Live News »

VIDEO: सीएम गहलोत ने पचपदरा में बारीकी से किया रिफाइनरी का निरीक्षण और लिया फीडबैक

VIDEO: सीएम गहलोत ने पचपदरा में बारीकी से किया रिफाइनरी का निरीक्षण और लिया फीडबैक

बाड़मेर: वर्ष 2013 में सोनिया गांधी द्वारा चलाए गए रिफाइनरी प्रोजेक्ट की समीक्षा को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बाड़मेर के पचपदरा पहुंचे, जहां उन्होंने रिफाइनरी प्रोजेक्ट की समीक्षा करने के साथ आवश्यक फीडबैक लिया और इस बात पर खुशी जाहिर की कि यहां स्थानीय लोगों को अधिक रोजगार दिया जाएगा. साथ ही देश का सबसे बड़ा प्रोजेक्ट होगा, जहां रिफाइनरी और पेट्रो केमिकल इंडस्ट्रीज एक साथ होगी. 

रिफाइनरी प्रोजेक्ट की अब तक की गतिविधियों का लिया जायजा:
राजस्थान के हर क्षेत्र के विकास को लेकर अपना अलग दृष्टिकोण रखने वाले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने वर्ष 2013 में मुख्यमंत्री रहते हुए बाड़मेर के पचपदरा में रिफाइनरी का जो सपना देखा था, वह भले ही भाजपा के शासनकाल में 5 साल तक किसी भी वजह से आगे नहीं बढ़ पाया हो, मगर अब जब राजस्थान में कांग्रेस की सरकार आई है, तब तेज गति से रिफाइनरी का प्रोजेक्ट आगे बढ़ रहा है और खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत लगातार इसकी मांग करते रहे हैं. इसी सिलसिले में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने सहयोगी मंत्री हरीश चौधरी के साथ रिफाइनरी प्रोजेक्ट की अब तक की गतिविधियों का जायजा लिया. 

एक-एक बिंदु पर अधिकारियों से फीडबैक:
अब तक हुए सड़कों के निर्माण से लेकर दीवार बनने के अलावा शुरू किए गए निर्माण कार्यों की जानकारी ली. वहीं एच आर आर एल के सीईओ शेखर गायकवाड ने जब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को बताया कि पूरे हिंदुस्तान का सबसे बड़ा प्रोजेक्ट रिफाइनरी और पेट्रो केमिकल इंडस्ट्री एक साथ लग रहे है और स्थानीय लोगों को रोजगार देना प्राथमिकता तय किया गया है. इस पर मुख्यमंत्री ने खुशी जाहिर की और इस प्रोजेक्ट को नियत समय पर पूरे करने के निर्देश दिए. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बकायदा पावर प्रोजेक्ट के जरिए यहां चल रहे कार्यों की जानकारी ली और एक-एक बिंदु पर अधिकारियों से फीडबैक लेने के साथ आवश्यक निर्देश भी दिए. बकायदा बैठक में तमाम एजेंसियों के अधिकारी मौजूद रहे. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बकायदा रिफाइनरी के प्रोजेक्ट को देखा और अधिकारियों से देर तक फीडबैक लिया. 

केन्द्र सरकार पर प्राइवेसी लीक करने का आरोप:
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने पचपदरा दौरे के दौरान रिफाइनरी के किए जा रहे कार्यो का अवलोकन करने के बाद रवाना होने से पूर्व मीडिया से बातचीत करते हुए केन्द्र सरकार पर प्राइवेसी लीक करने का आरोप लगाते हुए कहा कि लम्बे अरसे से हर व्यक्ति के दिल के अंदर बात आ गई कि टेलीफोन मोबाइल से बात मत करो, लैंडलाइन पर आ जाओ. यह बात मैं लम्बे समय से इसलिए कह रहा था, वह अब सामने आ रहा है. कंपनी और बात कह रही है और भारत सरकार और बात कह रही है. सच्चाई सामने आनी चाहिए. इसके लिए देश में कमिशन बनना चाहिए कि अभी तक किसकी जासूसी हुई है. अभी तो प्रियंका गांधी नाम आया है पता नहीं भारत सरकार और किस किस की जासूसी करवा रही है, इसका खुलासा होना चाहिए. यह इतना बडा आरोप लगा है, यह संविधान की मूल भावना के खिलाफ है, इसके लिए कोई कमिशन बने और जांच पडताल करके सरकार को आगे आकर इसमें दूध का दूध और पानी का पानी करना चाहिए. आम जनता को विश्वास दिलाए कि सच्चाई क्या है. 

