Live News »

CBSE Board 10th Results : 10वीं का रिजल्ट जारी, cbseresults.nic.in पर करें चेक

CBSE Board 10th Results : 10वीं का रिजल्ट जारी, cbseresults.nic.in पर करें चेक

नई दिल्ली: सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE) ने 10वीं का रिजल्ट जारी कर दिया है. इसके साथ ही CBSE 10th की परीक्षा देने वाले करीब 18 लाख बच्चों का इंतजार भी खत्म हो गया है. केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने ट्वीट करके इसकी जानकारी दी. CBSE Class 10th में 91.46% स्टूडेंट्स पास हुए हैं. जिसमें 93.31% लड़कियां और 90.14% लड़के पास हुए हैं. CBSE 10वीं का रिजल्ट http://cbse.nic.in/, http://cbseresults.nic.in/और http://results.nic.in/ पर चेक कर सकते हैं. 

बता दें कि 13 जुलाई को CBSE 12वीं का रिजल्ट घोषित किया जा चुका है. इस बार 12वीं में 88.78% स्टूडेंट्स पास हुए है. जिसमें दिल्ली जोन में 94.39 प्रतिशत रिजल्ट रहा है. CBSE 12वीं की परीक्षा में लड़कियों ने बाजी मारी है. इस बार 12वीं में लड़कियों का रिजल्ट 92.15 प्रतिशत रहा है. पिछले साल कुल 83.40 फीसदी स्टूडेंट्स पास हुए थे.

और पढ़ें

Most Related Stories

लिफ्ट में फंसे 3 लोगों को दमकल कर्मियों ने निकाला बाहर, कोई जनहानि नहीं

लिफ्ट में फंसे 3 लोगों को दमकल कर्मियों ने निकाला बाहर, कोई जनहानि नहीं

पालघर: महाराष्ट्र के पालघर जिले में एक बड़ा हादसा होते-होते रह गया है. खबर है की पालघर जिले के वसई शहर में छह मंजिला इमारत में एक लिफ्ट में तीन लोग फंस गये थे जिसके बाद दमकल कर्मियों की मदद से उन्हें बाहर निकाला गया है. इस घटना की जानकारी दमकर विभाग के एक अधिकारी ने दी है. 

दमकल विभाग के सूत्रों ने बताया कि पपड़ी इलाके में मंगलवार की दोपहर एक इमारत की लिफ्ट खराब हो गई थी और पहली व दूसरी मंजिल के बीच फंस गई थी. उस वक्त लिफ्ट में तीन लोग मौजूद थे जिनकी सांस अटक के रह गई थी . बताया जा रहा है  कि  यह स्थिति करीब एक घंटे तक रही थी. 

अधिकारी ने जानकारी देते हुए  बताया  है कि लिफ्ट में फंसे एक व्यक्ति ने दमकल कर्मियों को बुलाया था. इसके बाद दमकल विभाग के कर्मी शीघ्र ही वहां पहुंचे और अंदर फंसे तीन लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिय़ा था. जिससे बड़ा हादसे होते-होते रह गया है. (सोर्स-भाषा)

{related}

TDB की बड़ी घोषणा सबरीमला तीर्थयात्रियों को बोतलों में मिलेगा औषधीय पेयजल

TDB की बड़ी घोषणा सबरीमला तीर्थयात्रियों को बोतलों में मिलेगा औषधीय पेयजल

सबरीमलाः हाल ही में केरल के सबरीमला से एक बड़ी खबर आ रही है. बताया जा रहा है कि भगवान अय्यप्पा के मंदिर में आने वाले  श्रद्धालुओं को पीने के लिए जल बोतलों में दिया जाएगा. ऐसा कहा गया है कि अयप्पा मंदिर में चढा़ई के दौरान श्रद्धालुओं में वितरित किए जाने वाले औषधीय जल को अब सील पैक बोतलों में वितरित किया जाएगा. ये कदम कोविड-19 महामारी को ध्यान में रखते हुए उठाया गया है, जिसे काफी सराहा गया है. 

वायरस के मद्देनजर पहाड़ी मंदिर का प्रबंधन करने वाले त्रावणकोर देवस्वम बोर्ड (टीडीबी) ने विशेष रूप से तैयार पेयजल को अलग स्टील की बोतलों में वितरित करने की नई व्यवस्था शुरू की है, ताकि बीमारी फैलने का खतरा न हो. टीडीबी के अधिकारियों के मुताबिक, तीर्थयात्री स्टील की बोतल प्राप्त करने के लिए 200 रुपये जमा कर सकते हैं और आधार शिविर पम्बा के अंजनिया सभागार से औषधीय पेयजल एकत्र कर सकते हैं.

