नई दिल्ली राष्ट्रपति मुर्मू के खिलाफ उदित राज की टिप्पणी को लेकर भाजपा ने कांग्रेस पर साधा निशाना

राष्ट्रपति मुर्मू के खिलाफ उदित राज की टिप्पणी को लेकर भाजपा ने कांग्रेस पर साधा निशाना

राष्ट्रपति मुर्मू के खिलाफ उदित राज की टिप्पणी को लेकर भाजपा ने कांग्रेस पर साधा निशाना

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने कांग्रेस नेता उदित राज द्वारा राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के लिए की गई आपत्तिजनक टिप्पणी को लेकर बृहस्पतिवार को प्रमुख विपक्षी पार्टी पर निशाना साधा और कहा कि यह टिप्पणी कांग्रेस की ‘आदिवासी विरोधी’ मानसिकता को दर्शाती है. भाजपा प्रवक्ता शहजाद पूनावाला ने कहा कि उदित राज ने पहले भी इस प्रकार का अपराध किया है. उन्होंने न सिर्फ राष्ट्रपति मुर्मू, बल्कि शीर्ष संवैधानिक पद का और पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद जी का भी लगातार अपमान किया है.’’

पूनावाला ने कहा कि उदित राज ने तत्कालीन राष्ट्रपति (कोविंद) के लिए ‘गूंगा और बहरा’ शब्द का इस्तेमाल किया था. अब उन्होंने मुर्मू जी को चमचा कहा है. कांग्रेस ने कभी उन पर कार्रवाई नहीं की, क्योंकि वह उनकी राय का समर्थन करती है. उदित राज ने बुधवार को राष्ट्रपति मुर्मू पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया था,  द्रौपदी मुर्मू जी जैसी राष्ट्रपति किसी देश को न मिले. चमचागिरी की भी हद है. कहती हैं 70 प्रतिशत लोग गुजरात का नमक खाते हैं. खुद नमक खाकर जिंदगी जिएं तो पता लगेगा.’’ ज्ञात हो कि राष्ट्रपति का पदभार संभालने के बाद मुर्मू सोमवार को पहली बार गुजरात पहुंची थीं. गांधीनगर में गुजरात सरकार की ओर से आयोजित एक अभिनंदन समारोह को संबोधित करते हुए उन्होंने हल्के-फुल्के अंदाज में कहा था, ‘‘गुजरात में पैदा होने वाला नमक सभी भारतीयों द्वारा खाया जाता है.’’

उदित राज ने बाद में कहा था कि राष्ट्रपति मुर्मू के बारे में की गई उनकी टिप्पणी निजी है और इससे कांग्रेस पार्टी का कोई लेना-देना नहीं है. पूनावाला ने कहा कि उदित राज द्वारा टिप्पणी को निजी करार दिए जाने से कुछ नहीं होने वाला है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस को बताना पड़ेगा कि वह ‘आदिवासी विरोधी’ टिप्पणी के लिए उदित राज के खिलाफ कार्रवाई करेगी या नहीं. भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि पहले अधीर रंजन चौधरी (लोकसभा में कांग्रेस के नेता), फिर अजोय कुमार (कांग्रेस प्रवक्ता) और अब तीसरी बार इस प्रकार का बयान दिया गया है. यह संयोग नहीं है! यह कांग्रेस की मानसिकता है. सोर्स- भाषा

और पढ़ें