Live News »

भारतीय रेल का बड़ा फैसला, रद्द की थार एक्सप्रेस

भारतीय रेल का बड़ा फैसला, रद्द की थार एक्सप्रेस

जयपुर: रेल मंत्रालय ने साप्ताहिक थार लिंक एक्सप्रेस रद्द कर दी है और यह ट्रेन आज यानी शुक्रवार की रात नहीं चलेगी.उत्तर पश्चिम रेलवे के प्रवक्ता ने शुक्रवार को यहां यह जानकारी दी.यह ट्रेन जोधपुर को पाकिस्तान के कराची शहर से जोड़ने वाली थार रेल सेवा का एक भाग है जो प्रत्येक शुक्रवार को चलती है  उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी अभय शर्मा ने बताया कि इस रेल सेवा को अगले आदेश तक रद्द किया गया है. आधिकारिक बयान के अनुसार, ' रेलवे की तरफ से अग्रिम आदेशों तक भगत की कोठी—मुनाबाव—भगत की कोठी व मुनाबाव—जीरो प्वाइंट—मुनाबाव थार एक्सप्रेस रेल सेवाओं को रद्द किया जा रहा है.' रेलवे के एक अन्य प्रवक्ता ने ट्रेन रद्द किए जाने का कारण तो नहीं बताया लेकिन एक सवाल के जवाब में स्पष्ट किया कि इसकी वजह से इलाके में भारी बारिश के कारण पटरियों पर पानी जमा होना नहीं है.उन्होंने बताया कि इस इस ट्रेन में पाकिस्तान जाने के लिए 45 लोगों ने टिकट करवाए थे.कि थार रेल सेवा भारत के जोधपुर को पाकिस्तान के कराची से जोड़ती है. भारत की थार लिंक एक्सप्रेस इन दिनों भगत की कोठी जोधपुर से रात दस बजे रवाना होती है. यह शनिवार को पाकिस्तान में जीरो प्वाइंट स्टेशन पहुंचती है जहां यात्री ट्रेन बदलते हैं. पाकिस्तान जाने वाले यात्री वहां से पाकिस्तान की थार एक्सप्रेस में सवार होते हैं जबकि थार एक्सप्रेस से वहां पहुंच कर भारत आने वाले यात्री लौटती थार लिंक एक्सप्रेस में सवार होते हैं. थार लिंक एक्सप्रेस में आने वाले यात्रियों व उनके दस्तावेजों की जांच मुनाबाव स्टेशन पर होती है जिसके बाद ट्रेन को आगे जोधपुर के लिए रवाना किया जाता है.भारत और पाकिस्तान के संबंधों में ताजा खटास के बीच दोनों देशों के बीच इस सेवा के परिचालन को लेकर भी संशय के बादल मंडरा रहे थे.पिछले शुक्रवार शनिवार को 165 यात्री पाकिस्तान गए थे और उतनी की संख्या में यात्री वहां से भारत आए थे

और पढ़ें

Most Related Stories

क्या सचिन पायलट से अब भी सुलह की कोशिश? विधायक चेतन डूडी के बयान ने दिए संकेत

क्या सचिन पायलट से अब भी सुलह की कोशिश?  विधायक चेतन डूडी के बयान ने दिए संकेत

जयपुर: राजस्थान में लगातार सियासी घटनाक्रम पर एक के बाद एक अपडेट सामने आ रहा है. अब कांग्रेस विधायक चेतन डूडी ने बयान से अलग ही कयास लगाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि पायलट ने प्रेस कांफ्रेंस ऐसे ही थोड़े स्थगित की होगी. इसके पीछे कुछ तो चल रहा होगा. डूडी ने कहा कि सचिन पायलट को लेकर कोई सकारात्मक नतीजे की उम्मीद है. इसके साथ ही पायलट से बड़े नेताओं की बातचीत का दावा भी किया. ऐसे में सबसे बड़ा सवाल तो यह खड़ा होता है कि क्या सचिन पायलट से अब भी सुलह की कोशिश की जा रही है? हालांकि इस बारे में अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी. 

