श्रदालुओं के लिए खुशखबरी: आज से होगी चार धाम यात्रा की शुरुआत, भक्तों को कोविड प्रोटोकोल का सख्ती से करना होगा पालन

श्रदालुओं के लिए खुशखबरी: आज से होगी चार धाम यात्रा की शुरुआत, भक्तों को कोविड प्रोटोकोल का सख्ती से करना होगा पालन

श्रदालुओं के लिए खुशखबरी: आज से होगी चार धाम यात्रा की शुरुआत, भक्तों को कोविड प्रोटोकोल का सख्ती से करना होगा पालन

उत्तराखंड: चार धाम की यात्रा करने वाले श्रदालुओं के लिए एक बार फिर सुखद खबर आ गई है. उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने घोषणा की है कि इच्छुक श्रदालुओं के लिए चार धाम के कपाट खोल दिए गए है. शनिवार से चार धाम यात्रा की शुरुआत करते हुए शुक्रवार देर शाम प्रशासन ने मानक प्रचालन कार्यविधि ( SOP ) जारी की है. जिसका सभी भक्तों को कड़ी सख्ती से पालन करना होगा. 

रोजाना कितने भक्त कर सकेंगे दर्शन:
बता दे कि गुरुवार को ही उत्तराखंड हाइकोर्ट ने चार धाम यात्रा पर लगी रोक को हटा दिया था. लेकिन सुनवाई में मुख्य न्यायाधीश की खंडपीठ ने कहा कि केदारनाथ धाम में रोजाना 800 श्रदालु, बद्रीनाथ धाम में 1200, पवित्र गंगोत्री में 600 तो वहीं पावन यमुनोत्री धाम में 400 भक्तों को जाने की अनुमति है. अदालत के इस फैसले के बाद सीएम सीएम पुष्कर सिंह धामी ने भी ट्वीट कर यह साफ कर दिया कि 18 सितंबर यानी की शनिवार से चार धाम यात्रा की सुखद शुरुआत की जाती है. 

भक्तों को इन बातों का रखना होगा विशेष ध्यान:
यात्रा पर जाने वाले भक्तों के लिए शुक्रवार देर सरकार की ओर से कोरोना महामारी को निंयत्रण में रखने के लिए मानक प्रचालन कार्यविधि ( SOP) जारी की गई है. जिसमें साफ तौर पर स्पष्ट है कि कोविड प्रोटोकाल का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा. चार धाम में दर्शन करने के लिए भक्तों को देवधाम बोर्ड पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा, और पंजीकरण और ई-पास अपने पास रखना अनिवार्य होगा. सभी यात्रियों के कोविड वैक्सीन की दोनो डोज लगी होनी चाहिए और उसका सर्टिफिकेट या कोरोना जांच की निगेटिव रिपोर्ट जरूर साथ रखनी होगी. मंदिरों के अंदर एक बार में 3 ही श्रद्धालुओं को ही दर्शन की अनुमति दी जाएगी. साथ ही यात्रा के दौरान किसी भी भक्त को कुंड में स्नान करने की इजाजत नहीं मिलेगी. 

अतिरिक्त पुलिस फोर्स करें तैनात:
यात्रा में किसी भी तरह की अंशाति ना हो इसके लिए सीएम धामी ने चमोली, रुद्रप्रयाग, उत्तरकाशी जिलों में पुलिस को अलर्ट कर दिया है. साथ ही हाईकोर्ट ने साफ तौर पर कहा है कि जरूरत के अनुसार अतिरिक्त पुलिस फोर्स भी लगाएं ताकि भक्तों की यात्रा में किसी तरह की परेशानी का सामना ना करना पड़े. यात्रा से संबंधित सभी व्यवस्थाओं को शांति प्रिय बनाए रखने के लिए यात्रा मार्गों पर स्थापित चेकपोस्ट में जांच की जाएगी. दरअसल, कोरोना के बढ़ रहे प्रकोप को देखते हुए 26 जून को हुई सुनवाई में उतराखंड हाईकोर्ट ने चार धाम की यात्रा पर रोक लगाई थी.
 

और पढ़ें