नई  दिल्ली: भारतीय वायुसेना विदेश से लाई प्राणवायू; दुबई, सिंगापुर से ऑक्सीजन के नौ क्रायोजेनिक टैंकर भारत पहुंचें

भारतीय वायुसेना विदेश से लाई प्राणवायू; दुबई, सिंगापुर से ऑक्सीजन के नौ क्रायोजेनिक टैंकर भारत पहुंचें

भारतीय वायुसेना विदेश से लाई प्राणवायू; दुबई, सिंगापुर से ऑक्सीजन के नौ क्रायोजेनिक टैंकर भारत पहुंचें

नई  दिल्ली: भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) दुबई और सिंगापुर से नौ क्रायोजेनिक ऑक्सीजन टैंकर (Cryogenic Oxygen Tanker) हवाई मार्ग से पश्चिम बंगाल के पानागढ़ हवाईअड्डे पर लेकर आई है.बुधवार को जारी एक आधिकारिक बयान में बताया गया कि इन टैंकरों को मंगलवार लाया गया है. 

छह क्रायोजेनिक ऑक्सीजन टैंकर पानागढ़ हवाईअड्डे पर लाए गए:
बयान में बताया गया कि इसके अलावा, वायुसेना का सी-17 विमान (Air Force C-17 Aircraft) मंगलवार को इंदौर से दो क्रायोजेनिक टैंकर जामनगर, जोधपुर से दो टैंकर उदयपुर और दो टैंकर हिंडन से रांची लेकर आया. बयान के अनुसार के अनुसार भारतीय वायुसेना के सी-17 विमानों ने दुबई से छह क्रायोजेनिक ऑक्सीजन टैंकर पानागढ़ हवाईअड्डे पर लाए है.  कुछ अन्य सी-17 विमान तीन ऑक्सीजन टैंकर सिंगापुर से पानागढ़ हवाईअड्डे लेकर उतरे है. 

भारत कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर का सामना कर रहा है:
इसमें बताया गया कि वायुसेना ने हैदराबाद से आठ क्रायोजेनिक ऑक्सीजन टैंकर भुवनेश्वर, दो टैंकर भोपाल से रांची और दो टैंकर चंडीगढ़ से रांची पहुंचाए है. भारत कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर का सामना कर रहा है और कई राज्यों के अस्पताल कोविड-19 मामलों के लगातार बढ़ने से चिकित्सकीय ऑक्सीजन (Medical Oxygen) और बिस्तरों की कमी से जूझ रहे हैं. भारतीय वायुसेना कोविड-19 मरीजों के इलाज के लिए बेहद जरूरी चिकित्सकीय ऑक्सीजन के त्वरित वितरण के लिए विभिन्न केंद्रों से ऑक्सीजन वाहक खाली टैंकर एवं कंटेनर हवाई मार्गों से लेकर आ रही है.

देश में  बीमारी से मृत्यु दर 1.12 प्रतिशत:
देश में कोरोना वायरस संक्रमण के एक दिन में रिकॉर्ड 3,60,960 नये मामले सामने आए हैं जिसके बाद संक्रमण के कुल मामले 1,79,9,267 हो गए हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के बुधवार सुबह तक के आंकड़ों के मुताबिक 3,293 और लोगों की मौत होने के बाद मृतक संख्या दो लाख को पार कर गई है. आंकड़ों के मुताबिक 1,48,17,371 लोग संक्रमण से उबर चुके हैं जबकि बीमारी से मृत्यु दर 1.12 प्रतिशत है.


 

और पढ़ें