उन्होंने कहा कि जब दर्शन के बाद स्टील की बोतल काउंटर पर वापस कर दी जाएगी तो 200 रुपये की जमा राशि उन्हें वापस कर दी जाएगी. हर साल भगवान अयप्पा भक्तों के बीच वितरित किए जाने वाले औषधीय पेयजल को चुक्क(सूखे अदरक), रामचमऔर पाथिमुखम (सपनवुड) जैसे प्राकृतिक पदार्थों को उबालकर तैयार किया जाता है. ये स्वास्थ्य के लिए बहुत ही अच्छा होता है. जिसके बाद सभी ने इस फैसले की हौसलाआफजाई की है. (सोर्स-भाषा)

{related}

80 वें पीठासीन अधिकारियों के सम्मेलन में बोले राष्ट्रपति कोविंद, लोग करते हैं निर्वाचित प्रतिनिधियों से अनुशासन की उम्मीद 

80 वें पीठासीन अधिकारियों के सम्मेलन में बोले राष्ट्रपति कोविंद, लोग करते हैं निर्वाचित प्रतिनिधियों से अनुशासन की उम्मीद 

केवडिया (गुजरात): राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बुधवार को कहा कि निर्वाचित प्रतिनिधियों को संसद और विधानसभाओं में स्वस्थ संवाद करना चाहिए और सदन में चर्चा के दौरान असंसदीय भाषा के इस्तेमाल से बचना चाहिए. नर्मदा जिले के केवडिया गांव में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के निकट टेंट सिटी में 80वें अखिल भारतीय पीठासीन अधिकारी सम्मेलन के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए कोविंद ने कहा कि निर्वाचित प्रतिनिधियों द्वारा सदन में असंसदीय भाषा के इस्तेमाल और अनुशासनहीनता से उनका चुनाव करने वाले लोगों की भावनाएं आहत होती हैं.

लोकतांत्रिक मूल्यों को लेकर रहेंगे प्रतिबद्ध:
उन्होंने कहा कि निर्वाचित प्रतिनिधियों से यह उम्मीद की जाती है कि वे लोकतांत्रिक मूल्यों को लेकर प्रतिबद्ध रहेंगे. निर्वाचित प्रतिनिधियों और लोकतांत्रिक संस्थानों के लिये लोगों की उम्मीदों को पूरा करना सबसे बड़ी चुनौती है.कोविंद ने कहा कि मेरा मानना है कि देश के लोग उम्मीद करते हैं कि उनके निर्वाचित प्रतिनिधि संसदीय मान्यताओं का पालन करें. जब उनके निर्वाचित प्रतिनिधि असंसदीय भाषा का इस्तेमाल करते हैं या संसद अथवा विधानसभा में अनुशासनहीनता करते नजर आते हैं तो लोग आहत होते हैं. 

{related}

सदन में स्वस्थ संवाद के अवसर उपलब्ध कराने को कहा:
उन्होंने चर्चा के दौरान अनावश्यक कड़वाहट को दूर करने के लिये अध्यक्षों से सदन में स्वस्थ संवाद के अवसर उपलब्ध कराने को कहा. उन्होंने कहा कि संसदीय लोकतंत्र में सत्ताधारी दल के साथ ही विपक्ष की भी एक महत्वपूर्ण भूमिका है, इसलिये दोनों के बीच समझ,सहयोग और विचारों के अर्थपूर्ण आदान-प्रदान की जरूरत है.

सामाजिक सद्भावना, भाईचारे के लिए मौलाना कल्बे सादिक ने उल्लेखनीय प्रयास किया: मोदी

सामाजिक सद्भावना, भाईचारे के लिए मौलाना कल्बे सादिक ने उल्लेखनीय प्रयास किया: मोदी

नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे सादिक के निधन पर शोक व्यक्त किया और कहा कि सामाजिक सद्भावना और भाईचारे के लिए उन्होंने उल्लेखनीय प्रयास किया. ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के उपाध्यक्ष एवं जाने-माने शिया धर्मगुरु सादिक का मंगलवार देर रात लखनऊ में निधन हो गया. वह 83 वर्ष के थे.

