भरतपुर Bharatpur: धरने पर बैठे संत विजय बाबा ने लगाई खुद को आग, दूसरे साधु नारायणदास मंगलवार से टावर पर चढ़े हुए

Bharatpur: धरने पर बैठे संत विजय बाबा ने लगाई खुद को आग, दूसरे साधु नारायणदास मंगलवार से टावर पर चढ़े हुए

भरतपुर: जिले के पासोपा में साधु-संतों के धरने के मामले में संत विजय बाबा ने खुद को आग लगा ली है. झुलसे संत को डीग अस्पताल में रैफर किया गया है. संत की हालत गंभीर बताई जा रही है. हालांकि पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह इस पूरे मामेल पर मॉनिटरिंग कर रहे हैं. इसके साथ ही लगातार बातचीच की कोशिश कर रहे हैं. 

वहीं दूसरी तरफ इससे पहले डीग क्षेत्र में खनन के विरोध में मंगलवार को एक साधु मोबाइल टावर पर चढ़ गया. साधू को एक व्यक्ति के जरिये टावर पर पानी और फल भेजने का प्रबंध किया गया है. वहीं प्रशासन ने अफवाह फैलने से रोकने के लिए चार तहसीलों में मोबाइल इंटरनेट सेवा बुधवार दोपहर तक बंद कर दी थी. 

पुलिस अधिकारियों के अनुसार, साधु को टावर से नीचे उतारने के प्रयास जारी हैं. साधु करीब 35 फुट की ऊंचाई पर चढ़ गए हैं. खो क्षेत्र के थानाधिकारी विनोद कुमार ने बताया कि साधु नारायणदास इलाके में खनन पर प्रतिबंध लगाने की मांग को लेकर पिछले कुछ दिनों से डीग में धरना दे रहे थे, उनके साथ कुछ और संत भी धरने पर थे.

साधू को एक व्यक्ति के जरिये पानी और फल भेजने का प्रबंध किया गया:
उन्होंने बताया कि साधु नारायण दास अपनी मांगों को लेकर प्रशासन पर दबाव बनाने के लिए मंगलवार सुबह मोबाइल टावर पर चढ़ गए. कुमार ने बताया कि साधू को एक व्यक्ति के जरिये पानी और फल भेजने का प्रबंध किया गया है. वह अब भी टावर पर हैं और अपनी मांग पर अड़े हुए हैं. उन्होंने कहा कि पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारी मौके पर हैं और हम उन्हें नीचे उतरने के लिए मनाने के वास्ते उनसे लगातार संवाद कर रहे हैं.

अफवाह फैलने से रोकने के लिए चार तहसील क्षेत्रों में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद:
वहीं, प्रशासन ने अफवाह फैलने से रोकने के लिए जिले की चार तहसील क्षेत्रों में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी हैं. भरतपुर के संभागीय आयुक्त सांवरमल वर्मा ने भरतपुर जिले के पहाड़ी, कामां, नगर और सीकरी तहसील में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं निलंबित करने का आदेश मंगलवार दोपहर को जारी किया. 

और पढ़ें