विधानसभा स्पीकर डॉ. सीपी जोशी ने 19 विधायकों को जारी किए नोटिस, 3 दिन में मांगा जवाब 

पायलट अपनी ‘गलतियों’ के लिए माफी मांग लें तो बात बन सकती है:
इससे पहले अविनाश पांडे ने बुधवार को कहा कि अगर प्रदेश के पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट अपनी ‘गलतियों’ के लिए माफी मांग लें तो बात बन सकती है, लेकिन हर चीज की समयसीमा होती है. दरअसल, उप मुख्यमंत्री और राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद से हटाए जाने के बाद पायलट ने स्पष्ट किया है कि वह भाजपा में शामिल नहीं हो रहे हैं. उन्होंने कहा कि भगवान उनको सद्बुद्धि दे. जिस पार्टी ने उनको पाला-पोसा और बड़ा किया वह उनसे एक जिम्मेदार नेता होने की अपेक्षा करती है. उनको मेरा यही संदेश है. 

19 बागी विधायकों को नोटिस जारी: 
दूसरी ओर विधानसभा स्पीकर डॉ. सीपी जोशी ने कांग्रेस के 19 बागी विधायकों को नोटिस जारी किया है. नोटिस में विधायकों से 3 दिन में जवाब मांगा है. जवाब नहीं देने पर स्पीकर विधायकों को अयोग्य घोषित कर सकते हैं. स्पीकर 3 माह तक समय ले सकते हैं. हालांकि मौजूदा परिस्थितियों के तहत लगता यही है कि स्पीकर जल्द ही निर्णय लेंगे. 

गहलोत मंत्रिमंडल विस्तार पर गंभीर संशय, विस्तार से पहले सरकार को हासिल करना होगा विश्वासमत! 

महेश जोशी ने विधानसभा अध्यक्ष को इसकी सूचना दी:
इससे पहले मुख्य सचेतक महेश जोशी ने विधानसभा अध्यक्ष को इसकी सूचना दी है. अब विधायकों को व्यक्तिगत रूप से सफाई देनी होगी. संतोषजनक उत्तर ना देने पर विधायकों की सदस्यता रद्द हो सकती है. इसके साथ ही ऐसे विधायकों के निर्वाचन क्षेत्र में उपचुनाव के लिए उपयुक्त उम्मीदवार की खोज शुरू होगी. 


 

जोधपुर में ACB ने की कार्रवाई, हैड कांस्टेबल भागीरथ विश्नोई 5000 की रिश्वत लेते ट्रैप

जोधपुर में ACB ने की कार्रवाई, हैड कांस्टेबल भागीरथ विश्नोई 5000 की रिश्वत लेते ट्रैप

जयपुर: एसीबी जोधपुर की टीम द्वारा बाप थाने के हेड कांस्टेबल भागीरथ विश्नोई को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया है. आरोपी हेड कांस्टेबल भागीरथ को 5 हजार रूपए की रिश्वत लेते हुए ट्रेप किया गया है. मारपीट के मामले में मदद करने की एवज में आरोपी हेड कांस्टेबल भागीरथ विश्नोई द्वारा रिश्वत की राशि मांगी गई थी. एसीबी डीआईजी विष्णु कांत के निर्देशन वाली टीम में एडिशनल एसपी नरेन्द्र चौधरी और सीआई मनीष वैष्णव की देखरेख में यह कार्यवाही की गई है. 

युवाओं को पीएम मोदी का संबोधन- 21वीं सदी में स्किल युवाओं की सबसे बड़ी ताकत  

प्रारंभ में 30 हजार रूपए के राशि की मांग की गई: 
भागीरथ विश्नोई द्वारा परिवादी पूनमसिंह से उनके पुत्रों के विरूद्ध दर्ज मारपीट प्रकरण में आरोपियों के नाम हटाने के एवज में प्रारंभ में 30 हजार रूपए के राशि की मांग की गई थी जो बाद में 13 हजार रूपए में मामला तय हुआ जिस पर आज रिश्वत की राशि लेते हुए एसीबी द्वारा रंगे हाथों आरोपी भागीरथ विश्नोई को ट्रेप किया गया. मौके पर रकम बरामदगी के साथ ही कार्यवाही जारी है. 

