Live News »

VIDEO: असहमति का मतलब राष्ट्रद्रोह नहीं, साल का सबसे बड़ा मजाक मोदी व शाह ने किया- सीएम गहलोत

VIDEO: असहमति का मतलब राष्ट्रद्रोह नहीं, साल का सबसे बड़ा मजाक मोदी व शाह ने किया- सीएम गहलोत

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की पैरवी करते हुए कहा कि असहमति का मतलब राष्ट्रद्रोह नहीं है. उन्होंने कहा कि देश को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के विचारों की आज और अधिक आवश्यकता है. रविन्द्र मंच सभागार में आज से भारतीय महिला फैडरेशन का 21वां राष्ट्रीय सम्मेलन शुरू हुआ. मुख्यमंत्री गहलोत ने इसका उद्घाटन किया. 

इस साल का सबसे बड़ा मजाक मोदी व शाह ने किया:
भारतीय महिला फेडरेशन का चार दिवसीय 21वां राष्ट्रीय सम्मेलन आज से रविंद्र मंच पर शुरू हो गया. कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य नई पीढ़ी को देश के मुद्दों के बारे में अवगत करवाना है. इस सम्मेलन में देश के 28 राज्यों से करीब एक हजार एवं विदेशों की महिला प्रतिनिधि हिस्सा ले रही है. फेडरेशन की राष्ट्रीय अध्यक्ष अरुणा रॉय के बुलावे पर कार्यक्रम में पहुंचे मुख्यमंत्री गहलोत ने महिला सशक्तिकरण एवं उनके स्वावलंबन, सुरक्षा, समानता से संबंधित कानूनों के बारे में चर्चा की, तो साथ ही CAA न NRC को लेकर देश मे बने माहौल के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह पर निशाना साधा. गहलोत ने कहा कि संविधान की धज्जियां उड़ाई जा रही है. ऐसा माहौल देश मे कभी नहीं देखा गया. उन्होंने कटाक्ष करते हुए कहा कि इस साल का सबसे बड़ा मजाक मोदी व शाह ने किया. शाह 4 महीने से लगातार बोल रहे थे कि NRC लागू करके रहूंगा और मोदी कह रहे है कि NRC की चर्चा ही नहीं हुई. गृहमंत्री बोल रहे है वह पीएम को सुनाई नहीं दे रहा. अब मोदी शाह के चेहरों पर हवाइयां उड़ी हुई है. 

महिलाओं पर अत्याचार एवं उत्पीड़न किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं: 
इस मौके पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि महिलाओं पर अत्याचार एवं उत्पीड़न किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. राज्य सरकार ने ऎसी घटनाओं को रोकने के लिए कड़े कदम उठाए हैं और आगे भी इसमें किसी तरह की कमी नहीं रखी जाएगी. राज्य सरकार जघन्य अपराधों के त्वरित अनुसंधान के लिए एक विशेष यूनिट बना रही है, जो जल्द से जल्द तफ्तीश कर पीड़ित को शीघ्र न्याय दिलाना सुनिश्चित करेगी. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने मॉब लिंचिंग एवं ऑनर किलिंग  के खिलाफ सख्त कानून बनाए हैं. राज्य सरकार महिला सशक्तीकरण के लिए प्रतिबद्ध है. लोकसभा एवं राज्य विधानसभाओं में एक तिहाई सीटें महिलाओं के लिए आरक्षित करने का संकल्प राज्य विधानसभा में पारित किया गया है. 

सांझी संस्कृति और सांझी विरासत हमारे देश का आधार: 
सीपीआई नेता अतुल कुमार अंजान ने कहा कि सांझी संस्कृति और सांझी विरासत हमारे देश का आधार है. उन्होंने कहा कि गांधी हमारे विचारों में कल भी जिंदा थे, आज भी हैं और कल भी रहेंगे. उन्होंने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था में महिलाओं को समान भागीदारी मिलनी चाहिए. वही भारतीय महिला फैडरेशन की राष्ट्रीय अध्यक्ष अरूणा रॉय ने कहा कि राजस्थान वह राज्य है, जहां सूचना के अधिकार को सशक्त करने के साथ ही महिला समानता और उन्हें अधिकार देने की दिशा में अच्छा काम हुआ है. उन्होंने कहा कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है जिसे संविधान और गांधी जी के सिद्धान्तों पर आगे बढ़ाया जाना चाहिए. 