कई अधिकारी-नेता रहे मौजूद:
इस दौरान मंत्री हरीश चौधरी व  प्रमोद जैन भाया के अलावा राजस्थान सरकार के मुख्य सचिव डी बी गुप्ता, शासनसचिव भास्कर ए सावंत, श्रम और नियोजन आयुक्त समित कुमार शर्मा और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के सलाहकार गोविंद शर्मा भी मौजूद रहे. इस दौरान पूर्व सांसद बद्रीराम जाखड़, आदर्श जाट महासभा के युवा अध्यक्ष प्रकाश बेनीवाल, पीसीसी सचिव शमा खान, बाड़मेर के विधायक मेवाराम जैन, पचपदरा विधायक मदन प्रजापत, पदमाराम मेघवाल, पूर्व मंत्री पूर्व मंत्री गोपाराम मेघवाल, कलक्टर अंशदीप व एसपी शरद चौधरी मौजूद रहे. 

... बाड़मेर के पचपदरा से संवाददाता पीके बृजवाल व बंशीलाल चौधरी के साथ राजीव गौड़ की रिपोर्ट

और पढ़ें

Most Related Stories

विवाहिता ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, ससुराल वालों के दहेज मांग से थी परेशान

 विवाहिता ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, ससुराल वालों के दहेज मांग से थी परेशान

बायतु(बाड़मेर): बायतु के गिड़ा थाना क्षेत्र के सवाऊ मूल राज में विवाहिता ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. जानकारी के मुताबिक पिता धारू राम निवासी धर्मासर फलसुंड ने लिखित रिपोर्ट पेश कर बताया कि उनकी बेटी सुवादेवी की शादी 6 साल पूर्व हरीश पुत्र पूनमाराम निवासी चोवतानी मेघवालो कि ढाणी सवाऊ मूलराज के साथ हुई थी और कुछ समय बाद ससुराल पक्ष वाले दहेज कम लाने की वजह से उसके साथ मारपीट करने लगे.

चीन की दवा कंपनी ने बनाई कोरोना की दवा, बंदरों पर हुई यूज, अब होगा इंसान पर परीक्षण !

समझाने पर भेजा ससुराल:
कई बार गांव के लोगों द्वारा समझाने पर भी नहीं माने कुछ समय पूर्व मेरी बेटी इन से परेशान होकर पीहर आ गई थी. फिर ससुराल पक्ष के लोगों और गांव के लोगों ने हमें विश्वास दिलाया कि आगे से इसके साथ मारपीट नहीं करेंगे. तब हमने इसे वापस ससुराल भेज दिया.

पुलिस जुटी जांच में:
फिर भी सुसराल के लोग अपनी आदतों से बाज नहीं आये. सासु मूमल देवी, पति हरीश, जेठ चम्पाराम, देवर चंदू ने मेरी बेटी का गला घोंट कर हत्या कर दी. और शव को फंदे पर लटका दिया. पुलिस ने पीहर पक्ष की मौजूदगी में मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाकर शव को परिजनों सपुर्द कर जांच में जुटी है.

Rajasthan Corona Updates: कोटा में एक साथ सामने आये 18 नए पॉजिटिव केस, मरीजों की संख्या पहुंची 140

किसानों की फसल को बाजार तक पहुंचाने के लिए किसान रथ मोबाइल एप साबित होगा मील का पत्थर : कैलाश चौधरी

किसानों की फसल को बाजार तक पहुंचाने के लिए किसान रथ मोबाइल एप साबित होगा मील का पत्थर : कैलाश चौधरी

बाड़मेर: कोरोना लोकडॉउन के बावजूद देश में खेती-किसानी से जुड़े तमाम लोगों को हरसंभव मदद और राहत देने के लिए केंद्र सरकार निरंतर काम कर रही है. इसी कड़ी में शुक्रवार को केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी एवं परषोतम रुपाला ने कृषि उत्पादों के परिवहन में सुगमता लाने के उद्देश्य से किसान रथ मोबाइल एप लांच किया. इस अवसर पर मंत्रालय के सचिव संजय अग्रवाल सहित अन्य संबंधित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे. बैठक में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से विभिन्न राज्यों में मंडियों से जुड़े व अन्य जनप्रतिनिधियों से संवाद किया गया.

