नागौर से बसपा प्रत्याशी ने ज्योति मिर्धा को दिया समर्थन, हनुमान बेनीवाल की बढ़ी मुश्किलें  

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/04/21 02:11

नागौर। नागौर में लोकसभा चुनाव को लेकर किये गए नामांकन में जिला निर्वाचन विभाग द्वारा की गई जांच में 14 प्रत्याशियों द्वारा भरे गए 18 नामांकन सही पाए गए है, मगर दूसरी तरफ राजनीतिक दलों में शह और मात का खेल जारी है। कल कांग्रेस की रणनीति के तहत बसपा प्रत्याशी मुस्ताक खात्यासनी ने अपना नामांकन वापस लेकर जहां बसपा को भारी झटका दिया गया है, वहीं एनडीए प्रत्याशी के सामने और ज्यादा मुश्किल खड़ी कर दी है। 

पहले बसपा के मैदान में होने से कांग्रेस के परम्परागत वोट बैंक मुस्लिम और अनुसूचित जाति के वोटो के धुर्वीकरण से एनडीए को फायदा होने की उम्मीद थी, मगर कांग्रेस की ज्योति मिर्धा ने अपनी रणनीति के तहत कांग्रेस से बागी होकर हाथी की सवारी करने वाले मुस्ताक को कल हाथी से उतारकर कांग्रेस के पंजे मे ले लिया है। राजनीतिज्ञ लोगों की मानें तो बसपा प्रत्याशी के मैदान छोड़ने से कांग्रेस के वोटों का धुर्वीकरण नहीं होगा और कांग्रेस प्रत्याशी ज्योति मिर्धा और ज्यादा मजबूत होगी। 

वहीं इसको लेकर हमने पहले भी संकेत दिए थे और मैच फिक्स था। कल इसको लेकर नामांकन वापस लेने के बाद मुस्ताक खात्यासनी ने बताया कि कांग्रेस मेरा परिवार है और बसपा से नामांकन करने के बाद समाज और पार्टी के आलाकमान द्वारा मेरे ऊपर दबाव बनाया जा रहा था। दबाव के चलते मैंने नामांकन वापस ले लिया है। मेरे कांग्रेस में आ जाने से कांग्रेस को और ज्यादा मजबूती मिलेगी और नागौर में कांग्रेस का परचम लहराएगा। वहीं दूसरी और जिले के लोकसभा चुनाव प्रभारी मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल का भी कहना है कि नामांकन वापस लेना मैच फिक्स था और नहीं भी था। मास्टर का कहना है कि नागौर जिले का मैं बराबर फ़ीडबैक ले रहा हूं और नागौर के साथ साथ कांग्रेस का मिशन 25 पूरा होगा। 

... नागौर संवाददाता नरपत ज़ोया की रिपोर्ट 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in