कार्यक्रम में पदाधिकारी, सोशल एक्टिविस्ट मौजूद रहे:
कार्यक्रम को भारतीय महिला फैडरेशन की राष्ट्रीय महासचिव एनी राजा, राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य रेवती, भंवरी देवी तथा निशा सिद्धू आदि ने भी संबोधित किया. इस अवसर पर देश के विभिन्न राज्यों से आई संगठन की पदाधिकारी, सोशल एक्टिविस्ट आदि भी मौजूद रहे. भंवरी देवी ने तो मुख्यमंत्री के सामने ही 26 साल से न्याय नहीं मिलने का मामला उठाया. 

और पढ़ें

Most Related Stories

JAIPUR: इंडिगो एयरलाइन का पायलट निकला कोरोना पॉजिटिव, कैप्टन ने 2 जुलाई को उड़ाई थी दुबई से जयपुर की फ्लाइट

JAIPUR: इंडिगो एयरलाइन का पायलट निकला कोरोना पॉजिटिव, कैप्टन ने 2 जुलाई को उड़ाई थी दुबई से जयपुर की फ्लाइट

जयपुर: जयपुर एयरपोर्ट पर किसी स्टाफ के कोरोनावायरस पॉजिटिव मिलने का पहला मामला सामने आया है. इंडिगो एयरलाइन का एक पायलट कोरोना पॉजिटिव पाया गया है. एयरलाइन के इस कैप्टन ने 2 जुलाई को जयपुर से दुबई और वापस दुबई से जयपुर की फ्लाइट उड़ाई थी. इसके बाद कैप्टन होटल मेरियट में रुका हुआ था.

आबकारी विभाग की बड़ी लापरवाही, कहीं भारी ना पड़ जाए ये लापरवाही, 6 महिने से ज्यादा समय से खड़ा हैं स्प्रिट का टैंकर 

महात्मा गांधी अस्पताल भिजवाया गया कैप्टन को:
शुक्रवार को उसे बुखार महसूस होने पर कोरोना की जांच करवाई गई. जांच में कैप्टन के कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद इंडिगो एयरलाइन स्टाफ में खलबली मच गई. इसके बाद पायलट को महात्मा गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. पायलट के साथ मौजूद दूसरे क्रू को क्वारंटाइन किए जाने की प्रक्रिया चल रही है.

Rajasthan Corona Updates: पिछले 24 घंटे में 7 मौत, रिकॉर्ड 480 नए केस, सर्वाधिक 54 मरीज अलवर जिले में मिले 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 24 घंटे में 7 मौत, रिकॉर्ड 480 नए केस, सर्वाधिक 54 मरीज अलवर जिले में मिले 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 24 घंटे में 7 मौत, रिकॉर्ड 480 नए केस, सर्वाधिक 54 मरीज अलवर जिले में मिले 

जयपुर: राजस्थान में कोरोना वायरस का ग्राफ लगातार बढ़ता जा रहा है. पिछले 24 घंटे में 7 मरीजों की मौत हो गई. जबकि रिकॉर्ड 480 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. भरतपुर में एक,धौलपुर में तीन, झुंझुनूं में एक,सीकर में एक राज्य से बाहर के एक मरीज की मौत हुई. सर्वाधिक 54 कोरोना पॉजिटिव मरीज अलवर जिले में मिले है. अजमेर 7,बाड़मेर 43,भरतपुर 30,भीलवाड़ा 1,बीकानेर 46,दौसा 4, धौलपुर 39, डूंगरपुर 13,श्रीगंगानगर 1,हनुमानगढ़ 1,जयपुर 40, जालोर 42,झुंझुनूं 11,जोधपुर 29,करौली 3,कोटा 14,नागौर 26, पाली 22,राजसमंद 2,सवाई माधोपुर 1,सीकर 16,सिरोही 8,टोंक 2, उदयपुर 20 और दूसरे राज्य के 4 मरीज पॉजिटिव मिले है. राजस्थान में कोरोना की वजह से अब तक 447 मरीजों की मौत हो गई. जबकि कुल 19 हजार 532 पॉजिटिव मरीजों की संख्या पहुंच गई है.

