कोरोना वायरस संक्रमणः पुणे में एक सप्ताह तक रेस्तरां, बार, मॉल रहेंगे बंद

कोरोना वायरस संक्रमणः पुणे में एक सप्ताह तक रेस्तरां, बार, मॉल रहेंगे बंद

कोरोना वायरस संक्रमणः पुणे में एक सप्ताह तक रेस्तरां, बार, मॉल रहेंगे बंद

पुणे: महाराष्ट्र के पुणे में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए तीन अप्रैल से सात दिन के लिए रेस्तरां, बार और भोजनालयों को बंद करने का निर्णय लिया गया है. एक वरिष्ठ अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि जिले में शाम छह बजे से सुबह छह बजे तक कर्फ्यू रहेगा और मॉल, सिनेमा हॉल, और धार्मिक स्थल सात दिन तक बंद रहेंगे. लगातार दो दिन में संक्रमण के आठ हजार से ज्यादा मामले सामने आने के बाद प्रशासन ने जिले में ये ‘‘कड़ी पाबंदियां’’ लगाई हैं. उप मुख्यमंत्री अजित पवार की अध्यक्ष में यहां हुई समीक्षा बैठक के दौरान इन पाबंदियों को लगाने के बारे में निर्णय लिया गया.

शात छह बजे से सुबह छह बजे तक कर्फ्यूः
पुणे मंडल के आयुक्त सौरभ राव ने कहा कि ये नई पाबंदियां शनिवार से अगले सात दिन तक जारी रहेंगी. इसके तहत शात छह बजे से सुबह छह बजे तक कर्फ्यू रहेगा. भोजनालय, बार और रेस्तरा बंद रहेंगे लेकिन घरों में खाना मंगाने की सुविधा जारी रहेगी. उन्होंने कहा कि मॉल, सिनेमा हॉल और धार्मिक स्थल सात दिन तक बंद रहेंगे. 

स्कूल और कॉलेज 30 अप्रैल तक बंदः
सौरभ राव ने कहा कि जिले में विवाह समारोह और अंतिम संस्कार को छोड़कर किसी भी प्रकार की जनसभा पर पाबंदी रहेगी. विवाह समारोह में केवल 50 लोगों के और अंतिम संस्कार में केवल 20 लोगों के शामिल होने की मंजूरी है. कर्फ्यू की अवधि में आवश्यक सेवाओं को छूट दी गई है. सौरभ राव ने कहा कि पुणे महानगर परिवहन महामंडल लिमिटेड और शहर की सार्वजनिक परिवहन तंत्र की बसें अगले सात दिन तक नहीं चलेंगी. इसके अलावा स्कूल और कॉलेज 30 अप्रैल तक बंद रहेंगे.

टीकाकरण की बढ़ाई जाएगी गतिः
सौरभ राव ने कहा कि ये निर्णय पिछले कुछ दिन में संक्रमण के मामले बढ़ने के मद्देनजर लिए गए हैं. स्थिति गंभीर हो रही है. पिछले एक सप्ताह में जिले में संक्रमण की दर 32 प्रतिशत को पार कर गई है. उन्होंने कहा कि सात दिन बाद स्थिति की समीक्षा की जाएगी और उसके बाद ही कोई निर्णय लिया जाएगा. उनके अनुसार अस्पताल में बेड की संख्या बढ़ाने के प्रयास किए जा रहे हैं. राव ने कहा कि संक्रमण के प्रभाव को कम करने के लिए टीकाकरण जरूरी है इसलिए आने वाले दिनों में टीकाकरण की गति बढ़ाई जाएगी.
सोर्स भाषा

और पढ़ें