श्रीनगर के शेर-ए-कश्मीर स्टेडियम में मनाया जा रहा आजादी का जश्न

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/08/15 10:24

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के लिए इस बार का स्वतंत्रता दिवस बेहद खास है. आर्टिकल 370 पर लिए गए फैसले और केंद्र शासित प्रदेश बनाए जाने के बाद ये पहला स्वतंत्रता दिवस है. मुख्य कार्यक्रम श्रीनगर के शेर-ए-कश्मीर स्टेडियम में आयोजित किया गया है, जिसमें जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने वहां की जनता को संबोधित किया. 

370 में बदलाव एक ऐतिहासिक फैसला:
स्वतंत्रता दिवस मद्देनजर घाटी में सुरक्षा को लेकर कड़ी सावधानी बरती जा रही है. हालांकि बीते कई दिनों से घाटी में जारी धारा 144 आज भी लागू रहेगी, लेकिन राहत भरी बात यह है कि जश्न मनाने के लिए हर किसी को छूट दी जा रही है. सत्यपाल मलिक ने अपने संबोधन में कहा कि केंद्र सरकार की ओर से किया गया अनुच्छेद 370 में बदलाव एक ऐतिहासिक फैसला है. जम्मू-कश्मीर में इससे विकास के नए द्वार खुलेंगे और कश्मीर के लोगों को इसका लाभ मिलेगा. सत्यपाल मलिक ने कहा कि मैं जम्मू-कश्मीर के लोगों से यह कहना चाहता हूं कि आपकी पहचान खतरे में नहीं है. इससे कोई छेड़छाड़ नहीं की गई है, भारत का संविधान हर राज्य के स्थानीयता को फलने-फूलने का मौका देता है. 

राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने किया ध्वाजारोहण:
बता दें कि 73वें स्वतंत्रता दिवस पर जम्मू और कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने शेर-ए-कश्मीर स्टेडियम में ध्वाजारोहण किया. इस दौरान उन्होंने परेड में हिस्सा भी लिया राज्यपाल के संबोधन के दौरान कश्मीर भारी संख्या में लोग मौजूद रहे.

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in