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा, कोरोना काल में पीएम मोदी का नेतृत्व दुनिया को दृष्टि और दिशा देने वाला

पॉजिटिव से नेगेटिव हुए 15 हजार 640 मरीज:
अगर बात करें राजस्थान में ठीक हो चुके मरीजों की तो अब तक 15 हजार 640 मरीज पॉजिटिव से नेगेटिव हुए है. वहीं कुल 15 हजार 325 मरीजों को अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा चुका है. प्रदेश में कोरोना वायरस के 3 हजार 445 एक्टिव मरीज अस्पताल में उपचाररत है. कुल कोरोना पॉजिटिव प्रवासियों की संख्या 5 हजार 429 पहुंच गई है.

जयपुर में बढ़ता कोरोना का ख़ौफ: 
जयपुर में कोरोना वायरस का खौफ लगातार बढ़ता जा रहा है. पिछले 24 घंटे में 40 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. माणक चौक में 8, विदेश से आए हुए 7 प्रवासी,अजमेर रोड पर चार, जौहरी बाजार और दुर्गापुरा में 3-3 पॉजिटिव केस, वैशाली नगर,गलता गेट,सोडाला और सांगानेर में दो-दो केस, कोटपूतली,जवाहर नगर,सी स्कीम, मानसरोवर, सीतापुरा, गोपालपुरा और गांधीनगर में 1-1 पॉजिटिव केस सामने आये है. जयपुर में अब तक 163 मरीजों की मौत हो गई. जबकि कुल 3 हजार 479 पॉजिटिव अब तक सामने आ चुके है.

आबकारी विभाग की बड़ी लापरवाही, कहीं भारी ना पड़ जाए ये लापरवाही, 6 महिने से ज्यादा समय से खड़ा हैं स्प्रिट का टैंकर 

आबकारी विभाग की बड़ी लापरवाही, कहीं भारी ना पड़ जाए ये लापरवाही, 6 महिने से ज्यादा समय से खड़ा हैं स्प्रिट का टैंकर 

जयपुर: आबकारी विभाग की लापरवाही सीकर वासियों पर भारी पड़ सकती है. भीषण गर्मी के दौर में सीकर के गंगानगर शुगर मिल डिपो पर 30000 लीटर स्प्रिट से भरे हुए टैंकर को 6 महीने से ज्यादा समय से खड़ा कर रखा है. ज्वलनशील स्प्रिट से भरे टैंकर से भीषण गर्मी के दौर में कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है. पूरे मामले में आबकारी विभाग की लापरवाही सामने आई है. बीते वर्ष 29 नवंबर को गंगानगर शुगर मिल ने जिला आबकारी अधिकारी जयपुर शहर से परमिट लेकर गुरदासपुर की एबी ग्रेन स्प्रिट कंपनी से 30,000 लीटर स्प्रिट मंगवाई.

परवन नदी की रपट से गुजरना खतरे से कम नहीं, बेखौफ ग्रामीण कर रहे हैं नदी पार

एक टैंकर में भरी स्प्रिट की रासायनिक जांच:
30000 लीटर स्प्रिट से भरे इस टैंकर को गंगानगर शुगर मिल के सीकर स्थित डिपो भिजवाया गया. इसके बाद एक टैंकर में भरी स्प्रिट की रासायनिक जांच कराई गई, जिसमें इसके अंदर ईएनए की रासायनिक तेजी 68.2 ओपी के स्थान पर 67.11 ओपी ही प्राप्त हुई. ग्रेन एक्स्ट्रा नेचुरल अल्कोहल की तेजी कम आने की वजह से टैंकर को सीकर डिपो से वापस गुरदासपुर भेजा जाना तय किया गया. इसके बाद खुद गंगानगर शुगर मिल के महाप्रबंधक ने आबकारी आयुक्त को 31 जनवरी को पत्र लिखकर इस टैंकर को वापस कंपनी में भेजने की स्वीकृति चाही.

