सीएम गहलोत ने प्रदेश में सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के दिए निर्देश, कहा-लापरवाही बरतने वाले वाहन चालकों पर हो कड़ी कार्रवाई

 सीएम गहलोत ने प्रदेश में सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के दिए निर्देश, कहा-लापरवाही बरतने वाले वाहन चालकों पर हो कड़ी कार्रवाई

जयपुर: राजस्थान में सड़क दुर्घटनाओं के बढ़ते मामलों से चिंतित मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दुर्घटनाओं में 50 प्रतिशत कमी लाने के निर्देश दिए हैं. मुख्यमंत्री आवास पर आयोजित कार्यक्रम में गहलोत ने कहा की जिस तरह से पायलट कड़ी ट्रेनिंग और गाइडलाइन को फॉलो करते हैं प्रदेश में भी इसी तरह के नियम कायदों की पालना होनी चाहिए. भीलवाड़ा डेयरी संघ ने अभिनव पहल करते हुए प्रदेश में सड़क दुर्घटनाओं को कम करने के मकसद से 15000 पशुपालकों को हेलमेट वितरित किये है.

वीसी के जरिए हुआ कार्यक्रम का उद्घाटन:
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए CMR से इस कार्यक्रम का उद्घाटन किया. मुख्यमंत्री आवास पर भीलवाड़ा से आए दो पशुपालकों को हेलमेट भी दिए गए. इस मौके पर CM  गहलोत ने पहल की सराहना करते हुए कहा कि जैसे दो पशुपालकों को अच्छी क्वालिटी के हेलमेट दिए गए हैं बाकी हेलमेट भी उसी क्वालिटी के होने चाहिए. इस पर डेयरी संघ के अध्यक्ष रामलाल जाट ने आश्वस्त किया कि सभी पशुपालकों को अच्छी क्वालिटी के ही हेलमेट वितरित किए जा रहे हैं.

कोरोना संकट के बीच शुरू होगी बाबा बर्फानी की यात्रा, हर रोज 500 श्रद्धालु कर सकते है दर्शन

रोड सेफ्टी पाठ्यक्रम में भी करवाया जाएगा शामिल:
रॉड शेफटी पर बल देते हुए गहलोत ने कहा केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने जुर्माना राशि में बढ़ोतरी के साथ साहस का काम किया है. हालांकि जुर्माना राशि अधिक होने की वजह से प्रदेश में इसमें संशोधन किया गया है लेकिन इस संशोधन की पालना पुलिस विभाग को सख्ती से करवानी होगी. मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये है कि रॉड सेफ्टी के बारे में पाठ्यक्रम में भी उल्लेख होना चाहिए. सीएम ने कहा पहले राजस्थान की सड़कों की हालत अच्छी नहीं थी लेकिन अब पड़ोसी राज्यों के मुकाबले राजस्थान की सड़कें बेहतर हो गई हैं. मुख्यमंत्री ने कहा जिस तरह से कोरोना के समय भीलवाड़ा मॉडल की तारीफ देशभर में हुई है उसी तरह से भीलवाड़ा के इस प्रयोग वह भी अन्य जिलों में नागरिक फॉलो करेंगे. 

जल्द जयपुर में एक बड़े सम्मेलन का होगा आयोजन:
कार्यक्रम में परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहां कि प्रदेश में सड़क दुर्घटना में जागरूकता के लिए जल्दी जयपुर में एक बड़े सम्मेलन का आयोजन करवाया जाएगा. गोपाल मंत्री प्रमोद भाया जैन ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व और भीलवाड़ा डेयरी संघ के प्रयासों की सराहना की. वहीं कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने कहा यह कार्यक्रम अनुकरणीय है ऐसे कार्यक्रम और अधिक होने चाहिए. उन्होंने कहा कि सरकार किसानों और पशुपालकों के कई अहम घोषणा कर चुकी है और भविष्य में भी इनके हित को देखते हुए ही फैसले किये जायेंगे. 

प्रदेशवासियों के जीवन की रक्षा सर्वोपरि:
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार के लिए प्रदेशवासियों के जीवन की रक्षा सर्वोपरि है. इसलिए सड़क सुरक्षा नियमों की पालना सुनिश्चित करवाने और दुर्घटनाओं में कमी लाने के उद्देश्य से वाहन चालन से जुड़े अपराधों के प्रति कड़ा रूख अपनाया जा रहा है. उन्होंने आमजन से अपील की है कि वे वाहन चलाते समय सड़क सुरक्षा संबंधी सभी नियमों की आवश्यक रूप से पालना करें. यह उनके जीवन की रक्षा के लिए बेहद जरूरी है. 

विकास दुबे की गिरफ़्तारी पर शिवराज सिंह का ट्वीट, कहा-लोगों ने महाकाल को जाना ही नहीं

और पढ़ें