बाबा रामदेव मन्दिर 30 जून तक बन्द रखने पर सहमति, श्रद्धालुओं के लिए 20 मार्च से बंद हैं पट  

बाबा रामदेव मन्दिर 30 जून तक बन्द रखने पर सहमति, श्रद्धालुओं के लिए 20 मार्च से बंद हैं पट  

रामदेवरा: बाबा रामदेव के भक्तों को आगामी 30 जून तक आस्था स्थल के मुख्य द्वार खुलने का इंतजार करना होगा. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को जिला मुख्यालय पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए धर्म गुरुओं से धार्मिक स्थल को कोरोना काल के दौरान खोलने या नहीं खोलने को लेकर चर्चा की. सभी लोगों से चर्चा करने के पश्चात सुरक्षा और एहतियात को मध्य नजर रखते हुए आगामी 30 जून तक प्रदेश के सभी धार्मिक स्थलों को बंद रखने पर सहमति हुई. इसी कड़ी में रामदेवरा का बाबा रामदेव मन्दिर भी 30 जून तक बन्द रहेगा.

भारत-चीन वार्ता पर विदेश मंत्रालय का बयान, कहा- चीन से सैन्य वार्ता शांतिपूर्ण माहौल में हुई

सभी धार्मिक स्थलों के पदाधिकारियों से विस्तार से चर्चा:
राजस्थान के सबसे बड़े आस्था स्थल के रूप में शुमार रामदेवरा के बाबा रामदेव का समाधि स्थल भी आगामी 20 मार्च के पश्चात से लगातार अब तक बंद है. ऐसे में भक्त और भगवान के बीच की दूरी लगातार बढ़ती जा रही है. एक दिन पूर्व इस संबंध में रामदेवरा समाधि समिति के पदाधिकारियों ने जैसलमेर पहुंचकर जिला कलेक्टर से मिलकर धार्मिक स्थल को खोलने के बारे में चर्चा की थी. इस पर शनिवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए प्रदेश के अलग-अलग धार्मिक स्थलों के पदाधिकारियों से विस्तार से चर्चा की गई.

छोटे-बड़े सभी धार्मिक स्थल नहीं खुलेंगे: 
जिसमें सभी ने कोरोना वायरस जैसी संक्रमित बीमारी की गंभीरता को देखते हुए एक राय होकर आस्था स्थल को नहीं खोलने के पक्ष में अपने विचार रखे.ऐसे में आगामी 30 जून तक प्रदेश के छोटे-बड़े सभी धार्मिक स्थल को नहीं खोला जाएगा. ऐसे में भक्तों को आगामी 30 जून तक आस्था स्थल के मुख्य द्वार खुलने का इंतजार करना होगा. वर्तमान समय में जो भी व्यक्ति दूर दराज स्थान से दर्शन करने आते है वह भी मुख्य द्वार से ही दर्शन करके लौट जाता है.

सीएम केजरीवाल का बड़ा फैसला, दिल्ली के निजी-सरकारी अस्पतालों में होगा सिर्फ दिल्लीवासियों का ट्रीटमेंट

और पढ़ें