करीब पौने दो लाख रुपए टैंकर ट्रांसपोर्टेशन के भी वसूल लिए:
इसके बाद भी इस टैंकर को वापस गुरदासपुर नहीं भेजा गया। इसके बाद गंगानगर शुगर मिल सीकर के डिपो इंचार्ज ने 6 फरवरी को जिला आबकारी अधिकारी सीकर को फिर से पत्र लिखकर इस टैंकर की वापसी सुनिश्चित करने को कहा लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई. सूत्रों का कहना है कि इस अवधि में जिला आबकारी अधिकारी सीकर और उनके मातहत अधिकारी कंपनी प्रतिनिधियों से नेगोशिएशन करते रहे. जब कंपनी की ओर से लेन देन से इनकार किया गया तो आबकारी विभाग सीकर ने कंपनी पर करीब पौने दो लाख रुपए टैंकर ट्रांसपोर्टेशन के भी वसूल लिए.

सरकार बताए राज्य के सफाई कर्मचारियों के लिए क्या कदम उठाए, हाईकोर्ट ने एडिशनल एफिडेविट पेश करने के दिए आदेश

6 महिने से ज्यादा समय से खड़ा हैं स्प्रिट का टैंकर:
बावजूद इसके यह टैंकर 6 महीने से भी अधिक समय से डिपो ऑफिस में खड़ा है। चूंकि इस समय भीषण गर्मी का दौर चल रहा है और स्प्रिट अति ज्वलनशील होती है ऐसे में कभी भी यहां बड़ा हादसा हो सकता है, जिसमें जन हानि की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता. पूरे मामले की जानकारी आबकारी आयुक्त को भी है हालांकि दो दिन पहले ही आबकारी आयुक्त का तबादला हो गया और डॉ जोगाराम ने आबकारी आयुक्त का कार्यभार संभाला है. ऐसे में उम्मीद की जानी चाहिए कि आबकारी आयुक्त पूरे मामले में संज्ञान लेकर इस खतरनाक हो चले टैंकर की वापसी तो सुनिश्चित करेंगे ही साथ ही गैर जिम्मेदाराना तरीके से हादसे को न्योता दे रहे अधिकारियों पर कार्रवाई भी सुनिश्चित करेंगे.

सरकार बताए राज्य के सफाई कर्मचारियों के लिए क्या कदम उठाए, हाईकोर्ट ने एडिशनल एफिडेविट पेश करने के दिए आदेश

सरकार बताए राज्य के सफाई कर्मचारियों के लिए क्या कदम उठाए, हाईकोर्ट ने एडिशनल एफिडेविट पेश करने के दिए आदेश

जयपुर: राजस्थान हाईकोर्ट ने कोविड-19 के संक्रमण के चलते देश और प्रदेश के सफाईकर्मियों व सेनेटाइजेशन के काम में लगे कर्मचारियों को पीपीई किट, मास्क और ग्लब्स सहित अन्य सुरक्षा सामग्री मुहैया कराने के मामले में राज्य सरकार को एडिशनल एफिडेविट पेश करने के आदेश दिए है. मुकुल चौधरी की ओर से दायर जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायाधीश इन्द्रजीत महांति और जस्टिस प्रकाश गुप्ता की खण्डपीठ ने ये आदेश दिए है.

पीएम मोदी ने की लॉकडाउन में किए सेवा कार्यों की समीक्षा, कहा-भाजपा कार्यकर्ताओं ने आफत को भी अवसर में बदला 

केन्द्र सरकार और राज्य सरकार को जारी किए नोटिस:
खण्डपीठ ने एडिशनल एफिडेविट में डब्ल्यूएचओ और केन्द्र सरकार की गाइडलाइन के साथ साथ सुप्रीम कोर्ट के आदेश की पालना में किए गए प्रयासों की जानकारी देने के निर्देश दिये है.साथ ही अदालत ने केन्द्र सरकार और राज्य सरकार को नोटिस जारी किये है.अधिवक्ता महमूद प्राचा व सुनील वशिष्ठ ने बताया कि देशभर में 5 करोड़ सफाईकर्मी हैं जो कोविड-19 के दौरान सफाई व सेनेटाइजेशन का काम कर रहे हैं. 

सेनेटाइजेशन का काम कर रहे लोगों को दी जाए सुरक्षा सामग्री: 
लेकिन फिर भी इन लोगों को खुद के जीवन की सुरक्षा के लिए पीपीई किट और मास्क सहित अन्य सुरक्षा सामग्री नहीं दी जा रही. जबकि केन्द्र सरकार व डब्ल्यूएचओ की गाइडलाइन के मुताबिक इन कर्मचारियों को भी पीपीई किट समेत अन्य सुरक्षा सामग्री दी जानी चाहिए. क्योंकि ये कर्मचारी सीधे तौर पर सफाई व सेनेटाइजेशन के काम से जुड़े हुए हैं. देश और प्रदेश में कोरोना बीमारी संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ रही है. इसलिए सफाई व सेनेटाइजेशन का काम कर रहे लोगों को सुरक्षा सामग्री दी जाए.

