लखनऊ Babri Demolition Case Verdict : ढांचा विध्वंस पर 28 साल बाद फैसला, आडवाणी-जोशी और उमा समेत सभी 32 आरोपी बरी

Babri Demolition Case Verdict : ढांचा विध्वंस पर 28 साल बाद फैसला, आडवाणी-जोशी और उमा समेत सभी 32 आरोपी बरी

Babri Demolition Case Verdict : ढांचा विध्वंस पर 28 साल बाद फैसला, आडवाणी-जोशी और उमा समेत सभी 32 आरोपी बरी

लखनऊ: अयोध्या में छह दिसंबर 1992 को ढहाए गए विवादित ढांचे के मामले में सीबीआई की विशेष अदालत फैसला सुनाते हुए आडवाणी, जोशी, उमा भारती सहित सभी 32 आरोपियों को बरी कर दिया है. अपना फैसला पढ़ते हुए जज एसके यादव ने कहा गया कि ये घटना पूर्व नियोजित नहीं थी, संगठन के द्वारा कई बार रोकने का प्रयास किया गया. जज ने अपने शुरुआती कमेंट में कहा कि ये घटना अचानक ही हुई थी. 

6 आरोपी कोर्ट से गैरहाजिर रहे:
फैसला सुनाते समय कोर्टरूम में लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, कल्याण सिंह, सतीश प्रधान, महंत गोपालदास और उमा भारती मौजूद नहीं रहे. ये सभी लोग अपने अपने कारणों से गैरहाजिर थे. कोर्टरूम में मौजूद 26 आरोपियों की हाजिरी लगी. लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और उमा भारती समेत 6 आरोपी कोर्ट से गैरहाजिर रहे.

कोर्ट को चाहिए वह सभी को बरी कर दे:
इससे पहले बाबरी मस्जिद के पक्षकार रहे इकबाल अंसारी कहते हैं कि अब इस मुकदमे को समाप्त कर देना चाहिए. कोर्ट को चाहिए वह सभी को बरी कर दे. उन्होंने इसके पीछे तर्क दिया कि सुप्रीम कोर्ट से फैसला मंदिर के हक में आ चुका है. इसीलिए अब इस मुकदमे को खत्म कर देना चाहिए. ऐसा नहीं होने पर हिंदू-मुस्लिम सौहार्द को खतरा है. उन्होंने कहा कि मामले में आरोपी रहे कई लोगों की मौत हो चुकी है तो वहीं कई अब काफी बुजुर्ग हो गए हैं.

स्पेशल जज सुरेंद्र कुमार यादव के कार्यकाल का आज आखिरी दिन:
अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का शुभारंभ होने के बाद अब बाबरी विध्वंस केस में फैसला आ गया है. केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के स्पेशल जज सुरेंद्र कुमार यादव आज इस मामले में फैसला सुनाने के साथ ही रिटायर हो जाएंगे. स्पेशल जज सुरेंद्र कुमार यादव के कार्यकाल का आज आखिरी दिन है. फैसला सुनाने के साथ ही वह शाम 5:00 बजे रिटायर हो जाएंगे. 

2 सितंबर से फैसला लिखने का काम शुरू हो गया था:
6 दिसंबर 1992 के बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले पर आज कोर्ट का फैसला आया है.  मामले में लाल कृष्ण आडवाणी , मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, नृत्य गोपाल दास, कल्याण सिंह समेत 49 आरोपी बनाए गए थे, जिसमें 17 लोगों की मौत हो चुकी है. सीबीआई की अदालत ने 1 सितंबर तक मामले की सुनवाई पूरी कर ली थी और 2 सितंबर से फैसला लिखने का काम शुरू हो गया था. देश की सियासत में बेहद अहम रहे इस मामले पर 28 सालों बाद फैसला सुनाया. 


 

और पढ़ें