 विधानसभा स्पीकर डॉ. सीपी जोशी ने 19 विधायकों को जारी किए नोटिस, 3 दिन में मांगा जवाब 

विधानसभा स्पीकर डॉ. सीपी जोशी ने 19 विधायकों को जारी किए नोटिस, 3 दिन में मांगा जवाब

विधानसभा स्पीकर डॉ. सीपी जोशी ने 19 विधायकों को जारी किए नोटिस, 3 दिन में मांगा जवाब

जयपुर: राजस्थान में चल रहे सियासी घटनाक्रम पर एक के बाद एक नया अपडेट आ रहा है. अब विधानसभा स्पीकर डॉ. सीपी जोशी ने कांग्रेस के 19 बागी विधायकों को नोटिस जारी किया है. नोटिस में विधायकों से 3 दिन में जवाब मांगा है. जवाब नहीं देने पर स्पीकर विधायकों को अयोग्य घोषित कर सकते हैं. स्पीकर 3 माह तक समय ले सकते हैं. हालांकि मौजूदा परिस्थितियों के तहत लगता यही है कि स्पीकर जल्द ही निर्णय लेंगे. 

गहलोत मंत्रिमंडल विस्तार पर गंभीर संशय, विस्तार से पहले सरकार को हासिल करना होगा विश्वासमत! 

महेश जोशी ने विधानसभा अध्यक्ष को इसकी सूचना दी:
इससे पहले मुख्य सचेतक महेश जोशी ने विधानसभा अध्यक्ष को इसकी सूचना दी है. अब विधायकों को व्यक्तिगत रूप से सफाई देनी होगी. संतोषजनक उत्तर ना देने पर विधायकों की सदस्यता रद्द हो सकती है. इसके साथ ही ऐसे विधायकों के निर्वाचन क्षेत्र में उपचुनाव के लिए उपयुक्त उम्मीदवार की खोज शुरू होगी. 

मंत्रिमंडल विस्तार पर अभी गंभीर संशय बरकरार: 
दूसरी ओर राजस्थान में लगातार चल रहे सियासी उठापटक के बीच गहलोत मंत्रिमंडल विस्तार पर अभी गंभीर संशय बरकरार है. जानकार सूत्रों ने इसको लेकर संकेत दिए हैं. मंत्रिमंडल विस्तार से पहले सरकार को विश्वासमत हासिल करना होगा. इसके लिए विधानसभा में अपना बहुमत सिद्ध करना होगा. ऐसे में अब संभवत: इसके बाद ही मंत्रिमंडल में फेरबदल हो सकता है. 

गवर्नर के औपचारिक फैसले का इंतजार: 
इसके लिए मंगलवार को गुलाबचंद कटारिया-सतीश पूनिया-राजेंद्र राठौड़ और हनुमान बेनीवाल ने एक स्वर में मांग की थी. गहलोत सरकार को पहले ही बहुमत साबित करना चाहिए और इसके बाद ही मंत्रिमंडल फेरबदल-विस्तार करें. कल पायलट समर्थक विधायकों ने भी ऐसी ही मांग की थी. अब हर किसी को गवर्नर कलराज मिश्र के औपचारिक फैसले का इंतजार है. 

प्रदेश में जल्द होगा मंत्रिमंडल फेरबदल-विस्तार ! दो डिप्टी सीएम बनाए जाने की चर्चा 

गहलोत नाराज विधायकों को साधने में जुट गए: 
दूसरी ओर सचिन पायलट को उप मुख्यमंत्री पद से बर्खास्त करने के बाद अब अशोक गहलोत नाराज विधायकों को साधने में जुट गए हैं. सूत्रों के अनुसार, नए घटनाक्रम में अशोक गहलोत अब 16 जुलाई को मंत्रिमंडल का विस्तार कर सकते हैं. इसमें उन विधायकों को जगह मिल सकती है, जो नाराज हैं. 
 