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा, कोरोना काल में पीएम मोदी का नेतृत्व दुनिया को दृष्टि और दिशा देने वाला

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भाजपा प्रदेश इकाइयों से संवाद, डॉ. सतीश पूनिया ने कहा-52 हजार बूथों पर किया सेवा कार्य

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भाजपा प्रदेश इकाइयों से संवाद, डॉ. सतीश पूनिया ने कहा-52 हजार बूथों पर किया सेवा कार्य

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीजेपी की प्रदेश इकाइयों से संवाद किया.इस मौके पर सबसे पहला प्रस्तुतिकरण भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनिया का रहा. पूनियां ने प्रणाम करके शुरुआत की प्रजेंटेशन की शुरूआत करते हुए कहा कि 52 हजार बूथों पर सेवा कार्य किया है. भाजपा कार्यकर्ताओं ने 1 करोड़ 90 लाख लोगों तक भोजन पहुंचाया. साथ ही 91 लाख फेस कवर वितरित किए गए. 2 लाख 65 हजार लोगों ने पीएम केयर फंड में अंशदान किया. 5 लाख प्रवासियों की सेवा के रूप में कार्य किए गए.

जम्मू कश्मीर के कुलगाम में सुरक्षाबलों और आतंकियों में मुठभेड़, सुरक्षाबलों ने एक आतंकी को मार गिराया

बिहार,बंगाल व यूपी के श्रमिकों की गई सेवा:
खास तौर पर बिहार,बंगाल व यूपी के श्रमिकों की सेवा की गई. कोरोना योद्धाओं का राज्यभर में सम्मान किया गया. भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा 83 लाख आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करवाए गए. 14 अप्रैल को अंबेडकर जयंती पर दलितों के लिये खास अभियान चलाया गया. कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुए पूनिया ने कहा कि विपरीत विचारधारा की सरकार ने राशन वितरण में भेदभाव किया.हमने विरोध किया तो फिर शिकायत नहीं आई. 

पूनियां ने राज्य सरकार पर किया प्रहार:
सतीश पूनिया ने राज्य सरकार पर प्रहार करते हुए कहा कि अपराध ही नहीं,संगीन अपराध राजस्थान में हुए. अस्थि विसर्जन जैसे नवाचारों की पूनिया ने जानकारी दी. रक्तदान शिविरों का पक्ष रखा गया. भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा 3 लाख परिंडे बांधे गए. 50 हजार कॉल्स में से 37 हजार कॉल्स की समस्याओं का निपटारा किया. 40 फेसबुक लाइव किए,इस दौरान लाखों लोगों ने सुना. पीएम मोदी की सीख है भाजपा नारों की पार्टी नहीं सरोकारों की पार्टी है. 

बढ़ने के बजाय घट रहीं फ्लाइट्स! जयपुर एयरपोर्ट पर फ्लाइट्स के संचालन में कमी

बढ़ने के बजाय घट रहीं फ्लाइट्स! जयपुर एयरपोर्ट पर फ्लाइट्स के संचालन में कमी

बढ़ने के बजाय घट रहीं फ्लाइट्स! जयपुर एयरपोर्ट पर फ्लाइट्स के संचालन में कमी

जयपुर: जयपुर एयरपोर्ट पर फ्लाइट्स के संचालन में लगातार कमी दिख रही है. फ्लाइट्स का संचालन प्रारंभ हुए 40 दिन पूरे हो चुके हैं, लेकिन इसके बावजूद यात्रियों की संख्या में बढ़ोतरी नहीं दिख रही है. यात्री नहीं बढ़ने के कारण एयरलाइंस भी फ्लाइट नहीं बढ़ा रही हैं. बड़ी संख्या में फ्लाइट्स को रद्द किया जा रहा है. दरअसल जयपुर एयरपोर्ट पर 25 मई से फ्लाइट शुरू हुई थी. चार एयरलाइंस ने जयपुर एयरपोर्ट से 20 फ्लाइट संचालित करने का शेड्यूल दिया था.

