सीएम अशोक गहलोत ने टीकाकरण को लेकर केन्द्र पर फिर साधा निशाना, कहा-वैक्सीन को लेकर केंद्र की बड़ी भूल 

सीएम अशोक गहलोत ने टीकाकरण को लेकर केन्द्र पर फिर साधा निशाना, कहा-वैक्सीन को लेकर केंद्र की बड़ी भूल 

सीएम अशोक गहलोत ने टीकाकरण को लेकर केन्द्र पर फिर साधा निशाना, कहा-वैक्सीन को लेकर केंद्र की बड़ी भूल 

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत देश सहित प्रदेश में बढ़ते कोरोना वायरस संक्रमण और कम होते टीकाकरण अभियान को लेकर केन्द्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि वैक्सीन को लेकर केंद्र ने बड़ी भूल की  है. उन्होंने कहा कि आज जिस तरह बिना लक्षण वाले लोग बड़ी संख्या में अन्य लोगों को भी संक्रमित कर रहे हैं, यदि सभी को वैक्सीन लग जाती, तो यह स्थिति नहीं होती.

सीएम का सुझाव पहले की तरह राज्य व केंद्र ने मिलकर करे कामः
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि यह राष्ट्रीय आपदा की स्थिति है और इस समय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि जिस तरह 12 महीने पहले राज्य व केंद्र ने मिलकर काम किया था उसी तरह के साथ और काम की आज भी जरूरत है. मुख्यमंत्री गहलोत ने केन्द्र सरकार पर कोरोना प्रबंधन और टीकाकरण को लेकर आरोप इसलिए लगे क्योंकि केंद्र ने कुछ गलती की थी. पीएम मोदी को विपक्ष की राय सुननी चाहिए थी. लेकिन अब शिकायत किसी से है तो केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से है और मुझे नहीं लगता कि वे झूठ बोल सकते हैं. उन्होंने कहा कि वैक्सीन की कमी से राज्य तड़पड रहे थे, हमने तो सिर्फ केंद्र को कमी के लिए आगाह किया था, इसके बावजूद भी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने झूठ बोला औऱ कहा कि राज्य सरकार से मिस मैनेजमेंट कर रही है. उन्होंने कहा कि वैक्सीन के खराब होने पर राज्यों पर दोष मंढना ठीक नहीं है.सीएम गहलोत ने कहा कि भारत सरकार ने कोरोना में यदि कोई गलती की है तो यह कि वैक्सीन का प्रोग्राम जैसे चलना चाहिए था उस तरह से देश में वैक्सीन का कार्यक्रम नहीं चला. 

टीकाकरण को लेकर जताई चिंताः 
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने टीकाकरण पर जोर देते हुए कहा कि यदि हमें समय पर वैक्सीन नहीं मिली तो हमारे सभी केंद्र बंद हो जाएंगे. सीएम ने कहा कि आज पूरी दुनिया कोरोना जैसी बीमारी से जूझ रही है, लेकिन हमारे वैज्ञानिकों ने बहुत कम समय में वैक्सीन बनाकर मानव जाति के जीवन को बचाने का काम किया है. उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का जिक्र करते हुए कहा कि कल टीकाकरण को लेकर मनमोहन सिंह जी ने पीएम मोदी को पत्र लिखा था, उसमें राज्यों में वैक्सीन की कमी को लेकर उन्होंने चिंता जताते हुए कुछ सुझाव दिए थे. पीएम मोदी को उन सुझावों को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पूरे देश में फ्री वैक्सीनेशन की घोषणा करनी चाहिए.

कोरोना के बढ़ते प्रकोप के लिए प्रशासन को भी बताया जिम्मेदारः
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने चुनावों को लेकर भी कहा कि प्रदेश में कोरोना के बढ़ते प्रकोप के बीच चुनाव करवाने और इस स्थिति में पहुंचने के लिए कुछ हद तक हम लोग भी जिम्मेदार है, लेकिन ज्यूडिशरी व चुनाव आयोग भी अपनी जिम्मेदारी से नहीं बच सकते. उन्होंने कहा कि मैंने जब ट्वीट किया तो 95 फीसदी कमेंट मेरे खिलाफ आए, लोगों ने कहा कि आप प्रचार खत्म करने के बाद ये बात बोल रहे हो, लोगों को इस तरह प्रतिक्रिया देना उनका हक है. राजनीति में कार्यकर्ता नेताओं को छोड़ता नहीं है और मजबूरी में नेताओं को कार्यकर्ताओं के बीच जाना पड़ता है. इस मामले में तो चुनाव आयोग को स्टैंड लेना चाहिए था, लेकिन ऐसा नहीं हो सका.

कोरोना मैनेजमेंट में राजस्थान ने किया अच्छा कामः
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश में कोरोना प्रबंधन की तारीफ करते हुए कहा कि कोरोना मैनेजमेंट में राजस्थान ने अच्छा काम किया. उन्होंने कहा कि राजस्थान में पहले से कोरोना का संक्रमण बढ़ रहा था औऱ  पिछले कुछ दिनों से प्रदेश में मृत्यु का भी आंकड़ा बढ़ा है. इसको लेकर हम रोजाना वीसी के जरिए संवाद कर रहे हैं. सीएम गहलोत ने कहा कि वर्तमान में राजस्थान बाकी राज्यों से अच्छी स्थिति में है. हालांकि राजस्थान में ऑक्सीजन की पड़ रही कमी को लेकर उन्होंने कहा कि हमारे यहां पर ऑक्सीजन के प्लांट को बंद कर दिया गया. प्रधानमंत्री जी को भी अपनी सभी रैलियां बंद करनी चाहिए. 

और पढ़ें