गहलोत मंत्रिमंडल विस्तार पर गंभीर संशय, विस्तार से पहले सरकार को हासिल करना होगा विश्वासमत!

जयपुर: राजस्थान में लगातार चल रहे सियासी उठापटक के बीच गहलोत मंत्रिमंडल विस्तार पर अभी गंभीर संशय बरकरार है. जानकार सूत्रों ने इसको लेकर संकेत दिए हैं. मंत्रिमंडल विस्तार से पहले सरकार को विश्वासमत हासिल करना होगा. इसके लिए विधानसभा में अपना बहुमत सिद्ध करना होगा. ऐसे में अब संभवत: इसके बाद ही मंत्रिमंडल में फेरबदल हो सकता है. 

कांग्रेस के बगावती विधायकों को सदस्यता खत्म करने का नोटिस जारी, 17 जुलाई तक जवाब प्रस्तुत करने की कही बात 

गवर्नर के औपचारिक फैसले का इंतजार: 
इसके लिए मंगलवार को गुलाबचंद कटारिया-सतीश पूनिया-राजेंद्र राठौड़ और हनुमान बेनीवाल ने एक स्वर में मांग की थी. गहलोत सरकार को पहले ही बहुमत साबित करना चाहिए और इसके बाद ही मंत्रिमंडल फेरबदल-विस्तार करें. कल पायलट समर्थक विधायकों ने भी ऐसी ही मांग की थी. अब हर किसी को गवर्नर कलराज मिश्र के औपचारिक फैसले का इंतजार है. 

गहलोत नाराज विधायकों को साधने में जुट गए: 
दूसरी ओर सचिन पायलट को उप मुख्यमंत्री पद से बर्खास्त करने के बाद अब अशोक गहलोत नाराज विधायकों को साधने में जुट गए हैं. सूत्रों के अनुसार, नए घटनाक्रम में अशोक गहलोत अब 16 जुलाई को मंत्रिमंडल का विस्तार कर सकते हैं. इसमें उन विधायकों को जगह मिल सकती है, जो नाराज हैं. 

प्रदेश में जल्द होगा मंत्रिमंडल फेरबदल-विस्तार ! दो डिप्टी सीएम बनाए जाने की चर्चा 

मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि मैंने सभी के काम किए:  
मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि मैंने सभी के काम किए है, जो मांगा सभी को देने की कोशिश की है. उसके बाद भी बीजेपी के साथ हॉर्स ट्रेडिंग की बात आई. पार्टी तोड़ने के लिए दो तिहाई बहुमत की जरूरत होती है. जो गए हैं, उन पर बहुत बड़ा प्रेशर है, जो फैसला जनता द्वारा दिया गया है, वह हमारे लिए शिरोधार्य है. 


 

कांग्रेस के बगावती विधायकों को सदस्यता खत्म करने का नोटिस जारी, 17 जुलाई तक जवाब प्रस्तुत करने की कही बात

कांग्रेस के बगावती विधायकों को सदस्यता खत्म करने का नोटिस जारी, 17 जुलाई तक जवाब प्रस्तुत करने की कही बात

जयपुर: राजस्थान में लगातार सियासी उठापटक जारी है. सचिन पायलट सहित दो मंत्रियों की बर्खास्तगी के बाद अब कांग्रेस पार्टी ने बगावती विधायकों को नोटिस जारी करना शुरू कर दिया है. मुख्य सचेतक महेश जोशी ने विधानसभा अध्यक्ष को इसकी सूचना दी है. अब विधायकों को व्यक्तिगत रूप से सफाई देनी होगी. संतोषजनक उत्तर ना देने पर विधायकों की सदस्यता रद्द हो सकती है. इसके साथ ही ऐसे विधायकों के निर्वाचन क्षेत्र में उपचुनाव के लिए उपयुक्त उम्मीदवार की खोज शुरू होगी. 

