सीएम गहलोत ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- बढ़ती महंगाई मोदी सरकार की गलत नीति और नीयत का नतीजा

सीएम गहलोत ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- बढ़ती महंगाई मोदी सरकार की गलत नीति और नीयत का नतीजा

 सीएम गहलोत ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- बढ़ती महंगाई मोदी सरकार की गलत नीति और नीयत का नतीजा

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने बढ़ती महंगाई के लिए केन्द्र सरकार की गलत नीतियों और नीयत को जिम्मेदार बताया है. CM गहलोत ने कहा कि केन्द्र सरकार ने पिछले सात साल में महंगाई को कम करने के लिए कोई भी ठोस कदम नहीं उठाया जिसके कारण आज इतनी महंगाई हो गई है कि आम आदमी को अपना घर चलाना मुश्किल हो गया है. सीएम ने कहा कि लगातार बढ़ती महंगाई मोदी सरकार की गलत नीति और नीयत का नतीजा है.

कोविड के कारण लोगों की पहले ही आमदनी कम हुई:
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड के कारण पहले ही सभी की आमदनी कम हुई है एवं बढ़ती महंगाई ने आम आदमी के जेब खर्च का हिसाब बिगाड़ दिया है. सीएम गहलोत ने कहा कि यह दिखाता है कि केन्द्र सरकार बुरी तरह असफल हो गई है जिसके पास ना तो सही नीति है और ना ही साफ नीयत है. पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस से लेकर रोजमर्रा के इस्तेमाल की सभी चीजें महंगी होती जा रही हैं.

 

थोक महंगाई दर मई में बढ़कर रिकॉर्ड 12.94 फीसदी पर पहुंची:
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केन्द्र सरकार द्वारा जारी किए गए महंगाई के आंकड़ों पर बात करते हुए कहा कि अप्रैल में खुदरा महंगाई 4.23% पर थी जो मई में बढ़कर 6.30% हो गई. वहीं थोक महंगाई दर मई में बढ़कर रिकॉर्ड 12.94 फीसदी पर पहुंच गई. इसी प्रकार मई में खाद्य महंगाई 1.96% से बढ़कर 5.01% के स्तर पर पहुंच गई.

बाजार में आम आदमी के इस्तेमाल की वस्तुओं की कीमतों में हो रही जबरदस्त बढ़ोतरी:
सीएम गहलोत ने कहा कि यह दिखाता है कि बाजार में आम आदमी के इस्तेमाल की वस्तुओं की कीमतें किस तेजी से बढ़ी हैं. मीडिया में आई कोटक इंस्टिट्यूशन सिक्योरिटीज की जून माह की रिपोर्ट का उल्लेख कर मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि नहाने के साबुन की दरों में 8% से 20%, वाशिंग पाउडर की कीमतों में 3% से 10%, खाद्य तेल में 20% से 40%, चाय में 4% से 8% एवं बेबी फूड की कीमतों में 3% से 7% की वृद्धि हुई है. ये सभी रोजमर्रा में इस्तेमाल आने वाले जरूरी सामान हैं. सीएम गहलोत ने तंज कसते हुए कहा कि एक लीटर सरसों के तेल की कीमत 180-190 रुपये तक पहुंचना आम आदमी से भोजन छीनने जैसा है.

14 महिनों में बढ़ाए गए रसोई गैस के दाम:
हाल ही में 1 जुलाई को रसोई गैस सिलेंडर की कीमतों में हुई 25 रुपये की बढ़ोत्तरी पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि मोदी सरकार ने पिछले 14 महीने में रसोई गैस सिलेंडर के दाम 255 रुपये बढ़ा दिए हैं. गैस सब्सिडी भी अब पूरी तरह बन्द हो गई है. इससे आमजन खाना पकाने के लिए सिलेंडर छोड़कर पुनः कोयला और लकड़ी के इस्तेमाल को मजबूर हो रहे हैं.  

सीएम गहलोत ने कहा कि यूपीए के समय 450 रुपये का गैस सिलेंडर मोदी सरकार 838 रुपये में बेच रही है. उज्ज्वला योजना में सिलेंडर पाने वाले परिवार सरकार को अपना सिलेंडर वापस देना चाहते हैं. यह मोदी सरकार की जनविरोधी नीतियों का ही परिणाम है.

और पढ़ें