तीन Test Match होने पर India की जीत में Bating का रहेगा अहम रोल: Kapil Dev

तीन Test Match होने पर India की जीत में Bating का रहेगा अहम रोल: Kapil Dev

तीन Test Match होने पर India की जीत में Bating का रहेगा अहम रोल: Kapil Dev

नई दिल्ली: पूर्व भारतीय कप्तान कपिल देव (Former Indian Captain Kapil Dev) ने कहा है कि वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप (World Test Championship) फाइनल के विजेता का फैसला एक टेस्ट के बजाय तीन टेस्ट के आधार पर होना चाहिए था. कपिल देव की कप्तानी में ही भारत ने 1983 में पहला वनडे वर्ल्डकप (World Cup) जीता था. उन्होंने कहा कि वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल में भारत की बेहतर बल्लेबाजी ही उसे विजेता बना सकती है. तीन टेस्ट मैच होने पर भारत की जीत में बल्लेबाजी का अहम रोल होगा.

वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल साउथैम्पटन में:
पहली बार हो रहा वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल (Finale) 18 से 22 जून के बीच साउथैम्पटन में खेला जाएगा. फाइनल में भारत और न्यूजीलैंड की टीम आपस में भिड़ेंगी. पूर्व कप्तान ने मिड डे (Mid De) से बातचीत करते हुए कहा कि इतने महत्वपूर्ण चैंपियनशिप की विजेता का फैसला केवल एक मैच के आधार पर नहीं होना चाहिए. अगर एक से ज्यादा मैचों के आधार पर विजेता का फैसला होता तो अच्छा होता.

वर्तमान हालात को देखते हुए कम मैच रखना एक बहाना:
अभी के समय में मैचों की तैयारी करना मुश्किल नहीं है. हालांकि वर्तमान हालात को देखते हुए कम मैच रखे गए हों, यह केवल एक बहाना हो सकता है. लेकिन उसके बावजूद इंटरनेशनल क्रिकेट एसोसिएशन (International Cricket Association) ने सराहनीय कदम उठाया है. उन्होंने कहा कि यह अच्छी बात है कि ICC की ओर से टेस्ट मैच को लोकप्रिय बनाने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं. मुझे यकीन है कि लोगों को यह पसंद आएगा. मेरा मानना है कि अगर वर्ल्ड टेस्ट फाइनल चैंपियनशिप तीन टेस्ट मैचों का होता, तो अच्छा होता.

लॉडर्स में वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल होता तो बेहतर होता:
पूर्व भारतीय कप्तान ने आगे कहा कि अगर यह फाइनल रोज़ बाउल (Rose Bowl) की जगह लॉडर्स (Lauders) में खेला जाता तो बेहतर होता. लॉडर्स का इतिहास रहा है. मैनचेस्टर भी एक अच्छा विकल्प हो सकता था, लेकिन लॉडर्स में विजेता कप उठाने का अलग ही मजा है. पहले वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल लॉडर्स में ही खेला जाना था, लेकिन बायो-बबल की वजह से इसे रोज बाउल शिफ्ट कर दिया गया, क्योंकि स्टेडियम के नजदीक ही होटल है। ऐसे में खिलाड़ियों को ज्यादा ट्रैवल नहीं करना पड़ेगा.

दोनों टीमों में अच्छे गेंदबाज और बल्लेबाज:
कपिल देव ने कहा कि भारत में जीत में अहम योगदान बल्लेबाजी का रहेगा. भारतीय बल्लेबाज (Indian Batsman) लाइनअप की असली परीक्षा भी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल में होना है. उन्होंने कहा कि वे ऐसा नहीं कह रहे हैं कि बल्लेबाज गेंदबाजों से बेहतर हैं. टीम में संतुलन है, लेकिन भारत की बल्लेबाजी मजबूत है. अब देखना महत्वूपर्ण होगा कि वह साउथैम्पटन की परिस्थितियों को किस तरह की बल्लेबाजी करते हैं. न्यूजीलैंड और भारत दोनों ही टीमों में अच्छे बल्लेबाज और गेंदबाज हैं.

2 जून को इंग्लैंड के लिए रवाना होगी भारतीय टीम:
भारतीय टीम 19 मई से मुंबई में क्वारैंटाइन (Quarantine) है. टीम 2 जून को इंग्लैंड रवाना होगी. वहीं न्यूजीलैंड की टीम इंग्लैंड पहुंच चुकी है. न्यूजीलैंड को वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप से पहले दो टेस्ट मैचों की सीरीज इंग्लैंड से खेलनी है.

भारतीय टीम के पास 2019 वर्ल्डकप में हार का बदला लेने का मौका:
भारतीय टीम के पास न्यूजीलैंड से 2019 वर्ल्डकप के सेमीफाइनल (Semifinale) में मिली हार का बदला लेने का मौका है. वहीं कोहली के पास ICC ट्रॉफी जीतने का भी मौका है. कोहली की कप्तानी में भारतीय टीम कई सीरीज जीती हैं, लेकिन आज तक ICC ट्रॉफी नहीं जीत सकी है.

भारतीय टीम के पास ICC के तीनों फॉर्मेट जीतने का मौका:
टीम इंडिया (Team India) टी-20 और वनडे वर्ल्ड कप जीत चुकी है. ऐसे में अगर वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल जीतती है तो वह तीनों फॉर्मेट जीतने वाली टीम बन सकती है. 1983 में कपिल देव की कप्तानी में पहली बार टीम इंडिया ने वनडे वर्ल्ड कप का खिताब जीता था और उसके 28 साल के बाद MS धोनी (MS Dhoni) की कप्तानी में टीम इंडिया ने 2011 में दूसरी बार ये सफलता हासिल की थी. वहीं 2007 धोनी की कप्तानी में भारत ने पाकिस्तान को हराकर पहला टी 20 वर्ल्डकप जीता था.

और पढ़ें