जयपुर कोटा चंबल नदी कार हादसा मामला: दूल्हे समेत 9 बारातियों की मौत, मृतकों के आश्रितों के लिए मुआवजे का ऐलान 

कोटा चंबल नदी कार हादसा मामला: दूल्हे समेत 9 बारातियों की मौत, मृतकों के आश्रितों के लिए मुआवजे का ऐलान 

कोटा चंबल नदी कार हादसा मामला: दूल्हे समेत 9 बारातियों की मौत, मृतकों के आश्रितों के लिए मुआवजे का ऐलान 

जयपुर: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पीडब्ल्यूडी मंत्री  भजनलाल जाटव को घटनास्थल पर जाने के निर्देश दिए हैं. कोटा हादसे में प्रत्येक मृतक के आश्रित को 2 लाख रुपए की सहायता राशि एवं एक परिवार से दो या अधिक मृतकों पर अधिकतम 5 लाख रुपए की सहायता राशि प्रदान किये जाने के निर्देश दिए हैं. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने घटना पर शोक व्यक्त किया है. गहलोत ने ट्वीट किया, कोटा में बारातियों की कार चंबल नदी में गिरने से दूल्हे सहित नौ लोगों की मौत होना बेहद दुखद एवं दुर्भाग्यपूर्ण है. मैंने जिलाधिकारी से बात करके पूरी घटना की जानकारी ली है. मेरी गहरी संवेदनाएं शोकाकुल परिजनों के साथ हैं. ईश्वर उन्हें यह आघात सहने की शक्ति दें और दिवंगतों की आत्मा को शांति प्रदान करें.

आपको बता दें कि बारातियों को लेकर मध्य प्रदेश जा रही एक कार के रविवार को यहां चंबल नदी में गिर जाने से नौ लोगों की मौत हो गई. पुलिस ने बताया कि मृतकों में दूल्हा भी शामिल है.पुलिस अधीक्षक (शहर) केसर सिंह शेखावत ने बताया कि यह हादसा रविवार तड़के नयापुरा पुलिस थाना इलाके में उस समय हुआ, जब चालक ने वाहन पर से नियंत्रण खो दिया और कार पुल से नदी में गिर गई.

उन्होंने बताया कि पुलिस को इस घटना के बारे में सुबह सात बजकर 50 मिनट पर सूचना मिली, जिसके बाद बचाव अभियान शुरू किया गया.शेखावत ने बताया कि नदी में सात-आठ फुट गहराई में डूबी कार से शुरुआत में सात शवों को बाहर निकाला गया. बाद में दो और शवों को बरामद किया गया.

उन्होंने बताया कि बाराती राजस्थान में सवाई माधोपुर जिले के चौथ का बरवाड़ा गांव से मध्य प्रदेश के उज्जैन जा रहे थे. उन्होंने कहा कि संभवत: झपकी लगने के कारण चालक ने कार पर से नियंत्रण खो दिया.पुलिस अधिकारी ने बताया कि बचाव अभियान जारी है.उन्होंने बताया कि शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए शवगृह में रखा गया है.

 

और पढ़ें