VIDEO: सचिवालय में सीएम गहलोत ने किया झंडारोहण, ऑनर किलिंग और मॉब लिंचिंग पर रखा अपना पक्ष 

Dr. Rituraj Sharma Published Date 2019/08/15 02:41

जयपुर: सचिवालय में आज स्वतंत्रता दिवस के मौके पर सीएम अशोक गहलोत ने झंडारोहण किया. सचिवालय में मॉब लिंचिंग को लेकर नाटकीय प्रस्तुति से अभिभूत हुए सीएम गहलोत ने  कहा कि इसे लेकर जरूरत के चलते ही हम कानून लेकर आये हैं. वहीं उन्होंने कहा कि संदेह के लाभ के आधार पर पहलू खान की हत्या के आरोपित बचने में कामयाब हो गए. 

जरुरत को देखते हुए लाया गया कानून:
सीएम अशोक गहलोत ने अपने संबोधन में साफ कहा कि महज संदेह के आधार पर पहलू खान के हत्या के आरोपित छूट गए और ऐसी घटनाओं के कारण ही हमें मॉब लिंचिंग को लेकर कानून बनाना पड़ा. उन्होंने ऑनर किलिंग की घटनाओं पर चिंता जताते हुए कहा कि अंतर जातीय विवाह होने को लेकर पंचायत होती है और कई बार युगलों की हत्या भी कर दी जाती है, जिसके चलते हमारी सरकार यह कानून लेकर आई है. उन्होंने अगली बार से 15 अगस्त व 26 जनवरी के कार्यक्रम पूर्व संध्या पर करने और उसमें कर्मियों, अधिकारियों के परिवार का आना अनिवार्य करने के लिए भी कहा. 

मां-बाप पंचायती करने वाले कौन:
गहलोत ने कहा कि भगवान की इच्छा से प्रेम होता है और इसमें मां-बाप पंचायती करने वाले कौन होते हैं, लेकिन सुखद यह है कि अब कार्ड छपकर प्रेम विवाह हो रहे हैं. वरना लोग जाति की ऊंच नीच देखते हैं और प्रेम विवाह होते हैं तो ऑनर किलिंग करते हैं. इसलिए इसे लेकर प्रदेश में कानून बनाया गया. सीएम ने चुटकी लेते हुए कहा कि मानसून अच्छा हुआ है और आज सुबह से जब मेरा प्रोग्राम होता है, तब बारिश बंद हो जाती है और जब प्रोग्राम समाप्त होता है तो बारिश होने लगती है।

कर्मचारियों की मांगों को लेकर बोले सीएस डीबी गुप्ता:
इस मौके पर सीएस डीबी गुप्ता ने कहा कि कर्मचारियों की मांगों के लिए बातचीत के द्वार हमेशा खुले हैं. उन्होंने कहा कि 2019-20 की सारी डीपीसी हो गई हैं. अधीनस्थ सेवा संयुक्त प्रतियोगी परीक्षा में जो 660 चयनित हुए हैं, उन्हें विभाग आवंटित कर दिए हैं. सीएस ने कहा कि 2016 लिपिकों की परीक्षा परिणाम जारी हुआ है और अब 2018 का परिणाम पेंडिंग है. उन्होंने कहा कि एसबीआई की परिसर में अलग विंडो खुल जाएगी और बैंकों के कितने एटीएम लगेंगे, इसके लिए संघ व डीओपी मिलकर बता दें, प्रबन्ध करेंगे. सीएस ने कहा कि पार्किंग में अलग से महिलाओं के लिए पार्किंग की सुविधा होगी और रोडवेज की टिकट की वेंडिंग मशीन खुल रही है. उसकी तरह रेलवे की वेंडिंग मशीन खुले इसके प्रयास होंगे. इलेक्ट्रिक बसों की व्यवस्था भी होगी, लेकिन दिल्ली सचिवालय की तरह यहां की कैंटीन हो यह प्रयास करें।

इस मौके पर सचिवालय कर्मचारी संघ अध्यक्ष पंकज कुमार ने भी कई मांगें रखीं. 

संघ की मांगें:
—सहायक एसओ के 203 रिक्त पद को भरने की मांग
—अनुभव में 2 वर्ष की शिथिलता की मांग
—चतुर्थ व पंचम श्रेणी के राजकीय आवास में 50% कोटा की मांग
—स्पेशल पे 3% वेतन में मिले
—स्टेशनरी भत्ता शुरू हो
—वरिष्ठ सचिव के स्वीकृत 37 पद फिर स्वीकृत कराने की मांग
—सचिवालय सेवा का कैडर रिव्यू हो
—अनुसूची 5 के तहत वेतन कटौती वापस लेने की मांग
—7 वेतन आयोग विसंगति निराकरण सिफारिश जल्द लागू होने
—सचिवालय के बाहर पदस्थ पति या पत्नी को यहीं रखने की मांग

इस मौके पर उल्लेखनीय उपलब्धियों के लिए सचिवालय कर्मचारियों को सीएम की ओर से सम्मानित किया गया. सीएम ने इस मौके पर संघ की वेबसाइट का विमोचन किया और सीएम व सीएस ने पौधरोपण भी किया. 

... संवाददाता ऋतुराज शर्मा की रिपोर्ट 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in