{related}

पीएम मोदी ने  ट्वीट कर जताई संवेदनाः
पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा कि ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के उपाध्यक्ष रहे मौलाना कल्बे सादिक के निधन से अत्यंत दुख हुआ. उन्होंने सामाजिक सद्भावना और भाईचारे के लिए उल्लेखनीय प्रयास किया. उनके परिजनों और चाहने वालों के प्रति मेरी संवेदनाएं.

कैंसर, गंभीर निमोनिया और संक्रमण से पीड़ित थे मौलाना सादिकः
कैंसर, गंभीर निमोनिया और संक्रमण से पीड़ित मौलाना सादिक पिछले करीब डेढ़ महीने से अस्पताल में भर्ती थे. उन्हें पिछले मंगलवार को तबीयत बिगड़ने पर अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया था, लेकिन उनकी हालत में कोई सुधार नहीं हुआ. मौलाना कल्बे सादिक दुनिया भर में अपनी उदारवादी छवि के लिए जाने जाते थे.
सोर्स भाषा

हीराकुद बांध क्षेत्र में गल और ब्लैक कॉर्मोरेंट जैसे प्रवासी पक्षियों का आगमन शुरु, वन्य अधिकारियों ने जताई खुशी

हीराकुद बांध क्षेत्र में गल और ब्लैक कॉर्मोरेंट जैसे प्रवासी पक्षियों का आगमन शुरु, वन्य अधिकारियों ने जताई खुशी

संबलपुर: सर्दियों की शुरुआत के साथ ही ओडिशा के संबलपुर जिले के हीराकुद बांध क्षेत्र में विभिन्न महाद्वीपों से प्रवासी पक्षियों का आगमन शुरु हो गया है. एक वन्य अधिकारी ने बताया है कि गल और ब्लैक कॉर्मोरेंट जैसे पक्षियों को हाल ही में हीराकुद बांध जलाशय स्थल पर देखा गया है.  हीराकुद वन्यजीव प्रभाग के प्रभागीय वनाधिकारी (डीएफओ) प्रताप कोटापल्ली ने कहा है कि पक्षियों ने अपने शीतकालीन प्रवास के लिए जलाशय में आना शुरू कर दिया है. अगले कुछ दिनों में विभिन्न प्रजातियों के पक्षी जलाशय में नजर आएंगे. 

उन्होंने कहा कि पक्षियों की सुरक्षा और संरक्षण को सुनिश्चित करने के लिए कई उपाय किए गए हैं. साथ ही पक्षियों के शिकार को रोकने के लिए नियमित नाव गश्त हो रही है.जीरो प्वाइंट, बरखटिया, परबतटोंग और गोबिंदपुर में पक्षी सुरक्षा समूह पहले ही तैनात किए जा चुके हैं. आपको बता दे कि हर साल हजारों विदेशी पक्षी सर्दी के दौरान नवंबर में हीराकुद बांध जलाशय आते हैं और मार्च तक यहां रहते हैं. (सोर्स-भाषा)

{related}

खाई में गिरी मैक्सी कैब, 2 लोगों की मौत 5 घायल

खाई में गिरी मैक्सी कैब,  2 लोगों की मौत 5  घायल

आइजोलः मिजोरम के सेरछिप जिले से एक दुखद घटना सामने आई है, जहां एक सड़क हादसे मे तीन लोगों की मौत हो गई है. खबर है कि एक तेज रफ्तार मैक्सी कैब के खाई में गिरने से दो लोगों की मौत हो गई है और पांच अन्य घायल हो गए है. इस हादसे की जानकारी एक पुलिस अधिकारी ने दी है. 

उन्होंने बताया कि यह घटना मंगलवार शाम को थेनजोल गांव के पास हुई जब वाहन विपरीत दिशा से आ रहे एक अन्य वाहन को रास्ता देने की कोशिश करते हुए फिसल कर खाई में गिर गया है. एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि दुर्घटना में थेनजोल के दो लोगों की मौत हो गई है और पांच लोग घायल हो गए है. 