Covid-19 Updates: देश में कोरोना केस बढ़ने में 40% की कमी आई, 80 फीसदी ठीक हो रहे- स्वास्थ्य मंत्रालय 

मौजूद संकट के दौर में कृषि का काम बहुत तेजी के साथ करने की आवश्यकता:
किसान रथ मोबाइल एप के बारे में जानकारी देते हुए केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि कोरोना लॉकडाउन के चलते सामान्य चलने वाला कामकाज प्रभावित हुआ है. मौजूद संकट के दौर में कृषि का काम बहुत तेजी के साथ करने की आवश्यकता है. इसे देखते हुए केंद्र सरकार ने कृषि के काम में रूकावट न हो एवं किसानों को परेशानी नहीं हो. इसलिए अनेक छूटें प्रारंभ से ही इस क्षेत्र के लिए दी है. खेती-किसानी का काम इन दिनों जोरों पर है व अनेक राज्यों में उपार्जन का काम भी प्रारंभ हो गया है. 

कई दिनों की तैयारी के बाद किसान रथ मोबाइल एप लांच: 
कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि सारी रियायतों के बाद भी कृषि उत्पादों के परिवहन में कुछ परेशानियों की शिकायतें आई. इस दृष्टि से कृषि मंत्रालय ने इस कठिनाई को हल करने के लिए कई दिनों की तैयारी के बाद किसान रथ मोबाइल एप लांच किया है.

Rajasthan Corona Updates: प्रदेश में लगातार बढ़ रहा कोरोना का दायरा, 1193 पहुंचा संक्रमितों का आंकड़ा 

एप कृषि उत्पादों के सुचारू परिवहन की दिशा में मील का पत्थर साबित होगा:
उन्होंने कहा कि यह मोबाइल एप निश्चित रूप से पूरे देश में कृषि उत्पादों के सुचारू परिवहन की दिशा में मील का पत्थर साबित होगा. पहले दिन ही 5 लाख से अधिक वाहन उपलब्ध हैं. चौधरी ने कहा कि हमने कंट्रोल रूम भी सेटअप किया है, सभी राज्यों से अनुरोध है कि वे भी अपने यहां किसानों के हित में ऐसा कदम उठाएं. उन्होंने सभी किसानों से इस नए आयाम के भरपूर उपयोग की अपील की है. 

Rajasthan Lockdown: बालोतरा में आगे आये भामाशाह, जरूरतमंदों को रोजाना करवा रहे है भोजन

Rajasthan Lockdown: बालोतरा में आगे आये भामाशाह, जरूरतमंदों को रोजाना करवा रहे है भोजन

बालोतरा(बाड़मेर): कोरोना संक्रमण को लेकर पूरा देश एकजुट होकर लड़ रहा है. इसी को लेकर दानवीर और भामाशाह भी दिल खोल कर आगे आ रहे है. बालोतरा शहर में दर्जनों भामाशाह प्रतिदिन आमजन को भोजन मुहैया करवा रहे है तो सीएम राहत कोष में भी राशि जमा करवाई जा रही है. इसी कड़ी में शुक्रवार को बालोतरा के उधमी आगे आये और सीएम राहत कोष में 1 करोड़ की राशि का चेक उपखण्ड अधिकारी को सौंपा है.

भीलवाड़ा मॉडल पर जीत पाएंगे कोरोना की जंग, एसीएस मेडिकल रोहित कुमार सिंह बनाए हुए पैनी नजर

बालोतरा और बिठुजा के उधमी सरकार के साथ:
बालोतरा CETP के अध्यक्ष सुभाष मेहता ने बताया कि बालोतरा और बिठुजा के उधमी सरकार के साथ है, प्रदेश की गहलोत सरकार हरकदम पर उधोग को बढ़ावा दे रही है, संकट की घड़ी में हम सरकार के साथ कन्धा से कंधा मिलाकर चल रहे है. स्थानीय प्रशासन को भी लॉक डाऊन में पूरा सहयोग कर रहे है. इस दौरान पचपदरा विधायक मदन प्रजापत, कांग्रेस जिला कोषाध्यक्ष नरेश ढ़ेलडिया सहित कई उद्यमी मौजूद रहे.

राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग, राज्यपाल कलराज मिश्र ने प्रदेश में कोरोना हालात की जानकारी दी

शेरगढ़ सड़क हादसे में 11 लोगों की मौत के बाद क्षेत्र में शोक की लहर, हादसे से पहले परिवार सहित सेल्फी हुई वायरल

शेरगढ़ सड़क हादसे में 11 लोगों की मौत के बाद क्षेत्र में शोक की लहर, हादसे से पहले परिवार सहित सेल्फी हुई वायरल

बालोतरा(बाड़मेर): शेरगढ़ सड़क हादसे में 11 लोगों की मौत के बाद बालोतरा क्षेत्र में शोक की लहर है. एक ही परिवार से जुड़े लोगों की मौत के बाद हर कोई हतप्रभ है. यह परिवार नवविवाहित जोड़े को बालोतरा से रामदेवरा दर्शन के लिए ले जा रहा था. इनकी शादी 27 फरवरी को ही हुई थी. दुःखद हादसे के बाद केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी ने शेरगढ़ के पास हुए घटनास्थल पर पहुंचे और जायजा लिया. साथ ही प्रशासन से घटना के बारे में जानकारी जुटाई. 

जोधपुर में केम्पर-ट्रेलर में भिड़ंत होने से दर्दनाक हादसा, दूल्हा-दुल्हन सहित 11 की मौत, 3 घायल 

हादसे से पहले परिवार सहित सेल्फी हुई वायरल:
शेरगढ़ हादसे से पहले की एक होटल पर परिवार सहित चाय पीते हुए की फोटो वायरल हो रही है. वायरल फोटो को देखकर हर कोई दुख जाहिर कर रहा है. 

VIDEO- Corona virus: राजस्थान में 30 मार्च तक स्कूल, मॉल, सिनेमाघर और कोचिंग सेंट बंद, बोर्ड समेत अन्य परीक्षाएं रहेंगी यथावत 

केंद्रीय मंत्री, राजस्व मंत्री, स्थानीय विधायक ने जताया शोक:
हादसे के बाद केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी, राजस्व मंत्री हरीश चौधरी, विधायक मदन प्रजापत सहित स्थानीय नेताओं ने घटना के बाद गहरा दुःख व्यक्त किया है. हादसे की जानकारी मिलने पर सीएम अशोक गहलोत ने भी अपनी संवेदनाएं व्यक्त की है.

VIDEO: अंधविश्वास की पराकाष्ठा, 6 घंटे तक कमरे में पति का शव रखकर पत्नी बोली तंत्र मंत्र से कर दूंगी जिंदा 

हादसे में इनकी हुई मौत:
 1. जगदीश पुत्र बादरमाल माली कुसीप सिवाना, 
2. कैलाश पुत्र हजारीमल माली बालोतरा
3. किशोर पुत्र मोहनलाल माली बालोतरा
4. प्रियंका सोलंकी पुत्री गौतम बालोतरा
5. प्रतिप पुत्र किशोर माली बालोतरा
6. विमला पुत्री केवलराम बालोतरा
7. रासु पुत्री किशोर माली बालोतरा
8. सीता पत्नी विक्रम माली कनाना सिवाना
9. विक्रम पुत्र केवलराम कनाना सिवाना
10. डिम्पल पत्नी किशोर माली बालोतरा
11. एक अन्य किशोर माली की पुत्री 

पुलिस हिरासत में युवक की मौत मामले में थानेदार निलंबित, थाना लाइन हाजिर

बाड़मेर: प्रदेश के बाड़मेर जिले में एक युवक की कथित तौर पर पुलिस हिरासत में मौत होने के मामले में थानेदार को निलंबित व पूरे थाने को लाइन हाजिर कर दिया गया है. पुलिस अधीक्षक शरद चौधरी ने कहा कि एनएचआरसी के निर्देशों के तहत एसएचओ को निलंबित कर दिया गया है और पूरे थाने का लाइन हाजिर कर दिया गया है. मामले की जांच अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक को दी गई है और तीन दिन में रिपोर्ट देने का निर्देश दिया गया है. जांच रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी.

