CRPF मुख्यालय ने दिए पुलवामा हमले में कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी के आदेश

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/02/15 05:41

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकवादी हमले में शहीद होने वाले जवानों की तादाद अब 40 हो गई है। इस हमले को लेकर अब पूरे देश में आक्रोश दिखाई दे रहा है, वहीं शहीदों के परिवारों में मातम पसरा हुआ है। इसी बीच गृ​ह मंत्री राजनाथ सिंह ने आज पुलवामा का दौरा किया है। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने श्रीनगर में शहीदों को श्रद्दांजलि दी और उनकी पार्थिव देह को कंधा भी दिया। इस दौरान घाटी में मां भारती के लाल अमर रहे के नारे गूंज उठे। दूसरी ओर, मिल रही खबरों के मुताबिक बताया जा रहा है कि दिल्ली में सीआरपीएफ के मुख्यालय ने इस हमले को लेकर कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी (सीओआई) के ऑर्डर दे दिए हैं।

बताया जा रहा है कि पुलवामा हमले में शहीद होने वाले 38 जवानों की पहचान कर ली गई है और दो शवों की डीएनए तथा फॉरेंसिक जांच की जा रही है। शहीदों में सीआरपीएफ की रोड ओपनिंग पार्टी का एक जवान भी शामिल है, जो काफिले के लिए राजमार्ग से अवरोध हटाने का काम कर रहा था। हमले के बाद सीआरपीएफ ने कश्मीर घाटी और राज्य में अन्य स्थानों पर अपने सभी प्रतिष्ठानों को 'अति सतर्कता' बरतने का अलर्ट जारी किया है तथा अपनी ईकाइयों से पूरी तरह से तैयार रहने के लिए कहा है। 

गौरतलब है कि इससे पूर्व हमले को लेकर सीआरपीएफ ने इस हमले का करारा जवाब देने और बदला लेने की बात कही है। सीआरपीएफ ने अपने ट्वीटर हैंडल पर ट्वीट कर कहा कि, 'ना हम भूलेंगे और ना ही माफ करेंगे। पुलवामा हमले के शहीदों को हम सलाम करते हैं और अपने शहीद भाइयों के परिवारों के साथ खड़े हैं। इस जघन्य हमले का बदला लिया जाएगा।'

बता दें कि कल सीआरपीएफ के 2,500 से अधिक जवान 78 वाहनों के काफिले में यात्रा कर रहे थे। जब आतंकवादियों ने बृहस्पतिवार को दोपहर करीब 3 बजकर 15 मिनट पर श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग पर दक्षिण कश्मीर के अवंतिपुरा के लातूमोड़ में घात लगाकर हमला किया। ज्यादातर जवान छुट्टी बिताने के बाद ड्यूटी पर लौट रहे थे। यह हमला श्रीनगर से करीब 20 किलोमीटर दूर हुआ। पुलिस ने फिदायीन हमलावर की पहचान आदिल अहमद के रूप में की है, जो कि पिछले साल ही जैश-ए-मोहम्मद में शामिल हुआ था।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in