उन्होंने बताया कि दुर्घटना के दौरान दो नाबालिगों सहित सात लोग वाहन में सवार थे. अधिकारी ने कहा है कि घायल लोगों की हालत स्थिर है और वे खतरे से बाहर हैं. फिलहाल सभी का इलाज जारी है और पुलिस आगे की कार्यवाही कर रही है. (सोर्स-भाषा)

{related}

मवेशी चराने गए ग्रामीण को जंगली हाथी ने पैरों से कुचला, मौके पर ही मौत

मवेशी चराने गए ग्रामीण को जंगली हाथी ने पैरों से कुचला, मौके पर ही मौत

कोरबाः छत्तीसगढ़ के सूरजपुर जिले में एक जंगली हाथी के हमले में एक ग्रामीण की मौत हो गई है. सूरजपुर जिले के वन विभाग के अधिकारियों ने आज बताया है कि जिले के प्रतापपुर वन परिक्षेत्र के अंतर्गत खदरा गांव के जंगल में एक जंगली हाथी के हमले में सूरत लाल यादव (50) की मौत हो गई है. बताया जा रहा है कि ग्रामीण हर दिन की तरह मवेशीयों को लेगे जंगल जा रहा था औऱ ये हादसा हो गया है.

मामले की जानकारी देते हुए वन विभाग के अधिकारियों ने बताया है कि दुरती गांव निवासी यादव मंगलवार सुबह मवेशियों को चराने खदरा गांव के जंगल की ओर जा रहा था.इसी दौरान अचानक एक जंगली हाथी ने यादव पर हमला कर दिया था. हाथी ने यादव को सूंड़ से उठाकर जमीन पर पटक दिया और उसे कुचलकर मार डाला था. जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई थी. 

अधिकारियों ने बताया कि घटना की जानकारी मिलने के बाद वन विभाग के अधिकारी और कर्मचारी घटनास्थल पहुंचे तथा शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है. उन्होंने बताया कि यादव के परिजनों को तत्कालीन सहायता राशि के रूप में 25 हजार रुपए प्रदान किए गए हैं. शेष 5.75 लाख रुपए की राशि सभी अपौचारिकता पूर्ण होने के बाद दी जाएगी. 

अधिकारियों ने बताया कि प्रतापपुर वन परिक्षेत्र में तीन हाथी मौजूद है और हाथियों की मौजूदगी को देखते हुए ग्रामीणों को सतर्क किया गया है, लेकिन वन विभाग की चेतावनी को अनदेखी करते हुए ग्रामीण जंगल में मवेशी चराने या लकड़ी लेने चले जाते हैं तथा उनका सामना हाथियों से हो जाता है औऱ ऐसी घटनाएं घटती ही रहती है. जिससे ग्रामीणों की जान चली जाती है. (सोर्स-भाषा)

{related}

राष्ट्रपति,उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, सोनिया और कई अन्य नेताओं ने पटेल के निधन पर दुख जताया

राष्ट्रपति,उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, सोनिया और कई अन्य नेताओं ने पटेल के निधन पर दुख जताया

नई दिल्ली: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और कई अन्य नेताओं ने वरिष्ठ कांग्रेस नेता अहमद पटेल के निधन पर दुख व्यक्त करते हुए बुधवार को कहा कि पटेल कांग्रेस के एक मजबूत स्तंभ थे और उनका पूरा जीवन पार्टी के लिए समर्पित रहा. अहमद पटेल का बुधवार को निधन हो गया। वह 71 वर्ष के थे और कुछ हफ्ते पहले कोरोना वायरस से संक्रमित हुए थे.

राष्ट्रपति कोविंद ने जताया दुख:
राष्ट्रपति कोविंद ने ट्वीट किया, कांग्रेस नेता अहमद पटेल के निधन की सूचना से व्यथित हूं. वह एक दक्ष सांसद थे जिनके पास रणनीतिक कौशल के साथ-साथ जन नेता का आकर्षण था. उनका सौम्य और मिलनसार व्यक्तित्व ही था जिसकी वजह से हर राजनीतिक दल में उनके मित्र थे. उनके परिजनों और मित्रों के प्रति मेरी संवेदनाएं. पटेल के निधन पर दुख व्यक्त करते हुए उप राष्ट्रपति नायडू ने कहा कि राज्य सभा के सदस्य अहमद पटेल जी के निधन का समाचार पा कर स्तब्ध हूं. वरिष्ठ सांसद श्री पटेल अपने संसदीय अनुभव, सद्भाव और सौहार्दपूर्ण संबंधों के लिए जाने जाते थे. ईश्वर दिवंगत पुण्यात्मा को शांति तथा उनके परिजनों को धैर्य प्रदान करें. 

