बांसवाड़ा Banswara: रक्षाबंधन के त्योहार को लेकर लोगों में भारी उत्साह, राखियों से सजे बाजार

Banswara: रक्षाबंधन के त्योहार को लेकर लोगों में भारी उत्साह, राखियों से सजे बाजार

Banswara: रक्षाबंधन के त्योहार को लेकर लोगों में भारी उत्साह, राखियों से सजे बाजार

बांसवाड़ा: रक्षा बंधन (Raksha Bandhan) पर बहने अपने भाई की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधने के पल का बेसब्री से इंतजार कर रही हैं तो वहीं कोरोना काल के बाद पहली बार राखी विक्रेताओं को भी उम्मीद जगी है कि इस वर्ष उनका व्यापार अच्छा चलेगा. ऐसा शहर में दिखाई दे रही भीड़ से भी अंदाजा लगाया जा रहा है. बांसवाड़ा शहर का मुख्य बाजार रक्षाबंधन के लिए सज गया है. राखी का पर्व 11 अगस्त को है ऐसे में राखियां खरीदने के लिए बाजार में महिला एऔर बालिकाओं की भीड़ जुटी हुई है. इस बार रक्षा बंधन के बाद स्वतंत्रता दिवस है. इसलिए तिरंगा राखियों की मांग बढ़ी है.

वहीं शिवलिंग और राजस्थानी पैटर्न की राखियां खूब बिक रही है. यहां बताना जरूरी है कि इस बार जिले में कोरोना संक्रमण का खतरा बिलकुल नहीं है और लंबे समय से कोई पॉजिटिव भी नहीं होने से किसी प्रकार का प्रतिबंध भी नहीं है. दो साल बाद राखी बाजार में राैनक दिखाई दे रही है. इससे दुकानदारों को अच्छी ग्राहकी की उम्मीद है. हालांकि इस बार बहनों का भाई की कलाई में राखी बांधना 20 फीसदी तक महंगा हो गया है. बाजार में बच्चों और बड़ों के लिए 85 से ज्यादा वैरायटियों की राखियां आई हैं. 

राजस्थानी पैटर्न की राखी का भी ट्रेंड चल रहा:

जिसमें देशभक्ति से जुड़ी तिरंगा राखी और कार्टून वाली राखियों के साथ महिलाओं के लिए भैया-भाभी और फैंसी और परंपरागत डिजाइन वाली राखियां भी हैं. इस साल शिवलिंग और राजस्थानी पैटर्न की राखी का भी ट्रेंड चल रहा है. जाे 50 से 60 रुपए प्रति नग में बेच रहे हैं। 5 रुपए से लगाकर 150 रुपए तक की राखियां बाजार में उपलब्ध है. महंगाई के चलते राखियाें पर भी असर पड़ा है. फूंदे जहां पहले 1 से 10 रुपए में मिलते थे उनके भाव बढ़कर 5 से लेकर 15 रुपए तक हो गए. रेशम का गुच्छा और फैंसी डोरे 5 रुपए से लगाकर 70 रुपए नग वाले हैं. सादी और फैंसी राखियां 2 से लेकर 150 रुपए तक की बिक रही है.
 

और पढ़ें