राजस्थान में बढ़ते ब्लैक फंगस के मामलों को लेकर सीएम अशोक गहलोत चिंतित, केंद्र सरकार को इसे गंभीरता से लेने के लिए कहा

राजस्थान में बढ़ते ब्लैक फंगस के मामलों को लेकर सीएम अशोक गहलोत चिंतित, केंद्र सरकार को इसे गंभीरता से लेने के लिए कहा

राजस्थान में बढ़ते ब्लैक फंगस के मामलों को लेकर सीएम अशोक गहलोत चिंतित, केंद्र सरकार को इसे गंभीरता से लेने के लिए कहा

जयपुर: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोरोना से रिकवर हुए मरीजों में बढ़ रहे ब्लैक फंगस को लेकर चिंता जताई है. उन्होंने कोरोना के ठीक हो चुके मरीजों में ब्लैक फंगस बीमारी के मामले सामने आने पर चिंता जताते हुए गुरुवार को कहा कि केंद्र सरकार को इसे गंभीरता से लेना चाहिए.

इसे गंभीरता से लेते हुए इसकी रोकथाम के लिए अनुसंधान करवाए भारत सरकारः
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट किया कि राजस्थान सहित देश के विभिन्न राज्यों में कोरोना से ठीक हो चुके मरीजों में म्यूकरमाइकोसिस (ब्लैक फंगस) बीमारी के मामले सामने आना बहुत चिन्ताजनक है. ऐसी जानकारी मिली है कि यह बीमारी कोरोना से ठीक हुए डायबिटिज के रोगियों में अधिक हो रही है. इस बीमारी में पीड़ित की आंखो की रोशनी जाने के साथ जबड़े तक को निकालने की नौबत आ रही है. उन्होंने कहा कि भारत सरकार को इसे गंभीरता से लेकर इसकी रोकथाम के लिए अनुसंधान करवाना चाहिए तथा साथ ही इस बीमारी की रोकथाम व इलाज में काम आने वाली जरूरी दवाइयों एवं इंजेक्शन जैसे एम्फोटिसिरिन की व्यवस्था भी कर लेनी चाहिए जिससे इसकी कमी ना हो.

ग्लोबल टेंडर को लेकर भी साधा केन्द्र सरकार पर निशानाः
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने वैक्सीन के लिए ग्लोबल टेंडर को लेकर कहा कि देश में वैक्सीन की कमी से अब तक 11 राज्य वैक्सीन खरीदने हेतु ग्लोबल टेंडर निकाल चुके हैं.इससे राज्यों को अलग-अलग कीमत पर वैक्सीन मिलेगी. अच्छा यह होता कि भारत सरकार ग्लोबल टेंडर निकालती एवं राज्यों को योजनाबद्ध तरीके से वैक्सीन उपलब्ध करवाती क्योंकि सम्पूर्ण वैक्सीनेशन से ही कोरोना की तीसरी लहर से बचा जा सकता है.

और पढ़ें