दिल्ली हिंसा: केजरीवाल सरकार का ऐलान, मृतकों के परिजनों को मिलेगा 10-10 लाख रुपए का मुआवजा

बाड़मेर: मोबाइल चोरी के शक में पहले की युवक की पिटाई, फिर डाला प्राइवेट पार्ट में सरिया

बाड़मेर: नागौर की तर्ज पर बाड़मेर में प्राइवेट पार्ट में सरिया डालने का मामला सामने आया है.जानकारी के मुताबिक भादरेश में मोबाइल चोरी के शक में युवक की पहले पीटा की गई. फिर उसके बाद प्राइवेट पार्ट में सरिया डाला गया है.पीड़ित ने ग्रामीण थाने में मुकदमा दर्ज करवाया है. पीड़ित तिरसंगड़ी गांव का निवासी है. साथ ही मारपीट का वीडियो भी वायरल किया गया है. पीड़ित का आरोप आरोपियों ने प्राइवेट पार्ट में सरिया डाला. फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर मामले की पूरी जांच कर रही है.

महाशिवरात्रि स्पेशल: एक शिवलिंग ऐसा है जो उत्तरायण से दक्षिणायन की तरफ झुकता है

बाड़मेर में कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीजों की संख्या हुई चार, सभी चीन से लौटे थे घर

बाड़मेर में कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीजों की संख्या हुई चार, सभी चीन से लौटे थे घर

बाड़मेर: चीन के बाद राजस्थान में भी कोरोना वायरस दस्तक दे रहा है. राजस्थान के कई जिलो से कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीज सामने आने के बाद हड़कंप मचा हुआ है. 

कोरोना वायरस के संदिग्धों की संख्या 4 हो गई: 
चीन में कोरोनो वायरस के बाद अब बाड़मेर मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भी कोरोना वायरस के संदिग्धों की संख्या 4 हो गई है. चारों मेडिकोज को आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है, जहां पर चिकित्सकों व नर्सिंगकर्मी लगातार निगरानी रखे हुए हैं. संदिग्धों की संख्या बढ़ने के साथ ही स्वास्थ्य विभाग की भी चिंता बढ़ गई है. अस्पताल में दो छात्र पहले से आइसोलेशन वार्ड में है, इसी बीच दो और मेडिकोज के चीन से लौटने की जानकारी मिलने पर उन्हें अस्पताल बुलाया गया. दोनों मेडिकोज की चिकित्सा जांच के बाद आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है.

चारों छात्र छुट्टियों के दौरान चीन से घर आए थे:
गौरतलब है कि चारों छात्र छुट्टियों के दौरान चीन के हुवान से बाड़मेर अपने घर आ गए थे,कोरोना वायरस की ग्लोबल वार्निंग के पहले बाड़मेर आने के कारण इनकी कहीं पर भी स्क्रीनिंग नहीं हुई. अस्पताल के प्रमुख चिकित्सा अधिकारी डॉ. बीएल मंसुरिया ने बताया कि वायरस प्रभावित क्षेत्र से लौटे लोगों को कम से कम 14 दिन तक निगरानी में रखना आवश्यक होता है इस दौरान भले ही उनकी रिपोर्ट नेगेटिव आती हैं तो भी उनको अस्पताल में ही रहना होगा. 

संदिग्धों की संख्या बढ़ने से विभाग को भी चिंता सताने लगी:
अस्पताल में कोरोना वायरस के संदिग्धों की संख्या बढ़ने से विभाग को भी चिंता सताने लगी है अब तक चार संदिग्ध बाड़मेर में सामने आ चुके हैं. विभाग अपने स्तर पर तथा छात्रों से पता करके अन्य किसी मेडिकोज के बाड़मेर आने की जानकारी भी जुटा रहा है. साथ ही अस्पताल आए दो मेडिकोज के नमूना लेकर जांच के लिए जयपुर भेज दिए हैं. इस बीच पूर्व में 2 छात्रों के भेजे गए नमूनों की जांच रिपोर्ट 4 दिन बाद भी नहीं आई है. 

