CM गहलोत की खुली VC में Vaccination पर हुई चर्चा: कहा-Rajasthan के Covid मैनेजमेंट को लेकर विदेशों तक चर्चा 

CM गहलोत की खुली VC में Vaccination पर हुई चर्चा: कहा-Rajasthan के Covid मैनेजमेंट को लेकर विदेशों तक चर्चा 

CM गहलोत की खुली VC में Vaccination पर हुई चर्चा: कहा-Rajasthan के Covid मैनेजमेंट को लेकर विदेशों तक चर्चा 

जयपुर: प्रदेश में कोरोना (Covid) के मामले कम होने के साथ ही अब वैक्सीनेशन (Vaccination) पर फोकस किया जा रहा है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने वीसी (VC) के जरिए पंचायत स्तर से लेकर ब्लॉक और जिला लेवल तक वैक्सीनेशन (Vaccination) पर संवाद किया. यूडीएच मंत्री शांति लाल धारीवाल (UDH Minister Shanti Lal Dhariwal) ने कहा- दूसरे राज्यों का हाल देखें तो राजस्थान में किसी नदी या बांध में आपको तैरती लाश नहीं मिलेगी. जाने किस किनारे लाश मिल जाए, यह दूसरे राज्यों का हाल है. विदेशों में भी यह पूछा जा रहा है कि राजस्थान में ऐसा क्या मैनेजमेंट किया.

कोरोना बहुरूपिया की तरह रंग बदलता है, दूसरी लहर ने हिला कर रख दिया: गहलोत

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि कोरोना के म्यूटेंट (Mutent) बदलते जा रहे हैं. डेल्टा वैरिएंट (Delta Variant) ने दूसरी लहर (Second Wave) में मृत्यु दर बढ़ा दी, यह बहुत घातक था. पहली वेव में तो लग रहा था कि भारत और आसपास के देशों में इम्यूनिटी ज्यादा थी, इस वजह से असर नहीं हुआ. दूसरी लहर ने हिलाकर रख दिया. दिल्ली में जयुपर गोल्डन अस्पताल में ऑक्सीजन (Oxygen) खत्म होने से 26 लोग मर गए, एक बार तो मैं भी जयपुर का नाम सुनकर हिल गया था. कोरोना बहुरूपिया की तरह रूप बदलता है. तीसरी लहर आएगी या नहीं, किसी को नहीं पता. दूसरी लहर भी अचानक आई थी. कह रहे हैं कि तीसरी लहर बच्चों को प्रभावित ​करेगी.

हम केंद्र के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट गए तब हुई फ्री वैक्सीनेशन की व्यवस्था:

प्रदेश के टीकाकरण कार्यक्रम में सहभागिता बढ़ाये जाने एवं जागरूकता हेतु राज्य स्तरीय ओपन वीसी।https://t.co/Db5jWhhj6R

— Ashok Gehlot (@ashokgehlot51) June 17, 2021

गहलोत ने कहा कि पहले राज्यों पर 18 साल से 44 साल वालों के वैक्सीनेशन का भार डाला. राजस्थान सहित तीन चार राज्यों को भारत सरकार (Indian Government) के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) जाना पड़ा. इसके बाद ही केंद्र पर दबाव पड़ा और फिर उसने वैक्सीनेशन का काम हाथ में लिया. भारत सरकार का कोरोना पैकेज डिफेक्टिव (Corona Package Defective) हे. अनाथ बच्चों को 18 साल बाद देने की बात कही है, 18 साल बाद किसने देखा तत्काल कुछ देना चाहिए. मैं इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री से बात करूंगा. राजस्थान सरकार ने कोविड से मरने वालों के लिए पैकेज घोषित किया है, जिसमें अनाथ बच्चे विधवा को तत्काल एक लाख रुपए और मासिक राशि देने का प्रावधान किया है.

और पढ़ें