कोविड टीकाकरण अभियान कार्य को तय समय पर पूरा किया जाएःमुख्यमंत्री अशोक गहलोत

कोविड टीकाकरण अभियान कार्य को तय समय पर पूरा किया जाएःमुख्यमंत्री अशोक गहलोत

जयपुरः मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि हैल्थ केयर वर्कर्स एवं आमजन का आह्वान है कि वे टीकाकरण करवाएं और किसी भी तरह की भ्रांति से बचें. इस दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोरोना टीकाकरण अभियान कार्य को तय समय पर पूरा करने के अधिकारियों को निर्देश दिए. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत मंगलवार को मुख्यमंत्री आवास पर वीसी के जरिये कोविड-19 टीकाकरण की अब तक की प्रगति की समीक्षा कर रहे थे.

टीकाकरण को लेकर किसी भी तरह की भ्रांति से बचेंः
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि हैल्थ केयर वर्कर्स एवं आमजन का आह्वान है कि वे टीकाकरण करवाएं और किसी भी तरह की भ्रांति से बचें. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अधिकारियों को भारत सरकार की गाइडलाइन को फॉलो करते हुए प्रदेश में वैक्सीनेशन के लक्ष्य को तय समय में पूरा करने के निर्देश दिए. 

वैक्सीनेशन के कोई साइड इफेक्टस नहीं दिखेः
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि यह खुशी की बात है कि प्रदेश में कोरोना वैक्सीनेशन कराने वाले स्वास्थ्यकर्मियों में अभी तक किसी तरह के गंभीर साइड इफेक्टस नहीं दिखे हैं. हैल्थकेयर वर्कर्स उत्साह के साथ आगे आकर वैक्सीन लगवा रहे हैं. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि वैक्सीनेशन को लेकर किसी तरह की भ्रांति न रहे, इस हेतु लोगों को निरंतर जागरूक किया जाए.

तकनीकी खामियों को दुरुस्त करने के निर्देशः
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने टीकाकरण लक्ष्य हासिल नहीं करने में को लेकर आ रही  तकनीकी खामियों को लेकर कहा कि कोविन सॉफ्टवेयर में तकनीकी बाधाओं के कारण आ रही बाधाओं को जल्द से जल्द दूर करें. इस दौरान उन्होंने केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों से बात कर कोविन सॉफ्टवेयर में आ रही तकनीकी बाधाओं को दूर करने के निर्देश दिए.

देश में वैक्सीनेशन में राजस्थान तीसरे नंबर परः
समीक्षा बैठक में चिकित्सा मंत्री डॉ.रघु शर्मा ने कहा कि जयपुर, दौसा, गंगानगर सहित जिन जिलों में वैक्सीनेशन का प्रतिशत कम है. वहां के कलेक्टर्स और सीएमएचओ से वीसी के जरिये बात की जाएगी और वैक्सीनेशन कार्य को तेज गति देने और टीकाकरण बढ़ाने पर चर्चा की जाएगी. उन्होंने बताया कि 25 जनवरी तक 1 लाख 61116 स्वास्थ्य कर्मियों का वैक्सीनेशन किया जा चुका है. देश में टीकाकरण वह कर्नाटक एवं ओडिशा के बाद राजस्थान तीसरे स्थान पर है.

और पढ़ें