प्रदेश में जल्द होगा मंत्रिमंडल फेरबदल-विस्तार ! दो डिप्टी सीएम बनाए जाने की चर्चा 

गजेंद्र सिंह शक्तावत के निवास पर नोटिस चस्पा: 
अब तक मिली जानकारी के अनुसार वल्लभनगर विधायक गजेंद्र सिंह शक्तावत के निवास पर नोटिस चस्पा किया है. यह नोटिस विधानसभा की सदस्यता खत्म करने का है. देर रात एसडीएम संजय शर्मा ने घर के बाहर नोटिस चस्पा किया. नोटिस में 17 जुलाई तक जवाब प्रस्तुत करने की बात कही गई है. वहीं बाकी अन्य विधायकों को नोटिस जारी करना शुरू हो गया है. अब एक के बाद एक बागी विधायकों को नोटिस जारी किया जाएगा. 

जल्द ही मंत्रिमंडल फेरबदल और विस्तार होगा:
सचिन पायलट की बगावत के बाद अब प्रदेश में जल्द ही मंत्रिमंडल फेरबदल और विस्तार होगा. इसी के चलते मुख्यमंत्री गहलोत ने कल रात मंत्रिमंडल और मंत्रिपरिषद की बैठक बुलाई. इसके बाद गहलोत मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चाएं तेज हो गई है. वहीं प्रदेश में अब दो डिप्टी सीएम बनाए जाने की भी चर्चा चल रही है. इसके अलावा सात नए चेहरों को मंत्री बनने का मौका मिल सकता है. इसके साथ ही 10 से 15 संसदीय सचिव भी बनाए जा सकते हैं. हालांकि पायलट की आज पीसी के बाद तस्वी साफ हो सकेगी. इसके बाद आगे के फैसले लिए जाएंगे. 

पीसीसी चीफ बनाए जाने पर बोले डोटासरा, पार्टी ने जो मुझे इज्जत बख्शी है,मैं बहुत आभार व्यक्त करता हूं

बीजेपी के मंसूबे पूरे नहीं हुए:
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट करते हुए कहा कि राजस्थान में बीजेपी के मंसूबे पूरे नहीं हुए है. उन्होंने कर्नाटक, मध्यप्रदेश में धन-बल के आधार पर जो कुछ भी खेल खेला था. राजस्थान में भी वो लोग वही करना चाहते थे. खुला खेल था....और मैं समझता हूँ कि खुले खेल में वो लोग मात खा गए.
 


 

प्रदेश में जल्द होगा मंत्रिमंडल फेरबदल-विस्तार ! दो डिप्टी सीएम बनाए जाने की चर्चा

प्रदेश में जल्द होगा मंत्रिमंडल फेरबदल-विस्तार ! दो डिप्टी सीएम बनाए जाने की चर्चा

जयपुर: राजस्थान की सियासत में सचिन पायलट की बगावत के बाद अब प्रदेश में जल्द ही मंत्रिमंडल फेरबदल और विस्तार होगा. इसी के चलते मुख्यमंत्री गहलोत ने कल रात मंत्रिमंडल और मंत्रिपरिषद की बैठक बुलाई. इसके बाद गहलोत मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चाएं तेज हो गई है. वहीं प्रदेश में अब दो डिप्टी सीएम बनाए जाने की भी चर्चा चल रही है. इसके अलावा सात नए चेहरों को मंत्री बनने का मौका मिल सकता है. इसके साथ ही 10 से 15 संसदीय सचिव भी बनाए जा सकते हैं. हालांकि पायलट की आज पीसी के बाद तस्वी साफ हो सकेगी. इसके बाद आगे के फैसले लिए जाएंगे. 

पीसीसी चीफ बनाए जाने पर बोले डोटासरा, पार्टी ने जो मुझे इज्जत बख्शी है,मैं बहुत आभार व्यक्त करता हूं

सूत्रों के मुताबिक राजस्थान में मंत्रिपरिषद के नए गठन की तैयारियां शुरू हो गई है. अगले 10-12 दिन में मंत्रिपरिषद का विस्तार की बात सामने आ रही है. सीएम गहलोत मंत्रिपरिषद के नए गठन को अंतिम रूम दे रहे है. वहीं सूत्रों की माने तो मंत्रिपरिषद में शामिल होने वाले नाम तय हो गए है. 