कोरोना वायरस को लेकर चीन में आई आफत ने बढ़ाई बाड़मेर में 50 से अधिक परिवारों की फिक्र

कोरोना वायरस को लेकर चीन में आई आफत ने बढ़ाई बाड़मेर में  50 से अधिक परिवारों की फिक्र

बाड़मेर: कोरोना वायरस को लेकर चीन में आई आफत ने बाड़मेर के 50 से अधिक परिवारों की फिक्र बढ़ा दी है. तकरीबन 30 एमबीबीएस के विद्यार्थी इन दिनों चीन के हूवान और जंघान शहर के विश्विद्यालयों में है जिनको अब भारत आने की इजाजत नहीं मिल रही है.

एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहे विद्यार्थियों के परिजनों को चिंता सता रही:
राज्य व केंद्र सरकार के सामने इन दिनों एक नई आफत निकलकर सामने आई है जिसका नाम है कोरोनो वायरस. इन दिनों बाड़मेर ही नही बल्कि राज्य के कई जिलों कोरोनो वायरस के मरीज सामने आ रहे हैं. ऐसे में चीन में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहे विद्यार्थियों के परिजनों को बड़ी चिंता सताने लगी है. कोरोना वायरस को लेकर चीन में आई आफत ने बाड़मेर के 50 से अधिक परिवारों की फिक्र बढ़ा दी है. तकरीबन 30 एमबीबीएस के विद्यार्थी इन दिनों चीन के हूवान और जंघान शहर के विश्विद्यालयों में है जिनको अब भारत आने की इजाजत नहीं मिल रही है. इन विद्यार्थियों को हॉस्टल में ही रखा गया है, जहां से बाहर जाने की इजाजत नहीं है.

इन विद्यार्थियों के एक बार घर लौटने का इंतजार:
पूर्णतया मेडिकल जांच में बैठे इन विद्यार्थियों में बीमारी को लेकर फिक्र है, तो परिजनों को भी यहां चिंता हो रही है. आलम यह है कि परिजन हर पल और हर क्षण अब अपने लाडलों से वीडियो कॉल करके जान रहे है कि वे कैसे है? इस दौरान यह सवाल आम है कि खाना खाया, जांच हुआ था या नहीं...? हल्की सी खांसने या अन्य हरकत को देखते ही बोल रहे है ऐसा क्यों है? उधर से विद्यार्थी आश्वस्त कर रहे है कि नहीं, हम ठीक है. परिजनों को अब इन विद्यार्थियों के एक बार घर लौटने की बेसब्री है लेकिन एयरपोर्ट सेवा बंद होने से नहीं आ पा रहे हैं. मूलतः बाड़मेर के रे कॉलोनी में रहने आकाश शारदा बताते है कि चीन के हुवान में हॉस्टल में है. यहां पर बाहर जाने की इजाजत नहीं है. खाना यहीं पर आ रहा है. ग्रुप में ही है लेकिन मेडिकल जांच दिन में तीन बार होती है. अभी यहां वायरस फैलने से मौतें बढ़ी है. बीमारी बढ़ने की जानकारी है लेकिन हम सुरक्षित है. परिजनों से वीडियोकॉल पर बात होने से तसल्ली है. भारतीय दूतावास की ओर से पूरी मदद की जा रही है. 

परिजन वीडियोकॉल के जरिए लगातार जुड़े: 
चीन में रह रहे विद्यार्थियों के परिजनों का कहना है कि जानकारी मिलते ही होश फाख्ता हो गए थे, फिर तुरंत बच्चों को लाने की परिवार वालों ने जिद्द पकड़ ली है. वीडियोकॉल के जरिए लगातार जुड़े है. अब राहत है कि बच्चे ठीक है. जैसे ही अवसर मिलेगा एक बार घर बुलाएंगे, तब जाकर जान में जान आएगी. 

20 से अधिक विद्यार्थी एक पखवाड़ा पूर्व आ चुके:
बहरहाल दोनों विश्वविद्यालयों से 20 से अधिक विद्यार्थी एक पखवाड़ा पूर्व आ चुके हैं. वहां इन दिनों सालाना अवकाश चल रहे है जो एक महीने का रहता है. 17 फरवरी को अवकाश खत्म होना है. इन विद्यार्थियों को चीन की ओर से संदेश आ गया कि अब वे नहीं लौटे, जब तक इजाजत नहीं मिलती. संभवतया 1 मार्च तक यह अवकाश बढ़ जाएगा. 

Open Covid-19