जयपुर VIDEO: राजस्थान के राजनीतिक घटनाक्रम पर सीएम गहलोत का सबसे बेबाक इंटरव्यू, जाने हर सवाल का जवाब

VIDEO: राजस्थान के राजनीतिक घटनाक्रम पर सीएम गहलोत का सबसे बेबाक इंटरव्यू, जाने हर सवाल का जवाब

जयपुर: राजस्थान में चल रहे सियासी घटनाक्रम पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने फर्स्ट इंडिया न्यूज से खास बातचीत की. पायलट को नाकारा और निकम्मा कहने पर बोलते हुए सीएम गहलोत ने कहा कि मैंने ये बात संगठन के संदर्भ में कही थी. ये पहले अध्यक्ष थे जिन्हे संगठन का अनुभव नहीं था. कई सीनियर लोगों की संगठन में काम करने की इच्छा होती है. मेरा व्यक्तिगत उनके बारे में कोई पूर्वाग्रह नहीं है. पायलट डिप्टी सीएम बनने के बाद कुल 8-10 बार सचिवालय गए. विशेष इनके लिए एक पद-एक व्यक्ति सिद्धांत से छुट दी गई जिसका मैंने या किसी और ने कभी विरोध नहीं किया. 

राजस्थान के सियासी घमासान पर हाईकोर्ट में आज भी जारी रहेगी सुनवाई, पायलट कैंप के एडवोकेट करेंगे बहस 

पायलट आएंगे तो उन्हें जरूर गले लगाऊंगा:
मुख्यमंत्री ने कहा कि पायलट के पिताजी भी हमारे साथ काम कर चुके. पार्टी हाईकमान का फैसला सबके लिए मान्य होता है. इसके साथ ही उन्होंने एक बार फिर कहा कि पायलट आएंगे तो उन्हें जरूर गले लगाऊंगा. उन्होंने कहा कि प्रदेश में शपथ ग्रहण समारोह के साथ ही दो पावर सेंटर का माहौल बनाया गया. डेढ़ साल में कभी हमारे बीच में कोई बातचीत नहीं हुई. इसके बाद भी प्रदेशाध्यक्ष पद का मैंने पूरा मान-सम्मान दिया. 

मैंने 30 साल पहले भाजपा की सरकार बचाने का काम किया था:
सीएम गहलोत ने कहा कि भैरों सिंह शेखावत सरकार को भी गिराने की कोशिश की गई थी. खुद भंवरलाल शर्मा एंड टीम ने ऐसी कोशिशें की थी. लेकिन भंवरलाल शर्मा को मैंने समझाया कि ये ठीक नहीं हैं. मैंने नरसिम्हा राव से मिलकर कहा ये जो भी हो रहा वो गलत है. राजस्थान की ऐसी परंपरा कभी नहीं रही. लेकिन आज भाजपा के लोग सरकार गिराने की कोशिश कर रहे हैं. जबकि मैंने 30 साल पहले भाजपा की सरकार बचाने का काम किया था. लेकिन मैं ये साफ कह दूं कि मेरी सरकार को कोई खतरा नहीं है हमारे पास पूरा बहुमत है. 

वसुंधरा राजे के साथ खुद के संबंधों को लेकर भी खुल कर बात की:
मुख्यमंत्री गहलोत ने फर्स्ट इंडिया से खात बातचीत में वसुंधरा राजे के साथ खुद के संबंधों को लेकर भी खुल कर बात की. उन्होंने कहा कि मेरे और वसुंधरा राजे जी के बीच मधुर संबंध हो सकते थे लेकिन उनके साथ रहे लोगों ने हमेशा दूरियां बढ़ाने का काम किया. मैं सरकार का मुखिया और इसे बचाने की जिम्मेदारी भी मेरी ही है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मानेसर में मौजूद विधायकों से उल्टे सीधे कमेंट करवाए जा रहे हैं. लेकिन हमारे यहां मौजूद सभी विधायक एक साथ है. पायलट के साथ रहे लोग आज हमारे साथ हैं. क्योंकि वो कह रहे हैं कि पार्टी के खिलाफ हम ये काम कैसे कर सकते हैं. हम पार्टी के साथ गद्दारी करें ये हमारे खून में नहीं है. मेरे प्रधानमंत्री मोदी के साथ हमेशा व्यक्तिगत संबंध अच्छे रहे हैं. अभी जो सिचुएशन चल रही उस पर भी मैं उन्हें पत्र लिखना चाहूंगा. एक प्रधानमंत्री पर सरकार गिराने का आरोप लगे ये सही नहीं है. 

मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन का लखनऊ के मेदांता अस्पताल में निधन 

मैं अंतिम सांस तक लडूंगा और प्रदेश की सेवा करूंगा:
वहीं फर्स्ट इंडिया से बातचीत में सीएम गहलोत भावुक भी हो गए और प्रदेशवासियों से कहा कि मैं थांसू दू कोनी. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि ये बात प्रदेशवासियों के दिलों के अंदर तक पहुंचाना चाहूंगा. मुख्यमंत्री ने कहा कि 40 साल से अधिक समय तक प्रदेश की जनता का प्यार और आशीर्वाद मिला है. अंतिम पंक्ति में खड़े गरीब व्यक्ति तक अपनी सोच रखता हूं. चाहे इनकम टैक्स के छापे पड़े या ईडी की कार्रवाई हो मैं घबराने वाला नहीं हूं. मैं अंतिम सांस तक लडूंगा और प्रदेश की सेवा करूंगा. 

और पढ़ें