दिव्यांगों के लिए परेशानियों का सबब बना शिविर 

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/09/16 02:33

भीनमाल (जालोर)। राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद जयपुर द्वारा समावेशी शिक्षा अंतर्गत मेडिकल कम फंक्शन कैंप का आयोजन स्थानीय सदर बाजार स्कूल में किया गया। दो दिवसीय दिव्यांग शिविर में भीनमाल, रानीवाड़ा, सांचौर, चितलवाना, बागोड़ा से सैकड़ों दिव्यांगों ने भाग लिया। लेकिन उसका फायदा ना के बराबर रहा। शिविर में कान, नाक गले के डॉक्टर उपस्थित नहीं हुए, जबकि ऑर्थोपेडिक डॉ. प्रकाश बिश्नोई ने अपने आपको नई पोस्टिंग बताते हुए अनुभव नहीं होने से प्रमाण पत्र बनाने से मना कर दिया। इसके चलते शिक्षा विभाग और चिकित्सा विभाग के अधिकारियों में भी तकरार सामने आई।

शिविर में दूर दूर से आए स्कूली बच्चों को समस्त चिकित्सा सुविधा एवं दिव्यांगता प्रमाण पत्र उपलब्ध करवाने को लेकर बुलाया गया था,लेकिन शिविर में आने के बाद उनको जालोर आने के लिए कहा गया। यहां तक कि डॉक्टर एवं शिक्षा विभाग के अधिकारी भी अपने बयान देने से चेहरा छुपाते नजर आए। शिविर महज खानापूर्ति के लिए ही लगाया गया, जिसमें मात्र भोजन के पैकेट बांट के इतिश्री कर दी गई। जो लाभ दिव्यांगों को मिलना था वह नहीं मिल पाया और लाखों रुपए शिविर के नाम पर बर्बाद किए गए। कहीं दिव्यांग बच्चे प्रमाण पत्र के लिए एक काउंटर से दूसरे काउंटर तक भटकते नजर आए। साथ ही उनके साथ आए अभिभावक भी परेशान होते नजर आए। कई गंभीर दिव्यांग बच्चे भी डॉक्टर की लापरवाही के चलते निराश ही वापस घर की तरफ लौट गए।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in