 बाघिन हुस्ने आरा के बेटे टी 91 को ट्रेंकुलाइज कर प्रदेश के तीसरे टाइगर रिज़र्व मुकुन्दरा लाया गया था. वर्ष 2013 में घोषित हुए इस टाइगर रिज़र्व का ये पहला टाइगर था. जिसे कुछ दिन एक छोटे बाड़े में रखकर कई पेचीदगियों के बाद 81 स्क्वायर किलोमीटर के बड़े बाड़े में छोड़ दिया गया. इसे मुकुन्दरा में एम.टी. 1 नाम दिया गया. अपनी सल्तनत क़याम करने के लिए इसने जल्द ही 81 स्क्वायर किलोमीटर के बाड़े में अपनी सल्तनत बना ली. अब बारी थी इसके लिए जोड़े की जिसके लिए एक मादा बाघिन एम.टी.2 को लाया गया. उसे भी कुछ दिन छोटे बाड़े में रखा गया इसके कुछ समय बाद इसको एम.टी. 1 के बाड़े में रिलीज़ कर दिया गया. 

रणथंभौर से स्वतः चलकर एक तीसरा बाघ मुकुन्दरा आ पहुंचा:
इसी बीच रणथंभौर से स्वतः चलकर एक तीसरा बाघ मुकुन्दरा आ पहुंचा, इसकी ट्रैकिंग की गई तो पता चला की ये एक मेल टाइगर है, इसे बाड़े के बाहर ही रखने का फैसला हुआ इसका नाम एम.टी. 3 रखा गया इसके जोड़े के लिए लाइटनिंग के नाम से रणथंभौर में मशहूर बाघिन को मुकुन्दरा लाया गया. अब मुकुन्दरा में कुल 4 बाघ हो गए थे. वन्यजीव प्रेमियों को आस थी की जल्द ही मुकुन्दरा नन्हें शावकों की किलकारियों से आबाद हो जाएगा. लेकिन हुआ इसके उलट दोनों जोड़ों के बीच मैटिंग की न्यूज तो ज़रूर आई लेकिन शावक हुए या नहीं इस पर लगातार असमंजस बना रहा. अधिकारियों द्वारा भी किसी शावक के होने की कोई पुष्टि नहीं की गई तो स्थानीय ग्रामीणों द्वारा शावक देखे जाने की अपुष्ट सूचनाएं आती रही. अधिकारी ऐसी किसी भी बात को मीडिया में आने से बचाते नज़र आये.

पारदर्शिता नहीं होने के कारण शावकों के होने न होने पर पर्दा पड़ा रहा:
इस बीच मुकुन्दरा में कुछ शिकारियों के भी घुसने की कैमेरा ट्रैप में फ़ोटो आ गयी वहीं निचले स्तर के अधिकारियों की लापरवाही की वजह से शिकारियों की ज़मानत हो गई जिसमें उच्च अधिकारियों के हस्तक्षेप के बाद गागरोन रेंज के एक रेंजर और एक फारेस्ट को निलंबित भी किया गया. इस सारे वाकिये के दौरान पारदर्शिता नहीं होने के कारण शावकों के होने न होने पर पर्दा पड़ा रहा. आज एम.टी1 को लगभग 2 वर्ष हो गए हैं अन्य बाघ बाघिन को भी लगभग एक से डेढ़ साल साल हो चुका है लेकिन शावकों का कुछ आता पता नहीं है. एक दूसरी समस्या जो यहां देखी गयी वो लो प्रे-बेस यानी बाघों के कम प्राकृतिक भोजन की रही, मीडिया में आए दिन बाघ द्वारा मवेशियों के मारे जाने की सूचनाएं प्रकाशित होती रही. तीसरी समस्या यहां 16 गांवों के रिलोकेशन है जिसे भी अभी तक पूरी तरह से सुलझाया नहीं जा सका.

