Live News »

जोधपुर के केंद्रीय शुष्क अनुसंधान केंद्र ने बनाए आंवले के लड्डू
जोधपुर के केंद्रीय शुष्क अनुसंधान केंद्र ने बनाए आंवले के लड्डू

जोधपुर: लड्डू आपने कई अलग-अलग तरह के खाये होंगे मगर पहली बार ऐसा अनुठा प्रयोग करते हुए जोधपुर के केन्द्रीय शुष्क अनुसंधान केन्द्र द्वारा आंवले के लड्डू बनाए है जिसकी वर्तमान में मार्केट वेल्यु काफी अच्छी तो है ही साथ ही इसकी जो रेसेपी है उसको जो किसान परिवार की महिलाएं होती है उनको भी सिखाई जाएगी जिससे उनके लिए यह काफी कारगर साबित होता नजर आएगा. आंवला विटामिन सी और आयरन से भरपूर है और यह हमारे बालों के लिए भी बहुत अच्छा होता है. 

आंवले को लेकर को लेकर कई तरह के नवाचार किए: 
बच्चे आमतौर पर आंवला खाना पसंद नहीं करते, लेकिन अगर आप उन्हें यह जायकेदार आंवला लड्डू खिलाएंगे तो यह उन्हें बहुत पसंद आएंगे. काजरी की वैज्ञानिक सविता सिंघल ने जिस तरह से यह नया प्रयोग किया है तो वही काजरी की प्रधान वैज्ञानिक प्रतिभा तिंवारी द्वारा भी आंवले की कैंडी से लेकर आंवले का मुरब्बा जैसे प्रोडक्ट तैयार किए है. वैज्ञानिक सविता सिंघल ने बताया कि हमने पहले वनस्पति विद्या पीठ से इस रेसेपी को लिया और उसके बाद हमने इसमें कई तरह के नवाचार किया है और आवला विटामीन सी से भरपूर होता है तो इसके खट्टे होने के कारण इसको कच्चा नही खाया जा सकता है ऐसे में इसका फायदा केसे मिले इसके लिए हमने यह नवचार किया.

महिला घर पर भी आंवलें के लड्डू बना सकती हैं:
इस नए प्रयोग से जो किसान परिवार की महिलाएं है वह भी घर पर इसको बना सकती है. गौरतलब है कि सर्दियों में आने वाला आंवला आंखें, पेट, हृदय, किडनी व दिमाग की सेहत दुरुस्त रखता है. इसमें विटामिन-सी, अमीनो एसिड, एंटीऑक्सीडेंट व कई अन्य तत्त्व होते हैं. लड्डू, जैम, माउथफ्रेशनर, अचार, मुरब्बा के रूप में आंवला खाने पर कफ, पित्त व वात संतुलित रहता है.  

...फर्स्ट इंडिया न्यूज संवाददाता राजीव गौड़ की रिपोर्ट

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें
और पढ़ें

Stories You May be Interested in