जयपुर VIDEO: कोरोना की कम टेस्टिंग पर सीएम गहलोत ने जताई चिंता, कहा-इसको हल्के में न लें आप, दिल्ली के हालात देखिए, बैन लगा दिए गए

VIDEO: कोरोना की कम टेस्टिंग पर सीएम गहलोत ने जताई चिंता, कहा-इसको हल्के में न लें आप, दिल्ली के हालात देखिए, बैन लगा दिए गए

VIDEO: कोरोना की कम टेस्टिंग पर सीएम गहलोत ने जताई चिंता, कहा-इसको हल्के में न लें आप, दिल्ली के हालात देखिए, बैन लगा दिए गए

जयपुर: कोरोना को लेकर सीएमआर पर चल रही बैठक में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कम टेस्टिंग पर नाराजगी जताई. सीएम गहलोत ने कहा कि जयपुर में औसत 3-4 हजार टेस्ट होते है. सीएम गहलोत ने कम टेस्टिंग पर नाराजगी जताते हुए कहा कि जब कम केस आ रहे थे, तब भी इतने ही टेस्ट थे. अब 185 केस आ रहे, तब भी इतने ही टेस्ट. क्या अब 10 हजार तक टेस्ट नहीं होने चाहिए? सीएम ने पूछा- टेस्टिंग की संख्या कौन तय करता है? सीएम ने CMHO से टेस्टिंग के बारे में पूछा. नरोत्तम शर्मा ने मुख्यमंत्री को सैंपलिंग की जानकारी दी. सीएम ने कहा- यह तो सिर्फ आपके फॉर्मूले हैं, आप यह बताओ कि सैंपल क्यों नहीं बढ़ा रहे हो?

दिल्ली के हालात देखिए, बैन लगा दिए गए:

कम सैंपिलंग को लेकर सीएम गहलोत ने कहा कि इसको हल्के में न लें आप.  दिल्ली के हालात देखिए, बैन लगा दिए गए हैं. सीएम ने कहा कि जयपुर के लिए प्लानिंग करो, जिस तरह रामगंज में प्लानिंग की थी. उसी तरह प्लानिंग नहीं की, तो हालात नियंत्रण में नहीं आएंगे?. एक बार हाथ से निकल गया मामला, तो फिर आप सभी के हाथ पैर फूल जाएंगे. लंदन के हालात देख लीजिए आप सभी.

जयपुर में टीकाकरण की स्थिति पर चर्चा:

जयपुर में अब तक 4 कंटेनमेंट जोन बनाए गए. वैशाली नगर में 2 तथा दुर्गापुरा व सुशीलपुरा में एक-एक कंटेनमेंट जोन बनाया गया. एक ही जगह पर 5 केस आने पर कंटेनमेंट जोन बनाया जाएगा. जयपुर में टीकाकरण की स्थिति पर चर्चा हुई. सीएम गहलोत ने कहा कि वैक्सीनेशन के कारण जयपुर बचा हुआ है. वरना अब तक तो विस्फोट हो चुका होता. जयपुर में अब तक पहली डोज 98.5 फीसदी लगी. मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि प्रताप सिंह ने मजाक में कहा था. ऑमिक्रॉन पहले वाले वायरस को मारने आया है. खाचरियावास ने कहा कि सीएम साहब, मजाक में नहीं कहा, सीरियस कहा था. इसके बारे में सीएम ने सुधीर भंडारी से पूछा सवाल, तो भंडारी ने कहा-'इम्युनिटी बढ़ रही है.

चार दीवारी वाले हमसे ज्यादा होशियार:

जयपुर में कोरोना फैलने पर मुख्यमंत्री गहलोत चिंतित है. मुख्यमंत्री आवास पर चल रही बैठक में चिकित्सा मंत्री परसादी मीना भी मौजूद रहे. जयपुर में सैंपलिंग बढ़ाने के निर्देश दिए. मानसरोवर, वैशाली नगर व सोडाला में ज्यादा केस है. अमीन कागजी ने पूछा-'टेस्टिंग पैटर्न में गलती तो नहीं? चार दीवारी इलाके में केस कम आ रहे है. प्रताप सिंह ने कहा कि चार दीवारी वाले हमसे ज्यादा होशियार है. वे लोग टेस्ट कराते ही नहीं है. प्रताप सिंह ने कहा कि जिसको तकलीफ होती है, वह टेस्ट कराता. आप किसी को जबर्दस्ती टेस्ट कैसे कर लोगे? सीएम गहलोत ने ऑक्सीजन की उपलब्धता के बारे में पूछा. सीएम ने मैट्रिक टन के हिसाब से पूछा, लेकिन कोई मैट्रिक टन का हिसाब नहीं दे सका. बाद में अखिल अरोड़ा ने बात संभाली. फिर जिला कलेक्टर ने भी आंकड़े पेश किए.

अब घर घर जाकर लगाई जाएगी सेकंड डोज:

जयपुर शहर को 23 भागों में बांटा गया. जिला कलेक्टर ने सख्ती करने की राय दी. सेकंड डोज अब घर घर जाकर लगाई जाएगी. 181 पर अनुरोध आने पर टीकाकरण कराया जा रहा. जब सीएम ने कलेक्टर से संख्या की जानकारी मांगी, तो कलेक्टर अंतरसिंह नेहरा जानकारी नहीं दे पाए. बाद में वैभव गालरिया ने बात संभाली. 244 अनुरोध आए, 136 को वैक्सीन लगाई. इनमें से 65 व्यक्ति कार्रवाई से संतुष्ट नहीं है.मंत्री महेश जोशी ने भी सवाल-जवाब किए, लेकिन जवाब से महेश जोशी संतुष्ट नजर नहीं आए. महेश जोशी ने कहा कि आपकी व्यवस्था क्लीयर नहीं है.डॉ. वीरेंद्र सिंह ने अपनी राय देते हुए कहा कि हो सके तो न्यू ईयर घर पर ही मनाएं. AC हॉल की बजाय खुले में न्यू ईयर मनाएं. डांस व गाने से वायरस ज्यादा फैल सकता है. RUHS में यदि मरीज बढ़े, तो सख्ती करनी चाहिए. आपको बता दें कि जयपुर में 10 दिन में एक्टिव केस में छह गुना वृद्धि हुई है. 20 दिसंबर को 83 एक्टिव केस थे, अब 521 केस है. आज जयपुर में 101 केस सामने आए. 4520 सैंपल में से 101 केस आज आए.

 

और पढ़ें