बीजेपी के मंसूबे पूरे नहीं हुए:
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट करते हुए कहा कि राजस्थान में बीजेपी के मंसूबे पूरे नहीं हुए है. उन्होंने कर्नाटक, मध्यप्रदेश में धन-बल के आधार पर जो कुछ भी खेल खेला था. राजस्थान में भी वो लोग वही करना चाहते थे. खुला खेल था....और मैं समझता हूँ कि खुले खेल में वो लोग मात खा गए.

कांग्रेस सेवादल के नए अध्यक्ष हेम सिंह शेखावत पहुंचे PCC, कहा-हम बहुत अच्छा काम करेंगे, संगठन को और मजबूत बनाएंगे

राज्यपाल ने की सीएम गहलोत से मुलाकात:
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र से मिलने पहुंचे. यहां पर गहलोत मंत्रिमंडल में बदलाव की जानकारी दी. साथ ही विधायकों के समर्थन का पत्र भेजेंगे. खबर यह भी है कि बुधवार को मंत्रिमंडल फेरबदल किया जाएगा. सीएम गहलोत ने राज्यपाल कलराज मिश्र को प्रस्ताव दिया. उन्होंने सचिन पायलट,विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को बर्खास्त किए जाने का प्रस्ताव दिया. राज्यपाल कलराज मिश्र ने सीएम के प्रस्ताव को तत्काल प्रभाव से स्वीकृति प्रदान की.


 

मंत्रिपरिषद के नए गठन की तैयारी, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने तय किए ये नाम! 

मंत्रिपरिषद के नए गठन की तैयारी, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने तय किए ये नाम! 

जयपुर: राजस्थान में सियासी संकट के बीच सीएमआर में कैबिनेट की मीटिंग हुई है. जिसके तुरंत बाद ही मंत्रिपरिषद की बैठक हुई. जिसमें अहम फैसले लिए गए है. सूत्रों के मुताबिक राजस्थान में मंत्रिपरिषद के नए गठन की तैयारियां शुरू हो गई है. अगले 10-12 दिन में मंत्रिपरिषद का विस्तार की बात सामने आ रही है. सीएम गहलोत मंत्रिपरिषद के नए गठन को अंतिम रूम दे रहे है. वहीं सूत्रों की माने तो मंत्रिपरिषद में शामिल होने वाले नाम तय हो गए है. 

बीजेपी के मंसूबे पूरे नहीं हुए:
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट करते हुए कहा कि राजस्थान में बीजेपी के मंसूबे पूरे नहीं हुए है. उन्होंने कर्नाटक, मध्यप्रदेश में धन-बल के आधार पर जो कुछ भी खेल खेला था. राजस्थान में भी वो लोग वही करना चाहते थे. खुला खेल था....और मैं समझता हूँ कि खुले खेल में वो लोग मात खा गए.

जयपुर एयरपोर्ट पर बढ़ रहा चार्टर विमानों का आवागमन, डेढ माह में हुआ 78 चार्टर विमानों का मूवमेंट

राज्यपाल ने की सीएम गहलोत से मुलाकात:
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र से मिलने पहुंचे. यहां पर गहलोत मंत्रिमंडल में बदलाव की जानकारी दी. साथ ही विधायकों के समर्थन का पत्र भेजेंगे. खबर यह भी है कि बुधवार को मंत्रिमंडल फेरबदल किया जाएगा. सीएम गहलोत ने राज्यपाल कलराज मिश्र को प्रस्ताव दिया. उन्होंने सचिन पायलट,विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को बर्खास्त किए जाने का प्रस्ताव दिया. राज्यपाल कलराज मिश्र ने सीएम के प्रस्ताव को तत्काल प्रभाव से स्वीकृति प्रदान की.

प्रदेश में 3 बड़े समूहों पर आयकर छापेमारी, जब्त दस्तावेजों से खुलासा कर सकता है आयकर विभाग!