Rajasthan Corona Update: प्रदेश में कोरोना की चपेट में आने से 5वीं मौत, पॉजिटिव केस का आंकड़ा हुआ 210 

टाइगर टूरिज़म के लिए प्रेशर बनाना शुरू:
दूसरी तरफ इन सब समस्याओं को नज़र अंदाज़ कर बाघों को इनकम मशीन समझने वाले लोगों नें टाइगर टूरिज़म के लिए प्रेशर बनाना शुरू कर दिया. आपको बता दें की साइंटिफिक स्टडी में भी यह बात साबित हो चुकी है की बाघों में तनाव का सीधा असर उनकी प्रजनन क्षमता पर पड़ता है. बाघों को बसाए जाने के दो वर्ष बाद भी यह टाइगर रिज़र्व अभी बाघ शावकों की किलकारियों से सुना है. एक्सपर्ट्स की माने तो किसी भी टाइगर रिज़र्व में टाइगर के रिलोकेशन के बाद यदि काफी समय तक प्रजनन न हो तो यह एक समस्या की बात है वहीं दूसरी ओर समस्याओं के समाधान की जगह टाइगर टूरिज्म पर फ़ोकस करना कहीं मुकुन्दरा के लिए घातक सिद्घ न हो जाए.

Rajasthan Corona Update: प्रदेश में कोरोना की चपेट में आने से 5वीं मौत, पॉजिटिव केस का आंकड़ा हुआ 210

जयपुर: प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव 5वें मरीज की मौत हो गई है. आज अलसुबह कोरोना पॉजिटिव रामगंज निवासी 82 वर्षीय बुजुर्ग ने SMS अस्पताल में दम तोड़ दिया है. हालांकि बुजुर्ग की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट उसकी मौत के बाद सामने आई है. वहीं प्रदेश में अब तक कोरोना वायरस की वजह से 5 लोगों की मौत हो चुकी है.

पीएम मोदी की अपील पर देशवासी आज रात जलाएंगे एक दीया, कोरोना के अंधकार से मिलेगा छुटकारा

राजस्थान में मरीजों का आंकड़ा 210 पहुंच गया: 
 इसके साथ ही पॉजिटिव मरीजों का ग्राफ भी बढ़ता जा रहा है. राजस्थान में  6 नए पॉजिटिव केस सामने आये हैं. जयपुर में एक, झुंझुनूं के नवलगढ़ में 2, बीकानेर में 1, दौसा में 2 मरीज पॉजिटिव मरीज सामने आए हैं. इसके साथ ही प्रदेश में पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 210 पहुंच गया है. इनमें तबलीगी जमात से जुड़े 46 मामले पॉजिटिव सामने आए हैं. 

जयपुर में सबसे ज्यादा पॉजिटिव:
प्रदेश की राजधानी जयपुर में कोरोना पॉजिटिव मामले सबसे ज्यादा है, यहां पर कोरोना पॉजिटिव संक्रमित लोगों की संख्या 56 हो गई है. यहां पर कोरोना से बचाव के लिए पहले ही कर्फ्यू लगा दिया गया है. वहीं अब प्रशासन ओर सतर्क हो गया है. वहीं बात करें भीलवाडा की तो यहां पर सबसे ज्यादा पॉजिटिव मरीज थे. अब यहां पर मरीजों की संख्या स्थिर हो गई है. यहां पर 27 कोरोना पॉजिटिव मरीज है. वहीं 9 लोगों की जांच पहले कोरोना पॉजिटिव आई थी. अब उनकी शुक्रवार को जांच नेगेटिव आई है. 

जोधपुर में 45 मामले:
वहीं बात करें जोधपुर जिले की तो यहां पर कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 45 हो गई है. इसमें 28 लोग ईरान से आये है. वहीं झुंझुनूं में कोरोना पॉजिटिव लोगों की संख्या 16 है. चूरू में 10 तो टोंक में 17 कोरोना पॉजिटिव मरीज है. 

राहुल गांधी ने अमेठी में भेजे सेनिटाइजर और मास्क, कांग्रेस कार्यकर्ता कर रहे है वितरित

देशभर में भी संक्रमितों की कुल संख्या तीन हजार से ज्यादा:
वहीं देशभर में भी संक्रमितों की कुल संख्या तीन हजार से ज्यादा हो गई. वहीं, मृतकों की संख्या भी 75 से ज्यादा हो गई है. केंद्रीय केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार कोरोना वायरस से अब भी 2,784 लोग संक्रमित हैं जबकि 212 लोग सही हो गए. इसके साथ ही कुल मामलों की संख्या बढ़कर 3,072 हो गई जिनमें 57 विदेशी नागरिक भी शामिल हैं. 

Open Covid-19