जयपुर Rajasthan: भाजपा ने राजेंद्र सिंह बिधूड़ी और थानाधिकारी के साथ बातचीत की कथित ऑडियो क्लिप मामले को विधानसभा में उठाया

Rajasthan: भाजपा ने राजेंद्र सिंह बिधूड़ी और थानाधिकारी के साथ बातचीत की कथित ऑडियो क्लिप मामले को विधानसभा में उठाया

जयपुर: राजस्थान में चित्तौड़गढ़ जिले के एक थानाधिकारी और सत्तारूढ़ दल कांग्रेस के एक विधायक के बीच बातचीत की कथित ऑडियो क्लिप के मामले को शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने सदन में उठाया और इसकी जांच की मांग की. विधायक और थानाधिकारी की बातचीत की कथित ऑडियो क्लिप को वायरल किये जाने के बाद विपक्षी दल भाजपा ने शुक्रवार को सदन में हंगामा किया और मामले की जांच की मांग की. संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल ने सदन को मामले की जांच का आश्वासन दिया. 

भैंसरोडगढ़ के थानाधिकारी संजय कुमार और बेंगू (चित्तौड़गढ़) से कांग्रेस विधायक राजेन्द्र बिधूड़ी के बीच कथित बातचीत दो मार्च को हुई थी. सात मिनट 37 सेकंड की ऑडियो क्लिप में विधायक को थानाधिकारी से एक आपराधिक मामले में आरोपी की गिरफ्तारी की मांग करते हुए उनके साथ कथित रूप से दुर्व्यवहार करते हुए सुना जा सकता है. थानाधिकारी ने चित्तौड़गढ़ की पुलिस अधीक्षक प्रीति जैन से बृहस्पतिवार को मुलाकात कर लिखित में शिकायत दी है और उनका स्थानांतरण पुलिस लाइन में करने का आग्रह किया हैं. थानाधिकारी ने पुलिस अधीक्षक को ऑडियो क्लिप की रिकार्डिंग भी दी है. पुलिस अधीक्षक ने बताया कि थानाधिकारी को उनके आग्रह पर पुलिस लाइन भेज दिया गया है और मामले की जांच की जा रही है. उन्होंने बताया कि थानाधिकारी ने आरोप लगाया है कि विधायक एक मामले में आरोपी को गिरफ्तार करने के लिये दबाव बना रहे थे जबकि इस मामले की जांच अभी जारी है. थानाधिकारी ने कहा कि मैंने विधायक को बताया कि जांच के आधार आरोपी के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी. जांच हेड कांस्टेबल द्वारा की जा चुकी है लेकिन विधायक ने अपना आपा खो दिया और मेरे साथ दुर्व्यवहार किया.

जयपुर में शुक्रवार को भाजपा ने कांग्रेस विधायक के इस तरह के व्यवहार की निंदा की है तो वहीं खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने विधायक बिधूड़ी का बचाव करते हुए कहा कि विधायक ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा है कि यह उनकी आवाज नहीं है. विधानसभा परिसर के बाहर शुक्रवार सुबह संवाददाताओं से बातचीत में विधायक ने कहा कि यह उनकी आवाज नहीं है. वह एक जननेता है और जनता से जुड़े मुद्दों की आवाज उठाते रहते है. शून्यकाल के दौरान भाजपा विधायकों ने कांग्रेस विधायक के खिलाफ शोरगुल किया और आसन के सम्मुख जाकर विरोध व्यक्त किया. भाजपा विधायक वासुदेव देवनानी ने मामला उठाते हुए कहा कि विधायक का इस तरह का व्यवहार निंदनीय है. प्रतिपक्ष के नेता गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि विधायक का कृत्य शर्मनाक है. मंत्री से जवाब की मांग करते हुए भाजपा विधायकों ने आसन तक जाकर विरोध किया. हालांकि विधानसभा अध्यक्ष के हस्तक्षेप के बाद वे लोग वापस अपनी सीटों पर चले गये. संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल ने सदन को मामले की जांच के लिये आश्वस्त किया. सोर्स- भाषा

और पढ़ें