जयपुर VIDEO: CHA कर्मियों ने PCC के बाहर किया हंगामा, दूसरी ओर रीट अभ्यर्थियों ने की कांग्रेस के पक्ष में नारेबाजी, देखिए ये रिपोर्ट

VIDEO: CHA कर्मियों ने PCC के बाहर किया हंगामा, दूसरी ओर रीट अभ्यर्थियों ने की कांग्रेस के पक्ष में नारेबाजी, देखिए ये रिपोर्ट

जयपुर: कांग्रेस जन सुनवाई के दौरान सीएचए कर्मचारियों का हंगामा और पुलिस से धक्का-मुक्की हुई. जबरन पीसीसी मुख्यालय में घुस रहे थे सीएचए कर्मचारी. पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा तक CHA कर्मियों ने अपनी बात कही. उधर रीट लेवल टू से जुड़े अभ्यर्थियों ने सरकार के पक्ष में नारेबाजी की.  पीसीसी में आज प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा सुनवाई कर रहे थे उसी दौरान कैबिनेट मंत्री लालचंद कटारिया और राज्य मंत्री जाहिदा खान जन सुनवाई कर रहे थे. तभी 50 से ज्यादा सीएचए कर्मचारी पीसीसी चीफ डोटासरा से मिलने की मांग को लेकर पुलिस का सुरक्षा घेरा तोड़कर अंदर घुसने लगे, इस दौरान कार्मिकों की पुलिस से धक्का-मुक्की हो गई. 

सीएचए महिला कार्मिकों ने आरोप लगाया कि पुलिस ने उनसे धक्का मुक्की. इस दौरान कार्मिकों और पीसीसी पदाधिकारियों रामसिंह कसवां, ललित तूनवाल, जसवंत गुर्जर के बीच भी नोकझोंक होती रही. कर्मचारी गोविंद सिंह डोटासरा से मुलाकात की मांग पर अड़े रहे. इसके बाद में CHA कर्मचारियों का ज्ञापन पीसीसी चीफ अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा तक सौंपा गया तब जाकर मामला शांत हुआ. 

गौरतलब है कि सोमवार को भी प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में जनसुनवाई के दौरान एनएचए कर्मचारियों ने मंत्री हेमाराम चौधरी और सालेह मोहम्मद के समक्ष उनकी मांगे पूरी नहीं करने को लेकर आत्महत्या की धमकी दी थी. रीट लेवल टू के अभ्यर्थियों ने कोर्ट में सरकार की ओर से जल्द जवाब पेश करने की मांग पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा से की ,पीसीसी चीफ ने तुरंत बात की AAG से. डोटासरा की पहल से उत्साहित रीट अभ्यर्थियों ने कांग्रेस के पक्ष में नारेबाजी की.

हंगामे के बीच PCC में आज कृषि मंत्री लाल चंद कटारिया और राज्य मंत्री जाहिदा ने जन सुनवाई की. 200 से अधिक समस्या उनके पास आई. बीते दिनों आए अंधड़ और तूफान को लेकर रिपोर्ट मंगवाने की बात कही लाल चंद कटारिया ने.कांग्रेस के प्रदेश मुख्यालय में जन सुनवाई के दौरान हंगामे और प्रदर्शनों ने पार्टी के लिए परेशानी खड़ी की है. कानूनी अड़चन में फंसे मसलों को पीसीसी हल नहीं कर सकती लेकिन हंगामे से सुनवाई कार्यक्रम पर असर पड़ता है. 

और पढ़ें