लखनऊ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह बोले- ब्रह्मोस इसलिए बना रहे ताकि कोई देश भारत की तरफ बुरी नजर उठाकर देखने की जुर्रत न करे

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह बोले- ब्रह्मोस इसलिए बना रहे ताकि कोई देश भारत की तरफ बुरी नजर उठाकर देखने की जुर्रत न करे

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह बोले- ब्रह्मोस इसलिए बना रहे ताकि कोई देश भारत की तरफ बुरी नजर उठाकर देखने की जुर्रत न करे

लखनऊ: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को लखनऊ में ब्रह्मोस मिसाइल निर्माण इकाई का शिलान्यास किया. इस मौके पर उन्होंने कहा कि हम ब्रह्मोस इसलिए बनाना चाहते हैं ताकि दुनिया का कोई देश भारत पर बुरी नजर उठाकर देखने की जुर्रत न कर सके. रक्षामंत्री सिंह ने रक्षा प्रौद्योगिकी एवं परीक्षण केंद्र तथा ब्रह्मोस विनिर्माण केंद्र के शिलान्यास के बाद आयोजित सभा को संबोधित करते हुए कहा, 'हम ब्रह्मोस मिसाइल बना रहे हैं, रक्षा के दूसरे उपकरण और हथियार बना रहे हैं तो दुनिया के किसी देश पर आक्रमण करने के लिए नहीं बना रहे हैं.' सिंह ने कहा कि हम तो हिंदुस्तान की धरती पर ब्रह्मोस इसलिए बनाना चाहते हैं कि भारत के पास कम से कम ऐसी ताकत हो कि दुनिया का कोई देश भारत की तरफ बुरी नजर उठाकर देखने की जुर्रत न करे.'

पाकिस्तान का नाम लिए बिना उन्होंने कहा कि मैं उरी और पुलवामा की घटना की आपको याद दिलाना चाहता हूं, एक हमारा पड़ोसी देश है ...जिससे पुलवामा में जिस प्रकार की आतंकवादी वारदात को अंजाम दिया, उसके बाद हमारे प्रधानमंत्री ने फैसला लिया और हमने उस देश की धरती पर जाकर आतंकवादियों का सफाया किया.' राजनाथ ने जोर देकर कहा कि एयर स्ट्राइक में भी हमने कामयाबी हासिल की थी, हमने यह संदेश दे दिया कि अगर कोई हमपर बुरी नजर उठाकर देखेगा तो हम सीमा पार करके भी कार्रवाई कर सकते हैं, यह भारत की ताकत है. रक्षा मंत्री ने रक्षा परियोजनाओं पर प्रकाश डालते हुए कहा, 'आज दोनों इकाइयों का यहां शिलान्यास हो रहा है.यह हमारे देश की सुरक्षा की दृष्टि से महत्वपूर्ण है. साथ ही रक्षा उत्पादन इकाई क्षेत्र में उत्तर प्रदेश को एक विशेष स्थान बनाने में यह कामयाब होगा. उन्होंने कहा कि इनसे यहां के लोगों को रोजगार भी हासिल होगा और उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था में एक नया अध्याय जुड़ जाएगा.’’राजनाथ सिंह ने रक्षा वैज्ञानिकों और अभियंताओं को बधाई देते हुए मुख्यमंत्री के प्रति आभार जताया और कहा, 'मैने कल्पना नहीं की थी कि छह आठ, दस माह में भी भूमि अधिग्रहण हो पाएगा लेकिन मुख्यमंत्री जी ने डेढ़ माह में इस परियोजना के लिए दो सौ एकड़ जमीन उपलब्ध कराई है.' उन्होंने माफियाओं के दमन के लिए योगी की तारीफ करते हुए कहा कि 'हर काम में योगी जी दरियादिली दिखाते, लेकिन एक काम में कंजूसी करते हैं, 

ये माफियाओं के मामले में जरा भी रियायत नहीं देते. सभी जगह बुलडोजर चल रहे हैं, इस समय बल्‍ले बल्‍ले है लेकिन अपराधियों की नहीं बल्कि बुलडोजर वालों की है. इसी का परिणाम है कि भारत के ही नहीं दुनिया के निवेशक उत्तर प्रदेश में अपना पैसा निवेश करने आ रहे हैं. उन्होंने प्रसिद्ध मंदिरों के जीर्णोद्धार के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयासों की भी प्रशंसा की. उत्तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने अपने संबोधन में कहा कि लखनऊ में ही अब ब्रह्मोस मिसाइल बनेगी और नये नये अनुसंधान यहां पर होंगे और भारत को रक्षा के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने में मदद मिलेगी. उन्होंने कहा कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है और हमेशा दुनिया को मैत्री और शांति का संदेश दिया है लेकिन हमारी मैत्री, करुणा का संदेश मानवता के कल्याण को ध्‍यान में रखकर है. इसका मतलब नहीं कि हम अपने देश की 135 करोड़ जनता की सुरक्षा पर किसी भी प्रकार की आंच आने दें. योगी ने कहा कि विगत साढ़े सात वर्ष के अंदर केंद्र सरकार द्वारा किये गये ऑपरेशन को देखा होगा और हर व्‍यक्ति इस बात को मानता है कि ये नया भारत है, छेड़ता नहीं है लेकिन अगर कोई छेड़ता है तो उसे छोड़ता भी नहीं है. मुख्यमंत्री ने कहा, ' ब्रह्मोस का उत्पादन लखनऊ में हो तो लखनऊ अब केवल इस बात के लिए नहीं होगा कि 'मुस्कुराइये आप लखनऊ में हैं' बल्कि लखनऊ अब दुश्मन देश के लिए दहाड़ने की बात भी कर सकता है. यहां बनने वाली मिसाइल न केवल रक्षा आवश्यकताओं की पूर्ति का माध्यम बनेगी बल्कि भारत की सुरक्षा पंक्ति को और सुदृढ़ करने और युवाओं के रोजगार के लिए भी एक बेहतरीन माध्‍यम बनेगी.' कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री और क्षेत्रीय सांसद कौशल किशोर तथा राज्‍य सरकार के कई मंत्री और विधायक तथा रक्षा सचिव मौजूद थे. सोर्स- भाषा

और पढ़ें