बांरा Baran: सीएचसी केलवाड़ा में नर्सिंग स्टाफ और चिकित्सकों के पद खाली, ग्रामीण परेशान

Baran: सीएचसी केलवाड़ा में नर्सिंग स्टाफ और चिकित्सकों के पद खाली, ग्रामीण परेशान

Baran: सीएचसी केलवाड़ा में नर्सिंग स्टाफ और चिकित्सकों के पद खाली, ग्रामीण परेशान

बांरा: आदिवासी क्षेत्र में संचालित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र केलवाड़ा (community health center Kelwara) में नर्सिंग स्टाफ और चिकित्सकों के पद रिक्त होने के कारण ग्रामीणों को समस्या का सामना करना पड़ रहा है. मरीजों को अपनी बारी आने के लिए 1 घंटे से लेकर 3 घंटों तक लाइन में लगना पड़ रहा है. आलम यह है कि ग्रामीणों का पूरा दिन अस्पताल में ही गुजर जाता है. अस्पताल में लंबे समय से गायनिक चिकित्सक नहीं बैठने के चलते महिलाओं को खासा समस्या का सामना करना पड़ रहा है.

इसके लिए ग्रामीणों को निजी चिकित्सालयों की ओर अपना रुख करना पड़ता है. फर्स्ट इंडिया की टीम ने जब चिकित्सालय प्रभारी राजेश राजावत से बात की तो जानकारी मिली की वर्तमान में 12 चिकित्सकों के स्थान पर 6 चिकित्सक ही कार्यरत है. वर्तमान में आदिवासी क्षेत्र में मौसमी बीमारियों का कहर व्याप्त है. प्रतिदिन 600 से अधिक मरीजों को चिकित्सा सुविधा का लाभ दिया जा रहा है. जिस दिन चिकित्सक छुट्टी पर चले जाते हैं उस दिन पूरा दिन ही तैनात चिकित्सक उपचार करने में लगे रहते हैं. नर्सिंग स्टाफ और जांच केंद्र में पर्याप्त स्टाफ ना होने के कारण ग्रामीणों को समय पर जांच नहीं मिल पा रही है.

24 घंटे चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही:

हाल ही में हुए स्थानांतरण के कारण यहां से स्टाफ चला गया है लेकिन उनके स्थान पर अभी तक यहां पर स्टाफ नहीं लगाया गया है. इसके बारे में उच्च अधिकारियों को बता दिया गया है. उच्च अधिकारियों द्वारा हमें आश्वासन मिला है कि जल्द ही रिक्त पद भर दिए जाएंगे. वर्तमान में केलवाड़ा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में 24 घंटे चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है. चिकित्सा प्रभारी राजेश राजावत का पिछले 3 दिनों से स्वास्थ्य ठीक नहीं है फिर भी चिकित्सा प्रभारी अपनी सीट पर बैठ कर निर्धारित समय तक मरीजों को देख रहे हैं.

और पढ़ें