जम्मू कश्मीर के कुलगाम में सुरक्षाबलों और आतंकियों में मुठभेड़, सुरक्षाबलों ने एक आतंकी को मार गिराया

उम्मीद थी कि जल्द ही बढ़ेंगी फ्लाइट्स:
पहले दिन मात्र 8 फ्लाइट के साथ शुरुआत हुई थी. शुरुआती सप्ताह में फ्लाइट्स की संख्या 15 तक जा पहुंची थी. इससे उम्मीद थी कि जल्द ही फ्लाइट्स बढ़ेंगी और हवाई यात्रा अपनी पुरानी गति में लौट आएगी. लेकिन 40 दिन बीतने पर भी पहले सप्ताह जैसी ही स्थिति दिख रही है. इसके विपरीत पिछले 7 दिन में यात्रियों की संख्या में कमी देखी जा रही है. आपको बता दें कि जयपुर एयरपोर्ट से इंडिगो और स्पाइसजेट ने 9-9 फ्लाइट शुरू करने का शेड्यूल दिया है. जबकि एयर एशिया और एयर इंडिया ने 3-3 फ्लाइट संचालित करने का शेड्यूल दिया हुआ है.

स्पाइसजेट एयरलाइन सबसे ज्यादा रद्द:
इन दिनों स्पाइसजेट एयरलाइन सबसे ज्यादा फ्लाइट रद्द कर रही है. स्पाइसजेट की 9 में से रोज मात्र 3 से 4 फ्लाइट ही चल रही हैं. यानी स्पाइसजेट औसतन 5 से 6 फ्लाइट रद्द कर रही है. एयर इंडिया रोजाना 1 या 2 फ्लाइट, एयर एशिया 1 फ्लाइट और इंडिगो भी 1 से 2 फ्लाइट रद्द कर रही है. इसके कारण इन फ्लाइट्स में टिकट बुकिंग करने वाले यात्रियों को भी परेशानी झेलनी पड़ रही है. आपको बता दें कि 22 जून को सर्वाधिक 17 फ्लाइट संचालित हुई थी. इससे पहले 19 जून को 16 फ्लाइट का संचालन हुआ था. जबकि लॉकडाउन से पहले जयपुर एयरपोर्ट से रोज औसतन 63 फ्लाइट संचालित हो रही थीं.

मानसून में जन्नत से कम नहीं है ये स्थान, लीजिए यात्रा का आनंद

पिछले 7 दिन का यह रहा फ्लाइट संचालन का ट्रेंड
-28 जून को 15 फ्लाइट संचालित, 7 फ्लाइट रद्द
-29 जून को 15 फ्लाइट संचालित, 9 फ्लाइट रद्द
-30 जून को 15 फ्लाइट संचालित, 9 फ्लाइट रद्द
-1 जुलाई को 14 फ्लाइट संचालित, 8 फ्लाइट रद्द
-2 जुलाई को 12 फ्लाइट संचालित, 12 फ्लाइट रद्द
-3 जुलाई को 10 फ्लाइट संचालित, 12 हुई रद्द
-4 जुलाई को आज 14 फ्लाइट संचालित, 10 हैं आज रद्द

...फर्स्ट इंडिया के लिए काशीराम चौधरी की रिपोर्ट

इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए मानसून में इन चीजों को करें आहार में शामिल

इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए मानसून में इन चीजों को करें आहार में शामिल

जयपुर: मानसून का मौसम आ गया है. इस मौसम में अधिकांश बीमारियां अनजाने में खाने-पीने की लापरवाही की वजह से ही होती हैं. लेकिन अगर आप कुछ चीजों को अपने खान-पान में शामिल कर अपनी रोग प्रतिरोध क्षमता बढ़ा लें तो न सिर्फ इस मौसम की बीमारियों, बल्कि कोरोना वायरस संक्रण से भी बचा जा सकता है. ऐसे में इस बार कोरोना को ध्यान में रखते हुए आपको इस मौसम में अपने खान-पान पर पहले से भी ज्यादा ध्यान देना होगा. 

