Educational News: CBSE 12वीं के Practical, आंतरिक मूल्यांकन के अंक Upload करने की अंतिम तिथि 28 जून तक बढ़ी

Educational News: CBSE 12वीं के Practical, आंतरिक मूल्यांकन के अंक Upload करने की अंतिम तिथि 28 जून तक बढ़ी

Educational News: CBSE 12वीं के Practical, आंतरिक मूल्यांकन के अंक Upload करने की अंतिम तिथि 28 जून तक बढ़ी

नई दिल्ली: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने बारहवीं कक्षा की परीक्षा के लिए व्यावहारिक / आंतरिक मूल्यांकन (Practical / Internal Assessment) के अंक अपलोड करने की अंतिम तिथि 28 जून तक बढ़ा दी है. जिन स्कूलों का व्यावहारिक/आंतरिक मूल्यांकन लंबित है उनको केवल ऑनलाइन मोड (Online Mod) में संचालित करने की अनुमति है. इस बात की जानकारी न्यूज एजेंसी ने दी है. 

13 सदस्यीय समिति करेगी रिजल्अ का फॉर्मूला तैयार:
आपको बता दें कि CBSE पहले ही रिजल्ट का फॉर्मूला तैयार करने के लिए 13 सदस्यीय समिति (13 Member Committee) का गठन कर चुकी है. इस समिति को 10 दिनों में रिपोर्ट पेश करनी है. इससे पहले CBSE बोर्ड के सचिव ने कहा था कि दो हफ्ते के भीतर बारहवीं कक्षा के रिजल्ट के मूल्यांकन मानदंड को घोषित कर दिया जाएगा. बता दें कि 1 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने छात्रों के हित को ध्यान में रखते हुए CBSE बोर्ड की बारहवीं कक्षा की परीक्षा को रद्द कर दिया था.

मूल्यांकन मानदंड के आधार पर रिजल्ट को लेकर असंतुष्ट होने पर दे सकता है परिक्षा:
आपको बता दें कि प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) की तरफ से जारी बयान में पहले ही कहा जा चुका है कि जो विद्यार्थी ऑब्जेक्टिव क्राइटेरिया (Objective Criteria) से प्राप्त नंबरों से संतुष्ट नहीं होंगे, उनको कोरोना वायरस (Covid Virus) की स्थिति के सामान्य होने के बाद परीक्षा में बैठने का विकल्प दिया जाएगा. यानी कि अगर कोई छात्र CBSE की तरफ से मूल्यांकन मानदंड के आधार पर रिजल्ट जारी करने पर प्राप्त अंकों से संतुष्ट नहीं है, तो वह बोर्ड परीक्षा दे सकता है. अगर छात्रों को लगता है कि मूल्यांकन मानदंड के आधार पर उनको कम नंबर मिले हैं, तो वे फिर से बारहवीं कक्षा की परीक्षाएं दे सकते हैं. लेकिन ये परीक्षाएं कोरोना की वजह से पैदा हुए हालात के सामान्य होने के बाद ही आयोजित होंगी.

अभी बोर्ड की तरफ से यह जानकारी नहीं दी गई है कि मूल्यांकन मानदंड से असंतुष्ट छात्रों के लिए बारहवीं की परीक्षाओं का आयोजन कब किया जाएगा. बोर्ड के सचिव अनुराग त्रिपाठी का कहना है कि मूल्यांकन क्राइटेरिया से संतुष्ट नहीं होने वाले छात्र परीक्षाओं में बैठ सकते हैं. उन्होंने कहा कि ये परीक्षाएं कोविड-19 महामारी के सामान्य होने के बाद ही आयोजित होंगी.
 

और पढ़ें