जयपुर RAS Training Program में बोले CM गहलोत- धर्म के आधार पर देश नहीं बन सकता, पाकिस्तान धर्म के आधार पर बना, क्या हश्र हुआ आप देख लो ?

RAS Training Program में बोले CM गहलोत- धर्म के आधार पर देश नहीं बन सकता, पाकिस्तान धर्म के आधार पर बना, क्या हश्र हुआ आप देख लो ?

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज OTS में 2018 बैच के प्रशिक्षु RAS अधिकारियों के प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्घाटन किया. RAS, RPS, और अकाउंट सर्विस अधिकारियों का 8 अप्रैल तक OTS में फाउंडेशन कोर्स चलेगा. 

OTS में प्रशिक्षु RAS ट्रेनिंग कार्यक्रम के उद्घाटन के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने संबोधन में कहा कि धर्म के आधार पर देश नहीं बन सकता. पाकिस्तान धर्म के आधार पर बना, क्या हश्र हुआ आप देख लो? आज देश में धर्म के आधार पर राजनीति की जा रही है. आज देश में तनाव की स्थिति है. 70 साल बाद जातिवाद व छुआछूत खत्म हो जाना चाहिए था लेकिन आज भी ये समाज में कायम है. आप अफसरों को इन सब चुनौती का सामना करना है. 

जो काम संभव न हो, उनके लिए धरना ठीक नहीं: 
मैं चाहता हूं कमियां दूर हो, अभी भी कई धरने होते हैं. लेकिन जो काम संभव न हो, उनके लिए धरना ठीक नहीं. अब कहते हैं कि REET के पद 50 हजार कर दो, अब बताओ यह कैसे हो सकता है. RAS वाले कह दे कि पद 1500 की जगह 3 हजार कर दो तो कैसे कर दें. हमने हाईकोर्ट, सुप्रीम कोर्ट तक कोशिश की.  

मैं हमेशा चाहता हूं कि जवाबदेह, संवेदनशील व पारदर्शी सरकार रहे:
इससे आगे बोलते हुए मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि परीक्षा में किसी तरह का विलम्ब न हो. हम UPSC की तर्ज पर समय पर परीक्षा चाहते हैं. पेपर लीक की भी शिकायत आती है. गैंग बनाकर पेपर लीक के काम किये जा रहे हैं. मैं हमेशा चाहता हूं कि जवाबदेह, संवेदनशील व पारदर्शी सरकार रहे. ये तीनों बिंदु अफसरों को भी अपनी लाइफ में रखने चाहिए. राजनीति हो या प्रशासनिक सेवा हो, मूल्यों में गिरावट आई है. 

राजनीति हो या ब्यूरोक्रेसी हमेशा सकारात्मक सोच होनी चाहिए: 
वहीं इस दौरान सीएम गहलोत ने पूछा कैसा लग रहा है तो एक प्रशिक्षु ने कहा कि अच्छा लगा है. CM ने कहा कि आप लोगों ने मेरे खिलाफ खूब ट्वीट किए. आपने  नियुक्ति के लिए खूब आंदोलन चलाये. लेकिन मैंने कभी बुरा नहीं माना, आप भी ऐसी ही अप्रोच रखना. राजनीति हो या ब्यूरोक्रेसी हमेशा सकारात्मक सोच होनी चाहिए. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अब आप लोगों पर बहुत जिम्मेदारी है. आप लोगों ने कैम्पेन चलाये, हम चाहते है कि ऐसी नौबत न आये. 

यदि व्यक्ति ईमानदार है तो फिर हर कोई आपका साथ देगा:
उन्होंने कहा कि मैं केंद्र में तीन बार मंत्री रह चुका हूं. जो विभाग मिलता था, उनकी जानकारी मुझे नहीं थी. लेकिन यदि कॉमन सेंस आपमें है तो मंत्रालय संभालने में समर्थ हो जाते हो. यदि व्यक्ति ईमानदार है तो फिर हर कोई आपका साथ देगा. लेकिन यदि भ्रष्ट हो तो फिर कोई काम नहीं होगा. इसके साथ ही सीएम गहलोत ने कहा कि पैसा ही सबकुछ नहीं है. अरबपति लोग बेड के बिना मर गए. आप गांधी के देश में हो, गांधी को पढ़ो. CM ने आर वेंकटेश्वर से कहा कि मेरी तरफ से इनको गांधीजी की जीवनी भेंट कर देना. 

और पढ़ें