VIDEO: बिछ गई राज्यसभा चुनाव की चौसर, 3 सीटों पर कुछ इस तरह रहेगा गणित

VIDEO: बिछ गई राज्यसभा चुनाव की चौसर, 3 सीटों पर कुछ इस तरह रहेगा गणित

जयपुर: राजस्थान में राज्यसभा चुनाव की चौसर बिछ गई है. 3 सीटों पर 4 उम्मीदवार  चुनावी समर में उतरे है, दो भाजपा से और दो कांग्रेस से. कांग्रेस के आग्रह और अनुनय के बावजूद बीजेपी ने ओंकार सिंह लखावत का नाम वापिस नहीं कराया. जाहिर है नम्बर गेम का खेल चलेगा और दूसरे राज्यों की बाड़ेबंदी का गवाह बने हुये राजस्थान में अब यहीं की पार्टियों को अपने विधायकों को ठहराना पड़ेगा. 

प्रदेश में 3 नए कोरोना पॉजिटिव, गहलोत सरकार का बड़ा फैसला, प्रदेश में धारा 144 लागू

एक सीट को जीतने के लिए कितने वोट चाहिए?
दरअसल, प्रदेश की तीन सीटों पर हो रहे चुनाव को लेकर पूरे 200 विधायकों के मान्य वोट हैं. प्रदेश की इन तीनों सीटों की बात करें तो हर एक सीट को जीतने के लिए प्रथम वरीयता के लिए 51 वोट चाहिए. कांग्रेस ने दोनों उम्मीदवारों को बराबरी का वोट दिलाने की रणनीति बना ली है. चुनाव निर्विरोध नहीं होने को अब कांग्रेस ने प्रतिष्ठा का विषय बना लिया है. 

सत्ताधारी दल के पास वोटों की गणित की बात करे तो: 
कांग्रेस - 107
निर्दलीय - 13
बीटीपी-2
आरएलडी-1
सीपीएम - 2
कांग्रेस +=125 

--बीजेपी +
72 वोट
RLP - 2
कुल वोट-74

तय फॉर्मूले के अनुसार कांग्रेस को दो सीट जीतने के लिए 102 वोट चाहिए जो कि पर्याप्त रूप से उसके पास हैं. वहीं बात करते है कि भाजपा के पास सदन में 72 विधायक हैं, ऐसे में प्रथम वरीयता के 51 वोट चाहिए लिहाजा भाजपा के खाते में भी एक सीट आने वाली है. दो सीटों पर बीजेपी की जीत की संभावना तभी है जब निर्दलियों और कांग्रेस कैम्प में सेंध लगे. 

ईरान से तीसरी बार भारतीयों का दल पहुंचा जैसलमेर, एयरपोर्ट पर हुई सभी की स्क्रीनिंग

बीजेपी की रणनीति: 
- असंतुष्ट कांग्रेस विधायकों का समर्थन जुटाना
- लेकिन वोट दिखाकर देना होगा
- कांग्रेस विधायक दल के व्हीप का पालन करना अनिवार्य होगा
- क्रास वोट, अनुपस्थित और पेन/स्याही की गलती करने पर ही बीजेपी को लाभ
- निर्दलीय विधायकों का वोट गोपनीय होता है दिखाकर और नहीं दिखाकर दोनों तरीके से वोट दे सकते है
- बीजेपी की कोशिश निर्दलियों के वोट में सेंध लगे, हालांकि कार्य आसान नहीं है

बहरहाल चुनाव तो चुनाव ही है... रिसोर्ट राजनीति में अब राजस्थान की सियासत का अध्याय शुरु होगा चाहे बीजेपी हो या कांग्रेस.

...फर्स्ट इंडिया के लिए योगेश शर्मा की रिपोर्ट 

और पढ़ें