संजय हेगड़े ने सुनाया सुप्रीम कोर्ट का फैसला, कहा-किसी को रास्ता रोकने का नहीं है अधिकार 

संजय हेगड़े ने सुनाया सुप्रीम कोर्ट का फैसला, कहा-किसी को रास्ता रोकने का नहीं है अधिकार 

संजय हेगड़े ने सुनाया सुप्रीम कोर्ट का फैसला, कहा-किसी को रास्ता रोकने का नहीं है अधिकार 

नई दिल्ली: दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में गत 15 दिसंबर से सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है। इस बीच सुप्रीम कोर्ट के वार्ताकार प्रदर्शनकारियों से बातचीत के लिए शाहीन प्रदर्शन स्थल पर पहुंच गए हैं। इस दौरान संजय हेगड़े ने सुप्रीम कोर्ट का फैसला सुनाया। मालूम हो कि सुप्रीम कोर्ट ने प्रदर्शनकारियों को दूसरे स्थल पर जाने के लिए मनाने के लिए दो वार्ताकारों की नियुक्ति की है।

खुल सकता है सुलह का रास्ता:
दिल्ली के शाहीन बाग में केंद्र सरकार और प्रदर्शनकारियों के बीच सुलह का रास्ता खुलता सकता है. सुप्रीम कोर्ट की ओर से नियुक्त वार्ताकार वरिष्ठ वकील संजय हेगड़े शाहीन बाग पहुंचे हैं. वे प्रदर्शनकारियों से सुलह के फॉर्मूले पर बात करेंगे. उनके साथ साधना राम चंद्रन भी पहुंची हैं. दोनों वार्ताकार जब शाहीन बाग के प्रदर्शन मंच पर पहुंचे तो लोगों ने तालियां बजाकर स्वागत किया. प्रदर्शन स्थल पर पहुंचने के बाद संजय हेगड़ने ने कहा कि हमारे पास वक्त है, हम आपको सुनने आए हैं. संजय हेगड़े ने मंच पर पहुंचने के बाद सुप्रीम कोर्ट का फैसला भी पढ़ा. उन्होंने कहा है कि प्रोटेस्ट की इजाजत सबको है लेकिन किसी को रास्ता रोकने का अधिकार नहीं है.

Budget 2020: गहलोत सरकार के बजट पर टिकी प्रदेशवासियों की निगाहें, सभी वर्गों की उम्मीदें परवान पर

इस मामले का हल मिलकर निकालें:
साधना रामचंद्रन ने प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि आपको प्रदर्शन करने का हक है. सुप्रीम कोर्ट का फैसला है कि आप आंदोलन कर सकते हैं. लेकिन हक वहीं तक होना चाहिए, जहां दूसरों का हक न रुके. प्रदर्शन करना लोगों का हक है लेकिन रोड ब्लॉक करना, मेट्रो रोकना, पब्लिक वे रोकना सही नहीं है. इस मामले का हल मिलकर निकालें. सरकार और प्रदर्शन पर बैठे लोगों को इसका हल निकालना है. ऐसा हल निकालें जो लोगों के लिए उदाहरण बने. साधना रामचंद्रन और संजय हेगड़ने ने कहा कि हम मीडिया के बिना बातचीत करेंगे. 

VIDEO: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बजट को दिया अंतिम रूप, वित्त विभाग अधिकारियों के साथ किया फाइनल

2 माह से ज्यादा वक्त से चल रहा है प्रदर्शन: 
गौरतलब है कि शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ दो महीने से ज्यादा समय से प्रदर्शन चल रहा है. इसकी वजह से सड़क बंद पड़ी है.सुप्रीम कोर्ट ने प्रदर्शनकारियों से बातचीत करने के लिए एक वार्ताकार पैनल का गठन किया था, जिसमें पूर्व मुख्य सूचना आयुक्त वजाहत हबीबुल्लाह, वरिष्ठ वकील संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन शामिल हैं.

और पढ़ें