समीक्षा बैठक में बोले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, कहा- कोविड की चुनौती में आयुष चिकित्सा पद्धतियों की विशेष भूमिका

समीक्षा बैठक में बोले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, कहा- कोविड की चुनौती में आयुष चिकित्सा पद्धतियों की विशेष भूमिका

समीक्षा बैठक में बोले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, कहा- कोविड की चुनौती में आयुष चिकित्सा पद्धतियों की विशेष भूमिका

जयपुरः मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि कोरोना का संक्रमण शहरों के साथ-साथ गांवों में और युवाओं में भी तेजी से फैल रहा है. साथ ही मौतों की संख्या भी बढ़ी है. प्रदेश के अस्पतालों, चिकित्सकों, पैरामेडिकल स्टाफ पर अत्यधिक दबाव है. संकट की इस घड़ी में रोगियों के बेहतर उपचार और इस चुनौती से लड़ने के लिए जरूरी है कि आयुष पद्धतियों और इनसे जुडे़ तमाम संसाधनों का भी समुचित उपयोग सुनिश्चित हो. उन्होंने कहा कि पहली लहर में आयुष पद्धति के माध्यम से कोरोना की जंग लड़ने में बड़ी मदद मिली थी. दूसरी लहर में भी इन पद्धतियों के सहयोग से हमें गांव-ढाणी तक लोगों की जीवन रक्षा में आसानी होगी.  मुख्यमंत्री मंगलवार शाम को मुख्यमंत्री निवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से आयुर्वेद एवं भारतीय चिकित्सा विभाग की समीक्षा बैठक को सम्बोधित कर रहे थे.

आयुष की भारतीय चिकित्सा पद्धतियां कारगरः
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि आयुष की भारतीय चिकित्सा पद्धतियां इतनी कारगर हैं कि उनमें बिना दुष्प्रभावों के गंभीर एवं जटिल रोगों का जड़ से निदान करने की क्षमता मौजूद है. आवश्यकता इस बात है कि इन पद्धतियों के बारे में लोगों को अधिक से अधिक जानकारी देकर इनके उपयोग को बढ़ावा दिया जाए. राज्य सरकार इस दिशा में तमाम प्रयास कर रही है. बजट में कई घोषणाएं की गई हैं, जिनसे आयुर्वेद, यूनानी, होम्योपैथी, योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति को प्रोत्साहन मिलेगा. 

कोविड आपदा में आयुष पद्धतियों की भूमिका और महत्वपूर्णः
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि हमारे बीच में से ही ऎसे कई उदाहरण मिलेंगे, जिनमें लोग आयुष पद्धतियों को अपनाकर कोरोना सहित अन्य गंभीर बीमारियों से सफलतापूर्वक लड़ पाए. यह पद्धतियां हमारे जीवन शैली, योग, आहारचर्या एवं ऋतुचर्या आदि से जुड़ी हुई हैं, अगर पूरे संयम और अनुशासन के साथ इनका पालन करें तो हम निरोगी बने रह सकते हैं. कोविड की इस आपदा में इन पद्धतियों की भूमिका और महत्वपूर्ण हो जाती है. 

कोरोना की पहली लहर में भी रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए किया गया था प्रयासः
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि आयुष विभाग ने कोरोना की पहली लहर में आयुर्वेदिक काढ़े, यूनानी काढ़े, क्वाथ, आर्सेनिक एल्बम जैसी दवाओं से लोगों की रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने का प्रयास किया, उससे हमें काफी मदद मिली थी. दूसरी लहर में भी लोगों को जागरूक करने, कोरोना से बचाव तथा गांव-गांव तक फैली अपनी स्वास्थ्य सुविधाओं के माध्यम से विभाग संकट की इस घड़ी में निरन्तर अपनी भूमिका निभाए.

और पढ़ें