एंटीजन टेस्ट पर पुनर्विचार करें केन्द्र सरकार, चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा के निर्देश पर केन्द्र को लिखा गया पत्र

एंटीजन टेस्ट पर पुनर्विचार करें केन्द्र सरकार, चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा के निर्देश पर केन्द्र को लिखा गया पत्र

एंटीजन टेस्ट पर पुनर्विचार करें केन्द्र सरकार, चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा के निर्देश पर केन्द्र को लिखा गया पत्र

जयपुर: राजस्थान में रैपिड एंटीजन टेस्ट पर उठे सवाल को लेकर प्रमुख चिकित्सा सचिव अखिल अरोड़ा ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव और आईसीएमआर के महानिदेशक प्रोफेसर बलराम भार्गव को पत्र लिखा है. चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा के निर्देश पर लिखे गए पत्र में रेपिड एंटीजन डिटेक्शन टेस्ट की गुणवत्ता में सुधार व इस पर पुनर्विचार के लिए कहा गया है.अरोड़ा ने पत्र के जरिए बताया कि राजस्थान में कोरोना की रोकथाम के लिए व्यापक स्तर पर प्रयास किए जा रहे हैं.

केवल 50 से 84 फीसदी टेस्ट ही सही पाए गए:
इस महामारी को रोकने के लिए राज्य सरकार ने ज्यादा से ज्यादा जांचें करने को प्राथमिकता में रखा.यही वजह है कि प्रदेश में प्रतिदिन 45 हजार से ज्यादा आरटीपीसीआर जांच करने की क्षमता विकसित कर ली है.उन्होंने बताया कि जांचों में और अधिक तेजी लाने के लिए आईसीएमआर द्वारा अधिकृत रैपिड एंटीजन डिटेक्शन टेस्ट को भी काम में लिया गया.उन्होंने बताया कि जांचों के मामले में रैपिड एंटीजन डिटेक्शन टेस्ट पूरी तरह खरा नही उतरा और केवल 50 से 84 फीसदी टेस्ट ही सही पाए गए.उन्होंने बताया कि सवाई मानसिंह अस्पताल के माइक्रोबायोलॉजी विभाग द्वारा भी इन रेपिड एंटीजन डिटेक्शन टेस्ट की जांच की गई तो ये टेस्ट पूरी तरह खरे नहीं उतरे.प्रमुख शासन सचिव ने बताया कि कम सेंसटीविटी होने के कारण तकनीकी कमेटी ने रेपिड एंटीजन डिटेक्शन टेस्ट को व्यापक स्तर पर अस्पतालों में इस्तेमाल नहीं करने की सलाह दी है.

बीकानेर: महिला के ब्लाइंड मर्डर का खुलासा, JNVC पुलिस ने 3 आरोपियों को किया गिरफ्तार 

कोरोना की रोकथाम में निभाई प्रभावी भूमिका:
उन्होंने बताया कि यदि एंटीजन टेस्ट से कोई असिंप्टोमेटिक व्यक्ति पॉजिटिव होने के बाद भी नेगेटिव भी बताया जाता है और वह सामाजिक कार्यों में पहले की ही तरह सक्रिय रहता है तो ऐसे केसेज संक्रमण के प्रसार की वजह बन सकते हैं. उन्होंने कहा कि एंटीजन टेस्ट के बाद भी आरटीपीसीआर टेस्ट करना पड़े तो ऐसे में इस टेस्ट की कोई प्रासंगिकता नहीं रहती.अरोड़ा ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और आईसीएमआर को को रैपिड एंटीजन डिटेक्शन टेस्ट द्वारा की जाने वाली जांचों पर पुनर्विचार करते हुए टेस्ट किट बनाने वाली कंपनियों को गुणवत्ता में सुधार करने का आग्रह किया है, ताकि कोरोना की रोकथाम में प्रभावी भूमिका निभाई जा सके.

विवाद खत्म होने के बाद सचिन पायलट ने की मुख्यमंत्री गहलोत से मुलाकात, आज होगी कांग्रेस विधायक दल की बैठक

और पढ़ें