दुष्कर्म पीड़िता ने एसपी से लगाई न्याय की गुहार, सुनाई आपबीती 

अदरक: रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए यह शानदार चीज है. अदरक विटामिन A, C, E और B-complex का एक अच्छा माध्यम है. साथ ही इसमें मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, आयरन, जिंक, कैल्शियम और बीटा-कैरोटीन पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है. 

शहद का सेवन: सुबह खाली पेट गुनगुने पानी में एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है.

मौसमी फल: इन दिनों मौसमी फलों का सेवन जरूर करें. ये सभी फल विटामिन सी से भरपूर होते हैं. 

काली मिर्च: खांसी, जुकाम में इसका सेवन बहुत लाभकारी होता है.

हल्दी: हल्दी शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाती है. सर्दी, जुकाम या कफ की शिकायत हो तो हल्दी वाला दूध पीना लाभकारी होता है. 

लहसुन: लहसुन बड़े स्तर पर एक एंटीबायोटिक का काम करता है. यह बैक्टीरिया-रोधी, फफूंद-रोधी, परजीवी-रोधी व वायरस-रोधी है. यह बैक्टीरिया को खत्म करता है और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है. 

सूखा अनाज खाएं: मॉनसून के मौसम में सूखा और साबुत अनाज अपने भोजन में शामिल करें. इन दिनों इनके सेवन से रक्त में कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ता है और रोग-प्रतिरोधक क्षमता बेहतर होती है.  

अजमेर: क्रूरता की सारी हदें पार कर काटे गाय के चारों पैर, ग्रामीणों में गुस्सा  

जयपुर में दो सौ फीट ऊंचे मोबाइल टावर पर चढ़ा युवक, ठेकेदार पर पैसा नहीं देने का लगाया आरोप

जयपुर में दो सौ फीट ऊंचे मोबाइल टावर पर चढ़ा युवक, ठेकेदार पर पैसा नहीं देने का लगाया आरोप

जयपुर: राजधानी के MI रोड स्थित BSNL कार्यालय के पास आज सवेरे उस वक्त हंगाम हो गया जब करीब दो सौ फीट उंचे टावर पर एक युवक चढ़ गया. जानकारी मिलने पर पुलिस ने SDRF की टीम को मौके पर बुलाया. इस दौरान लाउड स्पीकर से युवक को घंटों तक समझाने का प्रयास किया गया. इस बीच SDRF की टीम ने नीचे जाल भी बिछाया और उसे उतारने के लिए मनाते रहे. 

VIDEO: टोंक में ड्यूटी पर कोर्ट परिसर में पुलिस कर्मी ने की आत्महत्या, परिजनों ने लगाए गम्भीर आरोप 

ठेकेदार पर पैसा नहीं देने का आरोप:  
पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक राजकुमार नाम का युवक बिहार का रहने वाला है. उसका कहना है कि वह काफी परेशान और दुखी है. वह ठेकेदार पर पैसा नहीं देने का आरोप लगा रहा है. साथ ही मांग कर रहा है कि जब तक ठेकेदार मेरे अकाउंट में मेरे पैसे नहीं डाल देता मैं नीचे नहीं आउंगा. वहीं परिजन ठेकेदार के पैसे नहीं देने पर खुद स्पीकर से पैसे देने की मांग कर रहे हैं. इसके साथ ही साथी मजदूर भी उससे लगातार नीचे उतरने की मांग कर रहे हैं. जिस टावर पर वह चढ़ा है वह शहर का सबसे उंचा टावर है. उसे उतारने के लिए बड़ी क्रेन भी मंगाई गई लेकिन बात नहीं बनी. मौजूद अधिकारियों की माने तो युवक सनकी किस्म का होना बताया जा रहा है. 

Rajasthan Corona Updates: आज 204 नए पॉजिटिव मामले आए सामने, मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 19,256

मीडियाकर्मी से बात करने के लिए उसे उपर बुलाया:
वहीं एक उसने एक मीडियाकर्मी से बात करने के लिए उसे उपर बुलाया. क्रेन की मदद से मीडियापर्सन को उपर भेजा गया लेकिन उसके बाद भी कोई बात नहीं बनी. पांच घंटे की मशक्कत के बाद भी वह नीचे नहीं उतरा. बाद में पुलिस ने उसके ठेकेदार को बुलाया और ठेकेदार ने भी उसे समझाया लेकिन उसके बाद भी राजकुमार उपर ही चढ़ा रहा. 

Open Covid-19