Budget 2020: गहलोत सरकार के बजट पर टिकी प्रदेशवासियों की निगाहें, सभी वर्गों की उम्मीदें परवान पर

Budget 2020: गहलोत सरकार के बजट पर टिकी प्रदेशवासियों की निगाहें, सभी वर्गों की उम्मीदें परवान पर

Budget 2020: गहलोत सरकार के बजट पर टिकी प्रदेशवासियों की निगाहें, सभी वर्गों की उम्मीदें परवान पर

जयपुर: वित्त विभाग के अधिकारियों के साथ सीएम गहलोत द्वारा बजट को अंतिम रूप देने पर अब काउंटडाउन शुरू हो गया है. केन्द्रीय बजट के बाद अब प्रदेशवासियों की निगाहें राज्य के बजट पर टिकी हैं. सीएम गहलोत कल सुबह 11 बजे बजट पेश करेंगे. राज्य बजट को लेकर प्रदेश के सभी वर्ग को गहलोत सरकार से काफी उम्मीदें हैं. वहीं सीएम गहलोत ने भी बजट को लोकर पूरी तैयारियां कर ली है जिससे की लोगों को निराशा हाथ नहीं लगे. लोग चुनाव के समय की गई घोषणाओं में से बची हुई घोषणाओं के लिए भी अच्छा होने की उम्मीद लगाए बैठे हैं.

VIDEO: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बजट को दिया अंतिम रूप, वित्त विभाग अधिकारियों के साथ किया फाइनल

प्रदेश सरकार की ओर से गुड गवर्नेंस पर फोकस रहेगा:
गहलोत सरकार ने भी बजट पर होमवर्क पूरा कर लिया है. बजट से पहले सरकार, औद्योगिक संस्थाओं, एनजीओ, युवाओं, महिलाओं, और आम जनता से अहम सुझाव लिए गए हैं. प्रदेश सरकार की ओर से गुड गवर्नेंस पर फोकस रहेगा. बजट का किसान, स्वास्थ्य, शिक्षा और उद्योग हितैषी रहने की संभावना लगाई जा रही है. गहलोत सरकार का ध्यान मुख्य रूप से रोजगार पर भी रहने का अनुमान लगाया जा रहा है. वहीं राज्य के बजट से केंद्र की योजनाओं को भी गति मिलेगी. जीएसटी के सरलीकरण में भी सरकार कुछ अहम बदलाव कर सकती है.  

भूमि विकास बैंकों में किसानों के ऋण आवेदन की प्रक्रिया को शीघ्र ही किया जायेगा ऑनलाइन

जल संरक्षण के प्रावधानों को भी वरीयता दी जाएगी:
वहीं बजट में शिक्षा नीति को लेकर भी बड़ी घोषणा हो सकती है. इसके साथ ही ग्रामीण आधारभूत ढांचे की संरचना का दायरा भी बढ़ाया जा सकता है. मिलावट खोरी को रोकने के लिए भी कड़े नियम बनाए जा सकते हैं. जल संरक्षण के प्रावधानों को भी वरीयता दी जाएगी. पर्यटन और होटल व्यवसाय को गति दी जाएगी. इसके साथ ही मनरेगा को उद्योगों से जोड़ने की भी घोषणा की जा सकती है.

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में को मिलेगी गति:
बजट में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में शामिल जयपुर, उदयपुर, कोटा व अजमेर के काम को गति मिल सकती है. पश्चिमी राजस्थान के पेयजल संकट से जूझ रहे जिलों के लोगों को इस बजट से जरूर राहत मिलेगी. जल जीवन मिशन योजना का भी राज्य के कई बड़े शहरों को लाभ मिलेगा. इसमें 10 लाख से अधिक आबादी वाले शहर शामिल होंगे. 

नक्सली हमले में शहीद अजीत सिंह को उनके दोनों बेटों ने दी मखाग्नि

कितनी उम्मीदें होंगी पूरी:
प्रदेश के युवा, बुजुर्ग, महिलाएं, नौकरीपेशा, किसान और व्यापारी सभी को उम्मीदें परवान पर हैं. यह अलग बात है कि इनमें से कितनों की उम्मीदें पूरी होती हैं और कितनों की धराशायी. इसका खुलासा तो गुरुवार को बजट का पिटारा खुलने पर ही हो पाएगा. 

और पढ़ें