भाजपा ने वैश्विक नेताओं में PM मोदी की सर्वाधिक स्वीकृति को बताया हर भारतीय के लिए गर्व की बात

भाजपा ने वैश्विक नेताओं में PM मोदी की सर्वाधिक स्वीकृति को बताया हर भारतीय के लिए गर्व की बात

भाजपा ने वैश्विक नेताओं में PM मोदी की सर्वाधिक स्वीकृति को बताया हर भारतीय के लिए गर्व की बात

नई दिल्ली: भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने एक अमेरिकी डेटा फर्म द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘स्वीकृति रेटिंग’ विश्व के नेताओं में शीर्ष पर होने संबंधी सर्वेक्षण का हवाला देते शनिवार को कहा कि यह उनके (मोदी के) कुशल नेतृत्व को दर्शाता है तथा हर भारतीय के लिए गौरव की बात है. जे पी नड्डा ने ट्वीट कर जहां मोदी के नेतृत्व की सराहना की वहीं इस मुद्दे पर भाजपा ने एक संवाददाता सम्मेलन भी किया, जिसे संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इसे ‘‘असामान्य घटना’’ बताया और कहा कि पिछले छह सालों में उनकी लोकप्रियता का ग्राफ बढ़ा ही है जबकि आम तौर पर ऐसा नहीं होता है.

प्रधानमंत्री मोदी  55 प्रतिशत की रेटिंग के साथ रहे विश्व के नेताओं में शीर्ष परः
विश्व के नेताओं के कार्यकाल में उनकी स्वीकृति पर नजर रखने वाली फर्म ‘‘मॉर्निंग कंसल्ट’’ के एक सर्वेक्षण के मुताबिक 55 प्रतिशत ‘स्वीकृति रेटिंग’ के साथ मोदी विश्व के नेताओं में शीर्ष पर हैं. सर्वेक्षण के मुताबिक 75 प्रतिशत लोगों ने मोदी का समर्थन किया, जबकि 20 प्रतिशत ने उन्हें स्वीकार नहीं किया, जिससे उनकी कुल स्वीकृति रेटिंग 55 रही, जो सबसे अधिक है.

जे पी नड्डा ने कहा- यह रेटिंग प्रधानमंत्री मोदी कठिन परिश्रम और कुशल नेतृत्व को दर्शाता हैः
सर्वेक्षण का जिक्र करते हुए नड्डा ने ट्वीट में कहा कि मोदी प्रभावी तरीके से विभिन्न मुद्दों और कोविड-19 के प्रबंधन के लिए एक बार फिर सर्वाधिक लोकप्रिय सरकार के मुखिया के रूप में उभरे हैं. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की लोकप्रियता निर्विवाद रूप से न सिर्फ सभी भौगोलिक क्षेत्रों और जनसांख्यिकीय समूहों में बढ़ी है, बल्कि राष्ट्र के प्रति अपने समर्पण के चलते उन्हें वैश्विक स्वीकृति भी मिली है. चुनौतियों से भरे इस समय में प्रधानमंत्री मोदी सभी वैश्विक नेताओं में शीर्ष पर हैं. नड्डा ने कहा कि जब से मोदी सरकार सत्ता में आई है, तब से लोगों का सरकार में विश्वास और देश के सही दिशा में आगे बढ़ने को लेकर भरोसा अभूतपूर्व तरीके से बढ़ा है. उन्होंने कहा कि यह रेटिंग उनके (प्रधानमंत्री के) कठिन परिश्रम और कुशल नेतृत्व को दर्शाता है और यह हर भारतीय के लिए गौरव की बात है.जावड़ेकर ने इस सफलता के लिए पीएम मोदी की दूरदर्शी सोच और कुशल नेतृत्व को दिया श्रेयः

जावड़ेकर ने मोदी की इस सफलता के लिए उनकी दूरदर्शी सोच और कुशल नेतृत्व को श्रेय दिया और कहा कि कोविड-19 महामारी के कारण उत्पन्न हालात से सफलता पूर्वक निपटने ने उनकी लोकप्रियता में और वृद्धि की. उन्होंने कहा कि देश के विकास को लेकर उनकी एक दूरदृष्टि है. वह जो कार्यक्रम बनाते हैं, उसे सफल करते हैं. देश प्रथम ही उनकी धारणा है. देश के लिए सबकुछ, और देश ही सबकुछ. उन्होंने कहा कि सर्वेक्षण करने वाली अमेरिका की एक संस्था ने 13 प्रमुख लोकतांत्रिक देशों के नेताओं के बारे में जनता की राय का आकलन किया है और भारत के लिए ये गौरव का विषय है कि प्रधानमंत्री मोदी की ‘‘स्वीकृति रेटिंग’’ दूसरे सबसे लोकप्रिय नेता के मुकाबले दो गुना अधिक है.

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को लोगों ने नकाराः
सर्वेक्षण के मुताबिक जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल की स्वीकृति रेटिंग 24 प्रतिशत रही, जबकि ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की स्वीकृत रेटिंग नकारात्मक रही है, अर्थात उनका समर्थन करने वालों के मुकाबले विरोध करने वालों की संख्या अधिक है.

जावड़ेकर ने कहा- मोदी दुनिया के एकमात्र ऐसे नेता हैं जिनकी लोकप्रियता लगातार बढ़ रहीः
जावड़ेकर ने कहा कि ‘‘मॉर्निंग कंसल्ट’’ से पहले वैश्विक एजेंसी ‘‘गैलप’’ और भारत के ‘‘सी-वोटर’’ ने भी प्रधानमंत्री मोदी की बहुत अधिक स्वीकृति रेटिंग दी है. उन्होंने कहा कि लोगों को मोदी के नेतृत्व पर पूरा भरोसा है जिसकी वजह से पार्टी को लोकसभा में भार बहुमत मिला और विधानसभा और स्थानीय निकाय चुनावों में भी जीत मिली. उन्होंने कहा कि मोदी दुनिया के एकमात्र ऐसे नेता हैं जिनकी लोकप्रियता लगातार बरकरार है या बढ़ रही है. ये असामान्य घटना है. जावड़ेकर ने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा देशभर में लॉकडाउन लगाने सहित समय पर लिए गए निर्णयों ने देश को गंभीर नुकसान होने से बचाया और देश में कोरोना से ठीक होने की दर भी विश्व में सबसे अधिक है.

किसान आंदोलन को लेकर जावड़ेकर ने कहा- मामला सुलझा लिया जाएगाः
राजधानी दिल्ली की विभिन्न सीमाओं पर तीन कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर किसानों के प्रदर्शन के बारे में पूछे गए एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि केंद्र को उम्मीद है कि मामला सुलझा लिया जाएगा और उनका आंदोलन समाप्त होगा. किसान नेताओं ने शनिवार को कहा था कि यदि केंद्र सरकार ने उनकी मांगें नहीं मानीं तो उन्हें सख्त कदम उठाने होंगे. सरकार और किसानों के बीच अगली वार्ता चार जनवरी को प्रस्तावित है. कांग्रेस नेता राहुल गांधी के सरकार द्वारा उद्योगपतियों के ऋण माफ किए जाने के आरोपों पर जावड़ेकर ने कहा कि ‘‘गलत’’ जानकरी फैलाने में कांग्रेस नेता का कोई मुकाबला नहीं कर सकता.
सोर्स भाषा

और पढ़ें