कोविड-19: सीएम रावत बोले- एंबुलेंस, ऑक्सीजन, दवाओं की मूलभूत आवश्यकताओं को समय से पूरा किया जा रहा

कोविड-19: सीएम रावत बोले- एंबुलेंस, ऑक्सीजन, दवाओं की मूलभूत आवश्यकताओं को समय से पूरा किया जा रहा

कोविड-19: सीएम रावत बोले- एंबुलेंस, ऑक्सीजन, दवाओं की मूलभूत आवश्यकताओं को समय से पूरा किया जा रहा

देहरादून: उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने रविवार को कहा कि उनकी सरकार कोविड-19 की रोकथाम के लिए पूरी ताकत से काम कर रही है तथा कोरोना संक्रमितों के उपचार के लिए एंबुलेंस, ऑक्सीजन और रेमडेसिविर दवाओं जैसी 'मूलभूत आवश्यकताओं' को समय से पूरा किया जा रहा है.

कोरोना संक्रमितों की मदद के लिए अधिकारियों को सख्त निर्देशः
सोशल मीडिया पर प्रदेश की जनता के नाम अपने संदेश में मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि प्रदेश सरकार कोविड के उपचार और रोकथाम के लिए दवाओं तथा उपकरणों को बेहतर करने का कार्य अपनी पूरी ताकत से कर रही है और अधिकारियों को कोरोना संक्रमितों की मदद सुनिश्चित करने के लिए हर संभव कार्य करने के सख्त निर्देश दिए गए हैं. उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमितों के उपचार के लिए एंबुलेंस, ऑक्सीजन, दवाओं और उपकरणों जैसी मूलभूत आवश्यकताओं को समय से पूरा किया जा रहा है. मुख्यमंत्री ने कहा कि 27 अप्रैल को उन्होंने अहमदाबाद से 7500 रेमडेसिविर इंजेक्शन मंगवाए थे जबकि दो दिन पहले फिर 2000 इंजेक्शन की खेप मिल चुकी है. उन्होंने कहा कि इसके अलावा, 29 अप्रैल को सभी 13 जिलों में 108 सेवा के तहत 132 एंबुलेंस भेजी गईं जिनमें 26 ‘एडवांस लाइफ सपोर्ट’ और 96 ‘बेसिक लाइफ सपोर्ट’ उपकरणों से युक्त हैं.

सीएम ने प्रदेश की जनता को बताया अपना परिवारः
प्रदेश की जनता को 'अपना परिवार' बताते हुए रावत ने कहा कि आप सभी मेरा परिवार हैं और अपने परिवार की चिंता करना मेरा फर्ज है. मैं आपकी सेवा के लिए सदैव प्रयासरत और तत्पर रहूंगा. उन्होंने कहा कि वह स्वयं कोविड अस्पताल जाकर जमीनी स्थिति का जायजा ले रहे हैं, जनप्रतिनिधियों, सरकारी और निजी अस्पतालों के चिकित्सकों, उनके मालिकों तथा स्वयंसेवी संस्थाओं से लगातार बात कर रहे हैं और महामारी की रोकथाम के लिए मिल रहे सुझावों पर तुरंत कार्रवाई भी कर रहे हैं.

सीएम ने दी विधायक निधि से एक करोड़ रुपए तक के कोविड कार्य कराने की स्वीकृतिः
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार के सभी मंत्री और अधिकारी कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई में अग्रणी भूमिका निभा रहे हैं. उन्होंने कहा कि मैंने मंत्रियों को जिलेवार जिम्मेदारी सौंपी है. विधायकों को उनकी विधायक निधि से एक करोड़ रुपए तक के कोविड कार्य कराने की स्वीकृति दी है और उनसे अपने क्षेत्रों, खासकर, सुदूरवर्ती इलाके में रहने वाली जनता की मदद की अपेक्षा की है. उन्होंने कहा कि अधिकारियों से भी कहा गया है कि वह जनप्रतिनिधियों से बेहतर समन्वय कर कोविड के खिलाफ लड़ाई को और मजबूती दें.

उत्तराखंड को कोरोना महामारी के प्रकोप से बचाना सरकार का एकमात्र लक्ष्यः
रावत ने कहा कि मेरा और मेरी सरकार का एकमात्र लक्ष्य उत्तराखंड को कोरोना महामारी के प्रकोप से बचाना है. प्रत्येक नागरिक की सुरक्षा और उत्तम स्वास्थ्य हमारा परम धर्म है और इसे पूर्ण करने के लिए हम सभी संकल्पित हैं. उन्होंने कहा कि पहाड़ों तक संक्रमण न पहुंचे इसके लिए अगले आदेशों तक पर्यटकों के लिए चारधाम यात्रा स्थगित कर दी गई है.

कोविड-19 से लड़ने में प्रदेश को भरपूर सहयोग कर रही केंद्र सरकारः
मुख्यमंत्री ने कहा कि हालांकि, सभी मंदिरों के कपाट अपने नियत समय पर पूरे विधि विधान के साथ खुलेंगे और केवल तीर्थ पुरोहित ही वहां नियमित रूप से पूजा करेंगे. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार भी कोविड-19 से लड़ने में प्रदेश को भरपूर सहयोग कर रही है. उन्होंने जनता से कोरोना संक्रमण के लक्षण महसूस होने पर लापरवाही न बरतने और तत्काल जांच केंद्र पर जाकर जांच कराने का अनुरोध किया . उन्होंने कहा कि आपकी जरा सी सावधानी की वजह से अन्य कोई संक्रमण से बच सकता है. उन्होंने जनता से महामारी से संबंधित किसी भी प्रकार की अफवाहों पर ध्यान न देने का अनुरोध भी किया.

कोरोना योद्धाओं का सम्मान करें जनताः
'नरसेवा, नारायणसेवा' के मंत्र को लेकर प्रदेश में कार्य कर रहे कोरोना योद्धाओं के प्रति आभार व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री रावत ने जनता से भी उनका सम्मान करने का आग्रह किया और कहा कि वे स्वयं भी लोगों की यथासंभव मदद करें. उन्होंने लोगों से कोविड संक्रमण से बचाव के लिए टीका लगाने का अनुरोध करते हुए कहा कि प्रदेश में 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को कोविड टीका निशुल्क उपलब्ध कराया जा रहा है जबकि 18-45 वर्ग की आयुवर्ग के लिए भी निशुल्क टीकाकरण का महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया है.
सोर्स भाषा

और पढ़ें