जयपुर एयरपोर्ट पर बढ़ रहा चार्टर विमानों का आवागमन, डेढ माह में हुआ 78 चार्टर विमानों का मूवमेंट

 जयपुर एयरपोर्ट पर बढ़ रहा चार्टर विमानों का आवागमन, डेढ माह में हुआ 78 चार्टर विमानों का मूवमेंट

जयपुर: कोरोना काल में 2 माह तक फ्लाइट्स का संचालन बंद रहा. 25 मई से फिर से फ्लाइट संचालन चल रहा है, लेकिन अभी भी फ्लाइट्स में यात्रियों की संख्या बहुत ज्यादा नहीं देखी जा रही है. इसके अलावा फ्लाइट्स की संख्या में भी बहुत ज्यादा बढ़ोतरी नहीं हो रही है. दरअसल 25 मई से फ्लाइट्स का संचालन शुरू हाेने पर एयर इंडिया, इंडिगो, एयर एशिया और स्पाइसजेट ने 20 फ्लाइट शुरू करने का शेड्यूल दिया था. डेढ माह से ज्यादा समय बीतने पर भी अभी शेड्यूल में 24 फ्लाइट दर्शाई जा रही हैं. लेकिन इनमें से रोजाना औसतन 15 से 16 फ्लाइट ही संचालित हो रही हैं.

एक शातिर वाहन चोर चढ़ा पुलिस के हत्थे, चोरी की दो बाइकें बरामद, पूछताछ में अन्य खुलासा होने की संभावना

डेढ माह की अवधि में 78 चार्टर विमानों का मूवमेंट:
रोजाना 8 से 9 फ्लाइट रद्द चल रही हैं. इस बीच जयपुर एयरपोर्ट पर चार्टर फ्लाइट का प्रचलन बढ़ा है. मंत्री, सांसद या फिर उद्योगपति समूहों से जुड़े लोग सामान्य फ्लाइट से यात्रा करने के बजाय अलग विमान में यानी चार्टर फ्लाइट में सफर करने को तरजीह दे रहे हैं. 25 मई से 10 जुलाई तक की डेढ माह की अवधि में 78 चार्टर विमानों का मूवमेंट हुआ है. दरअसल कोरोना के डर से अधिकांश वीआईपी लोग या तो सड़क मार्ग से यात्रा कर रहे हैं, या फिर चार्टर फ्लाइट से यात्रा कर रहे हैं. राजनैतिक दलों से जुड़े नेताओं के अलावा औद्योगिक घरानों से जुड़े लोग भी चार्टर फ्लाइट से यात्रा कर रहे हैं.

पीसीसी चीफ बनाए जाने पर बोले डोटासरा, पार्टी ने जो मुझे इज्जत बख्शी है,मैं बहुत आभार व्यक्त करता हूं

कोरोना काल में चार्टर फ्लाइट से आवागमन
- जयपुर एयरपोर्ट पर गर्मियों में बढ़ा चार्टर फ्लाइट का मूवमेंट
- आमतौर पर जून-जुलाई में नहीं होता चार्टर प्लेन का आवागमन
- रोज बमुश्किल एक चार्टर फ्लाइट का मूवमेंट होता है गर्मियों के दौरान
- लेकिन कोरोनाकाल में इन दिनों बढ़ा चार्टर फ्लाइट का मूवमेंट
- पिछले डेढ माह में 78 चार्टर फ्लाइट का हुआ आवागमन
- कांग्रेस के राजनैतिक घटनाक्रम में नेताओं का चार्टर विमानों से हुआ मूवमेंट
- श्री सीमेंट, बिड़ला, रिलायंस और कई अन्य ग्रुप के लोगों का हुआ मूवमेंट
- चार्टर विमान कम्पनियां हर घंटे का औसतन ढाई से 3 लाख रुपए लेती किराया
- सामान्य फ्लाइट में ज्यादा यात्री होने पर रहता है संक्रमण का खतरा
- चार्टर फ्लाइट में केवल 2-5 लोग होने पर सुरक्षित माना जाता सफर

...फर्स्ट इंडिया के लिए काशीराम चौधरी की रिपौर्ट

Open Covid-19