प्रधानमंत्री मोदी ने जताया शोक:
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी को मजबूत करने में उनकी भूमिका को हमेशा याद रखा जाएगा.उन्होंने ट्वीट किया, अहमद पटेल जी के निधन से व्यथित हूं. उन्होंने सार्वजनिक जीवन में एक लंबा समय बिताया और जन सेवा की. तेज दिमाग के लिए अपनी विशेष पहचान रखने वाले पटेल ने कांग्रेस को मजबूत बनाने में जो भूमिका निभाई उसे हमेशा याद रखा जाएगा. उनके पुत्र फैसल से बात की और अपनी संवेदनाएं प्रकट की. अहमद भाई की आत्मा को शांति मिले.पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने एक शोक संदेश में कहा कि अहमद पटेल जी के असामयिक निधन के बारे में सुनकर दुखी हूं. वह कांग्रेस के सबसे विश्वसनीय नेताओं में से एक और मेरे बेहतरीन दोस्त थे. उनका जाना कांग्रेस पार्टी के लिए अपूरणीय क्षति है. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि पटेल एक ऐसे कामरेड, निष्ठावान सहयोगी और मित्र थे जिनकी जगह कोई नहीं ले सकता.

{related}

पूरा जीवन रहा कांग्रेस पार्टी को समर्पित:
उन्होंने एक शोक संदेश में कहा कि अहमद पटेल के जाने से मैंने एक ऐसा सहयोगी खो दिया है जिनका पूरा जीवन कांग्रेस पार्टी को समर्पित था. उनकी निष्ठा और समर्पण, अपने कर्तव्य के प्रति उनकी प्रतिबद्धता, मदद के लिए हमेशा मौजूद रहना और उनकी शालीनता कुछ ऐसी खूबियां थीं, जो उन्हें दूसरों से अलग बनाती थीं. कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि मैंने ऐसा कामरेड, निष्ठावान सहयोगी और मित्र खो दिया जिनकी जगह कोई नहीं ले सकता. मैं उनके निधन पर शोक प्रकट करती हूं और उनके परिवार के प्रति गहरी संवेदना प्रकट करती हूं. राहुल गांधी ने अहमद पटेल के निधन पर दुख प्रकट करते हुए बुधवार को कहा कि पटेल एक ऐसे स्तंभ थे जो सबसे मुश्किल दौर में भी पार्टी के साथ खड़े रहे. पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने दुख जताते हुए कहा कि पटेल की कांग्रेस के प्रति प्रतिबद्धता और सेवा असीमित थी.

पटेल ने मुश्किल समय में बढ़ाया पार्टी को आगे: 
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट किया, दिग्गज कांग्रेस नेता और मित्र अहमद पटेल जी के निधन से स्तब्ध और दुखी हूं. यह कांग्रेस और मेरे जैसे पार्टी के सभी कार्यकर्ताओं के लिए बहुत बड़ी क्षति है. पार्टी के लिए उनके योगदान को हमेशा याद किया जाएगा. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा कि वरिष्ठ कांग्रेस नेता और मित्र अहमद पटेल जी के निधन से स्तब्ध और दुखी हूं. वह समर्पित कार्यकर्ता, हमारी पार्टी की मजबूत धुरी थे और उन्होंने मुश्किल समय में पार्टी को आगे बढ़ाया. उनके परिवार, मित्रों और कार्यकर्ताओं के प्रति मेरी संवेदना है. हम उनकी कमी महसूस करेंगे.

पूरे देश के लिए अपूरणीय क्षति :
छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ट्वीट किया, कांग्रेस विचारधारा के प्रति दृढ़ संकल्पित, जुझारू योद्धा, पार्टी के अनमोल रत्न अहमद भाई पटेल जी के निधन का समाचार हम सबके लिए स्तब्ध कर देने वाला है. उनका जाना कांग्रेस पार्टी और गुजरात के साथ ही पूरे देश के लिए भी अपूरणीय क्षति है. ईश्वर परिवार को संबल प्रदान करे. गृह मंत्री अमित शाह, कई अन्य केंद्रीय मंत्रियों, वाम दलों, सपा, राजद, द्रमुक, तृणमूल कांग्रेस और कई अन्य दलों के नेताओं ने भी पटेल के निधन पर दुख जताया.