दिलीप कुमार की उदारता को कभी नहीं भूल सकता: पाक प्रधानमंत्री इमरान खान

दिलीप कुमार की उदारता को कभी नहीं भूल सकता: पाक प्रधानमंत्री इमरान खान

दिलीप कुमार की उदारता को कभी नहीं भूल सकता: पाक प्रधानमंत्री इमरान खान

इस्लामाबाद: पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान (PM Imran Khan) ने भारतीय सिनेमा (Indian cinema) के दिग्गज अभिनेता दिलीप कुमार (Veteran Actor Dilip Kumar) के निधन पर बुधवार को अफसोस जताते हुए कहा कि वह उनकी उदारता को कभी नहीं भूल पाएंगे जो उन्होंने उनकी मां की याद में कैंसर अस्पताल बनाने के लिए धन जुटाने में मदद करके दिखाई थी. भारतीय सिनेमा के दिग्गज अभिनेता कुमार का बुधवार सुबह मुंबई के एक अस्पताल में निधन हो गया. 98 वर्षीय कुमार लंबे समय से बीमार थे.

दिलीप कुमार के इंतकाल के बारे में जानकर दुख हुआ:
खान ने ट्वीट किया है कि दिलीप कुमार के इंतकाल के बारे में जानकर दुख हुआ. जब एसकेएमटीएच परियोजना शुरू की गई थी तो इसके लिए रकम जुटाने में मदद करने के लिए अपना वक्त देकर उन्होंने जो फिराखदिली दिखाई थी उसे मैं कभी नहीं भूल सकता. 

मेरी पीढ़ी के लिए दिलीप कुमार महानतम और सर्वाधिक बहुमुखी अभिनेता थे:
उन्होंने कहा कि कोष जुटाने के लिए बहुत मुश्किल वक्त था और पाकिस्तान तथा लंदन में उनकी मौजूदगी की वजह से बड़ी रकम जुटाई गई. खान ने कहा कि इसके अलावा, मेरी पीढ़ी के लिए दिलीप कुमार महानतम और सर्वाधिक बहुमुखी अभिनेता थे. शौकत खानम मेमोरियल कैंसर अस्पताल एवं अनुसंधान केंद्र (एसकेएमसीएच एंड आरसी) लाहौर और पेशावर में स्थित अत्याधुनिक कैंसर अस्पताल है. लाहौर स्थित एसकेएमसीएच एंड आरसी शौकत खानम मेमोरियल ट्रस्ट की पहली परियोजना थी और यह क्रिकेटर से सियासत में आए खान का विचार था. 1985 में खान की मां शौकत खानम का कैंसर से इंतकाल हो गया था जिसके बाद उन्हें यह अस्पताल बनाने की प्ररेणा मिली.

दिलीप कुमार का जन्म 11 दिसंबर 1922 में पेशावर के किस्सा खवानी बाजार इलाके में हुआ था. पाकिस्तान सरकार पहले ही उनके पुश्तैनी घर को राष्ट्रीय धरोहर घोषित कर चुकी है और उनके नाम पर इसे एक संग्रहालय में तब्दील करने की सारी औपचारिकताएं पूरी हो चुकी हैं.

और पढ़ें