Live News »

मेहंदीपुर बालाजी में नाबालिग के साथ हुए यौन उत्पीड़न का प्रकरण पुलिस के लिए बना पहेली

मेहंदीपुर बालाजी में नाबालिग के साथ हुए यौन उत्पीड़न का प्रकरण पुलिस के लिए बना पहेली

दौसा: जिले के मेहंदीपुर बालाजी में एक दिव्यांग नाबालिग के साथ हुए यौन उत्पीड़न की सनसनीखेज घटना पुलिस के लिए पहेली बनी हुई है. नाबालिग अपने पिता के साथ बिहार के पटना से आई थी. लेकिन उसे अत्यधिक गंम्भीर हालत में बालाजी से महवा व महवा से जयपुर एसएमएस अस्पताल रैफर किया गया था. जयपुर में डाक्टर्स की टीम ने ऑपरेशन के बाद नाबालिग को आईसीयू में रखा है.

सिस्टम की लापरवाही आ रही है सामने:  
वहीं पुलिस ने आनन-फानन में अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ मामले की रिपोर्ट दर्ज की है. नाबालिग के साथ यौन उत्पीड़न हुआ है या फिर इलाज के नाम पर यौन यातनाएं दी गई इसका खुलासा पीड़िता का बयान दर्ज होने के बाद ही होगा. मामले की गहनता से जांच करने के लिए पुलिस मेडिकल रिपोर्ट का इंताजर कर रही है. लेकिन यह तय है कि इस मासूम के साथ जो भी हुआ वह दरिंदगी की इंतहा है. इस मामले में सिस्टम की भी लापरवाही सामने आ रही है. नाबालिग के जयपुर पहुंच जाने तक पुलिस को मामले की जानकारी नहीं होना भी बड़ी लापरवाही है. अब प्रकरण को लेकर बालाजी पुलिस को एसएमएस अस्पताल में तैनात किया गया है. 
 

और पढ़ें

Most Related Stories

आस्था धाम मेहंदीपुर बालाजी में दशहरा मेला महोत्सव परवान पर

आस्था धाम मेहंदीपुर बालाजी में दशहरा मेला महोत्सव परवान पर

मेहंदीपुर बालाजी(दौसा): आस्था धाम मेहंदीपुर बालाजी में दशहरा मेला महोत्सव परवान पर है. भक्त बालाजी की पताका लहराते हुए देश के कोने कोने से धार्मिक नगरी मेहंदीपुर बालाजी में पहुंच रहे हैं. आस्था धाम दौसा व करौली 2 जिलों में विभाजित है ऐसे में मंदिर ट्रस्ट ने श्रद्धालुओं की अतिरिक्त सुरक्षा व्यवस्था के लिए करौली एवं दौसा दोनों ही जिले के कलक्टर व एसपी से मंदिर निर्माण कार्य के चलते व दशहरा  महोत्सव में अधिक संख्या में श्रद्धालुओं के आने को लेकर अतिरिक्त सुरक्षा व्यवस्था की मांग की थी. ऐसे में दौसा जिले की तरफ से पुलिस प्रशासन का अतिरिक्त जाब्ता पिछले कई दिनों से तैनात है.

कई जेब तराशी की घटनाएं भी हुई: 
वही मंदिर दर्शन को आने वाले श्रद्धालुओं को करौली जिले की तरफ अतिरिक्त जाब्ता सिर्फ 1 दिन ही तैनात रहा, अतिरिक्त पुलिसकर्मियों की तैनाती नहीं होने से श्रद्धालुओं को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा. आज करौली जिले की तरफ से कई जेब तराशी की घटनाएं भी मंदिर ट्रस्ट के कार्यालय में दर्ज हुई. वहीं समाधि वाले रास्ते में स्थानीय दुकानदारों के दिन प्रतिदिन बढ़ रहे अतिक्रमण से रास्ता सकरा हो गया है ऐसे में श्रद्धालुओं को पैदल निकलने की राह में भी रोडे पड़ रहे हैं, हालांकि होली के समय प्रशासन द्वारा अतिक्रमणकारियों को हटा दिया गया था लेकिन सुस्त रवैया के चलते अब फिर से अतिक्रमण फैल गया है. 

Open Covid-19