जयपुर मंत्रिमंडल विस्तार और नियुक्तियों की सुगबुगाहट ! गहलोत-पायलट कैंप के नेता कर रहे दिल्ली के दौरे

मंत्रिमंडल विस्तार और नियुक्तियों की सुगबुगाहट ! गहलोत-पायलट कैंप के नेता कर रहे दिल्ली के दौरे

जयपुर: प्रदेश में एक बार फिर मंत्रिमंडल विस्तार और नियुक्तियों की सुगबुगाहट तेज हो गई है. राजस्‍थान में अब जल्द ही बड़े स्तर पर राजनीतिक नियुक्तियां (political appointments) और मंत्रिमंडल विस्तार (Cabinet expansion) होने की संभावना जताई जा रही है. गहलोत-पायलट कैंप के नेता लगातार दिल्ली के दौरे कर रहे हैं. कल मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी होम क्वॉरंटीन खत्म कर लिया. मुख्यमंत्री गहलोत लगातार विधायकों से फीडबैक ले रहे हैं. 

मुख्यमंत्री ने कई विधायकों से की फोन पर बात: 
इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने कई विधायकों से फोन पर बात की है. इस दौरान उन्होंने मंत्रियों के दौरों, उनके कामकाज, बजट घोषणाओं को लेकर ब्यूरोक्रेसी की सक्रियता और जिला अध्यक्षों की नियुक्ति को लेकर फीडबैक लिया है. मुख्यमंत्री गहलोत मंत्रियों का परफॉर्मेंस रिपोर्ट कार्ड बना चुके हैं. रिपोर्ट कार्ड के आधार पर कई मंत्रियों की छुट्टी या विभागों में बदलाव होने की संभावना जताई जा रही है. 

जल्द मसला खत्म करना चाहता है आलाकमान:
आपको बता दें कि सचिन पायलट ने हाल ही में सुलह कमेटी द्वारा की जा रही देरी को लेकर सवाल उठाए थे. सचिन पायलट चाहते हैं कि उनके लोगों को जल्द से जल्द मंत्रिमंडल और राजनीतिक नियुक्तियों में जगह दी जाए. आलाकमान भी अब इस मुद्दे को लेकर गंभीर है. वहीं पायलट खेमे की ओर से हुई बयानबाजी से भी पार्टी में विपरीत माहौल बना था. जिसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है. 

डैमेज कंट्रोल की हो रही है कवायद:
मंत्रिमंडल विस्तार और फेरबदल होने पर विधायकों की नाराजगी बड़े स्तर पर सामने आने की संभावना जताई जा रही है. पार्टी इसे लेकर फूंक-फूंक कर कदम रख रही है. दरअसल सचिन पायलट अपने लोगों की मंत्रिमंडल में एंट्री करवाना चाहते हैं. वहीं दूसरी ओर सियासी संकट के दौरान सरकार का साथ देने वाले कई विधायक भी मंत्री बनने का सपना संजोए हुए हैं. बसपा से कांग्रेस में आए विधायकों को भी मंत्रिमंडल में जगह मिलने का इंतजार है, तो सरकार का साथ देने वाले कुछ निर्दलीय विधायक भी इस कतार में हैं. जबकि मंत्रिमंडल में खाली पद केवल 9 हैं. इसे लेकर पहले ही मन टटोले जा रहे हैं साथ ही ऐसा फॉर्मूला लाने की भी कवायद हो रही है. जिससे कम से कम डैमेज हो.

और पढ़ें